Gurugram

1947 के विभाजन का दर्द, बुजुर्गों की जुबानी – द्वारका दास कथूरिया

1947, India, Dwarka Das Kathuria

 

Viral Sach – 15 अगस्त, 1947 के बाद डेरा गाजी खान में एक वर्ग हिन्दुओं के मकान-दुकान जलाने लगे, रात को हिन्दुओं पर हमला करते, हिन्दू भी संगठित हो कर हाथ में डंडे, भाले, तलवार लेकर पहरा देते हुए मूँह-तोड़ जवाब देते | इधर गाँवों में घायल लोगों से सिविल अस्पताल भरी हुई थी, लोग तड़प-2 कर मर रहे थे | श्री गोपीनाथ जी पर मेरे हिन्दुओं का पूरा भरोसा था |

श्री गोपीनाथ जी ने एस. एच. ओ. सदर थाना को सपने में कहाँ यदि एक भी हिन्दू का क़त्ल हुआ तो तेरे परिवार कुटुंब का सर्वनाश कर दूंगा | वह दूसरे दिन लड्डुओं का थाल भर कर श्री गोपीनाथ जी के मंदिर पहुंचा और गोस्वामी जी को आश्वासन दिया और पुरे शहर में हाथ में बंदूक लेकर हिन्दुओं की रक्षा की कोशिश की |

गोरखा मिल्ट्री न भी पूरा शहर संभाला हुआ था | पहले गाँव से मिल्ट्री हिन्दुओं को लार्ड स्कूल, धर्मशाला व हिन्दुओं के घरों में, हिन्दू संगठनों ने उनका भोजन आदि व ठहरने का प्रबंध किया | मिल्ट्री ने पहले गाँव के लोगों को मिल्ट्री ट्रकों में भरकर मुज्जफरगढ़ ले गये वहाँ से ट्रेन में आगे भेजा |

1947, India, Dwarka Das Kathuria

मेरी आयु 15 वर्ष थी | अब हिन्दुओं पर झूठे मुक़द्दमे कर तुरंत गिरफ़्तारी का वारंट निकाले गये मेरे पिताजी व बड़े भाई के गिरफ़्तारी के वारंट निकाले | वह दिवाली 1947 से 3 दिन पहले गाँव वाले मिल्ट्री ट्रक में भेष बदल कर छुप कर निकल गये |

मेरे चाचा जी ने एक मिनी बस किराये पर की हम दो-दो कपड़े लेकर निकले और मिल्ट्री ट्रकों के पीछे-पीछे चले, रास्ते मे ड्राईवर ने बस का इंजन खराब है कह कर बस रोक दी | कुछ लोग तलवारें हाथ में लिए सड़क के पार खड़े थे |

श्री गोपीनाथ जी ने हमारी पुकार सुन ली दो – तीन घंटे बाद एक मिल्ट्री जीप गणित कर रही थी आई | वह बस को देर रात तक मुजफ्फरगढ़ तक पहुंचा गई | 3 दिन बाद हमें पिता जी व बड़े भाई मुजफ्फरगढ़ मिले, मुजफ्फरगढ़ से हम अटारी के लिए ट्रेन से हम चले लाहौर स्टेशन पर 2 दिन हमारी ट्रेन रोकी | तब हमारी ट्रेन पूरे मिल्ट्री जवानों की निगरानी में अटारी पहुंची | यहाँ 2 दिन कैंप में रहकर हमें ट्रक से कुरुक्षेत्र भेजा | यहाँ हम 10-12 दिन के बाद गुड़गाँव ट्रक से रेलवे कैंप के टेंटों में रहे |

Translated by Google 

Viral Sach – After August 15, 1947, a section in Dera Ghazi Khan started burning houses and shops of Hindus, attacking Hindus at night, Hindus also organized and guarded with sticks, spears, swords in their hands and gave a befitting reply Giving | Here in the villages the civil hospital was full of injured people, people were dying in agony. My Hindus had full faith in Shri Gopinath ji.

Mr. Gopinath ji has s. H o. Where in the dream of Sadar police station, if even a single Hindu is killed, then I will destroy your family and family. The next day he reached the temple of Shri Gopinath ji with a plate full of laddus and assured Goswami ji and tried to protect the Hindus in the whole city with a gun in hand.

The Gurkha military was also in control of the entire city. From the first village, military Hindus were given Lord School, Dharamshala and in the homes of Hindus, Hindu organizations made arrangements for their food etc. and stay. The military first took the people of the village to Muzaffargarh by filling them in military trucks and sent them further in a train.

I was 15 years old. Now arrest warrants were immediately issued against Hindus by false cases, arrest warrants were issued for my father and elder brother. 3 days before Diwali 1947, the villagers disguised themselves in a military truck and left.

My uncle hired a mini bus, we went out with two clothes each and followed the military trucks, on the way the driver stopped the bus saying that the engine was bad. Some people were standing across the road with swords in their hands.

Mr. Gopinath ji heard our call, after two-three hours a military jeep was doing maths. She took the bus till late night till Muzaffargarh. After 3 days we met father and elder brother in Muzaffargarh, from Muzaffargarh we took a train to Attari, our train stopped at Lahore station for 2 days. Then our train reached Attari under the supervision of the entire military personnel. After staying here in the camp for 2 days, we were sent to Kurukshetra by truck. Here, after 10-12 days, we stayed in the tents of the railway camp from Gurgaon by truck.

Follow us on Facbeook 

Follow us on Youtube

Read More News 

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *