टीकाकरण के बाद भी सेनिटाइजेशन, मास्क व सामाजिक दूरी का करे पालन

गुरूग्राम, (मनप्रीत कौर ) : गुरूग्राम के उपायुक्त डा. यश गर्ग ने आम जन से अपील करते हुए कहा कि वे वैक्सीनेशन को लेकर अफवाहों पर ध्यान ना दें और जल्द से जल्द कोरोना रोधी वैक्सीन लगवाएं।

वैक्सीन को लेकर आवश्यक जानकारी सांझा करते हुए उपायुक्त ने बताया कि यदि कोई व्यक्ति किसी प्रकार की दवाईयों का सेवन कर रहा है तो इसकी जानकारी वह कोरोना रोधी वैक्सीन लगवाते समय वैक्सीनेटर को अवश्य दे। इसी प्रकार, वैक्सीन व्यक्ति की फर्टिलिटी को प्रभावित नही करती , यह मात्र एक भ्रम है। महिलाएं कोरोना रोधी टीका मासिक धर्म वाले दिनों में भी लगवा सकती हैं, इससे वैक्सीन की एफिकेसी पर कोई प्रभाव नही पड़ता। दोनो वैक्सीन पूर्णतया प्रभावी व सुरक्षित है। वैक्सीन लगवाने के बाद यदि व्यक्ति संक्रमित हो भी जाए तो उसकी स्थिति गंभीर नही होती। उन्होंने कहा कि कोमोर्बिडिटी अर्थात् गंभीर बिमारी जैसे-कैंसर , डायबिटिज आदि से पीड़ित लोगों को वैक्सीन अवश्य लगवानी चाहिए। वैक्सीन की दोनो डोज लेने के बाद भी व्यक्ति को कोविड अप्रोप्रिएट बिहेवियर की पालना अवश्य करनी चाहिए। व्यक्ति वैक्सीन की डोज लेते समय इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि जिस वैक्सीन की पहली डोज ली है , दूसरी डोज भी उसी वैक्सीन की होनी चाहिए।

उपायुक्त ने बताया कि वैक्सीन की डोज लेने उपरांत व्यक्ति को कुछ सामान्य अतिरिक्त प्रभाव हो सकते हैं, इसलिए वह घबराए नही। ये प्रभाव एक-दो दिन से लेकर एक सप्ताह तक रह सकते हैं। उन्होंने बताया कि वैक्सीन लगवाने पर व्यक्ति को हल्का बुखार, थकान, मांसपेशियो या जोड़ो में दर्द, सिर में दर्द या वैक्सीन वाली जगह पर दर्द या लाल हो सकता है। व्यक्ति घबराए नही और जल्द से जल्द अपना टीकाकरण करवाए।

उन्होंने जिला वासियों का आह्वान किया कि वे कोरोना वायरस से सतर्क रहे, घबराएं नहीं। सफल टीकाकरण अभियान से ही कोरोना संक्रमण की रोकथाम संभव है। टीकाकरण के लिए आरोग्य सेतु एप या कोविन पोर्टल से अपना रजिस्टरेशन करवाकर स्वैच्छा से आगे आएं। टीकाकरण के बाद भी एसएमएस अर्थात सेनिटाइजेशन, मास्क व सामाजिक दूरी का पालन करें। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से अपनी व दूसरों की सुरक्षा के लिए मास्क जरूर पहने। दिन में कई बार साबुन व सेनिटाइजर से हाथ साफ करे। छींकते समय नाक और मुंह को ढके। भीड-भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचे। हाथ न मिलाये। यदि आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई हो तो तुरंत डॉ. सम्पर्क करे।

उन्होंने कहा है कोरोना स्ट्रेेन में बुजुर्गो का विशेष ध्यान रखें। घर पर हल्का व्यायाम व योग करें। अपनी निर्धारित दवाएं नियमित रूप से लें। घर पर बने ताजे भोजन के माध्यम से उचित पोषण प्राप्त करें। दैनिक प्रयोग की वस्तुएं जैसे चश्मा, रिमोट इत्यादि को क्लीनर से बार-बार साफ करें। उन्होंने कहा कि नाक, आंख, कान को बार-बार न छूएं। बुखार या शरीर में कमजोरी महसूस होने पर यात्रा से बचें। छींकने वाले लोगों से दूरी बनाएं रखे। सार्वजनिक स्थलों पर न थूके। चिकित्सीय परामर्श के बिना दवाई न लें। वायरस से दूषित सतहों का स्पर्श न करें। कोरोना से जुड़ी अफवाहों से बचे। नागरिकों की सुविधा के लिए हेल्पलाइन नम्बर -1950 शुरू किया गया है जिस पर संपर्क करके वे अपने कोरोना संक्रमण संबंधी संषयों को दूर कर सकते हैं। सभी नागरिक टीका लगवाने का संकल्प लें, क्योंकि टीका ही कोरोना को हराने का विकल्प है।

Read Previous

ग्रामीण इक्टट्ठे बैठकर हुक्का पीना, ताश खेलना तथा चैपाल आदि में बैठना करें बंद, पड़ सकता है भारी

Read Next

कोरोना संक्रमण पर लगातार हो रही राजनीति, विपक्षी नेताओं को करना चाहिए लोगों को जागरुक: रमन मलिक

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Most Popular