दीदी ओ दीदी के बाद अब्बा जान

Jindal Jewel advt

दिल्ली, (संदीप मिश्रा ) : दीदी ओ दीदी… की अपार सफलता के बाद अब आ गया अब्बा जान, बंगाल के चुनावी संग्राम में बीजेपी के सबसे बड़े चेहरे की जुबान से एक महिला मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को ललकारते हुए अंदाज में दीदी ओ दीदी बोल बीजेपी का डिब्बा गोल कर बैठे। देश के सबसे बड़े प्रदेश में चुनावी बिगुल फूंक दिया गया है और बातों के तूफान में देश के सबसे बड़े प्रदेश के मुखिया का तंज भरा तीर “अब्बा जान” जुबानी जंग का धारदार हथियार बन वार, प्रतिकार की मिसाल बना विपक्ष को बेचैन कर रहा है।

खुद को संस्कार की जननी बताने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की कोख से जन्मी बीजेपी में संघ ने कैसे संस्कार भरे हैं यह बताने के लिए बीजेपी नेताओं की जुबान ही काफी है। इन जुबांवीरो की जुमलेबाजो की टोली में तूती बोल रही है, एक से बढ़कर एक बातों का तूफान बनाने वाले अफलातून से भरी पड़ी हैं फूल वालों की ये पार्टी। दल का आदर्श मुखिया ही होता है मुखिया ही जब सरेआम मंच से एक महिला मुख्यमंत्री को अपमानित करने वाली शैली में दीदी ओ दीदी कहकर ललकारने का राग अलाप रहा हो तो फिर छूट भैया नेताओं को भला कौन क्या समझा, सिखा, बता सकता है। ये बदजुबानी की आजादी, बेतुके बोल का ढोल, अभिमान की शैली, बातों का पहाड़ बना बातरस बांटने वाले बीजेपी के नेताओं के बयान सुन आप सन्न रह जाएंगे।

सोचने को मजबूर हो जायेंगे क्या ये समाज का नेतृत्व करने लायक हैं? क्या सच ये देश की सबसे बड़ी पंचायत में बैठने की काबिलियत रखते हैं? सबका साथ सबका विकास संकल्प के सारथी ही बन साथ चल सकते हैं? सोचिए इनके बातों के रोज फूटते बम समाज को क्या संदेश दे रहे हैं? क्या सरकार बन जाना कुछ भी बोलने, कहने, बताने की आजादी देता है? क्या सरकार की कोई मर्यादा नहीं होती? क्या सरकार की कोई जवाबदेही नहीं? जुबान पर लगाम कसने वाला कोई नहीं?

इन दिनों अब्बा जान, अब्बा जान बोल जोर से जोश से दहाड़ उत्तर प्रदेश के मुखिया सुर्खियों में हैं भाषणों में जमकर बरस रहे हैं, उसी पुराने धुन पर जिसकी महारत हासिल है उन्हें। कभी अपनी जान की सुरक्षा मांगते भरी संसद में फूट-फूटकर रोने वाले अजय सिंह बिष्ट उर्फ योगी बाबा के मुख मंडल से अब्बा जान का उच्चारण तूफान बन कोहराम मचा रहा है। अभी तो शुरुआत है अभी तो जुबानी जहर की कुछ बूंदे ही गिरी हैं। चुनाव चरम पर होगा तो राम जाने कौन-कौन, क्या-क्या, कैसे-कैसे बोल बोलेगा? कान खोल कर, दिल संभाल कर रखना ये नेतागीरी है यहाँ सब जायज है। बाबा के बोल मुख्यमंत्री बनने से पहले भी आग लगाऊ ही थे आज भी कोई अंतर नहीं आया मालूम होता है। बाबा जी के जुबान की ज्वाला जस की तस बरबस बरस रही है ये आग आने वाले समय में और प्रचंड होगी क्योंकि जब आगाज़ आज ही ऐसा है तो अंजाम क्या होगा? सोच कर ही कलेजा मुँह को आता है।

Annu Advt

बाबाजी इकलौते बोलवीर नहीं हैं, बाबा से भी बढ़कर बोलबाजों से भरी पड़ी है बीजेपी। बड़े कद के नेता राधा मोहन ने तो ओवैसी को वायरस बता यहाँ तक कह दिया इन जैसों का इलाज बीजेपी के पास ही है। इंसान कैसे वायरस हो गया यह माँ राधा की दी आँखों से दिखा या मोहन की प्रदान दिव्य दृष्टि से राधामोहन बता नहीं पाए। बीजेपी में भगवा भेष धारियों के चिमटे से ज्यादा जुबान बजती है। इनमें शुमार हैं साध्वी प्राची जिन्होंने शंखनाद कर भरी सभा से आह्वान किया की उन्हें “मुस्लिम मुक्त भारत चाहिए” किसी ने क्या बिगाड़ लिया उनका, कुछ नहीं, फिर क्या एक ओर साध्वी निरंजन ज्योति ने ललकारा “दिल्ली में रामजादो की सरकार बनेगी या हरामजादो की” जनता को तय करना है। ज्योति की जुबानी ज्वाला गौरवमयी देश के गलियों में धधकी फैली और भारतीयता के मान को तपिश में घेर भी लिया पर उनका बिगड़ा कुछ नहीं।

एक और बाबा जो गेरुए रंग में रंगे इन्हीं की तरह सांसद हैं पूरा देश उनकी बदजुबानी का साक्षी है, साक्षी महाराज तो जब भी बोलेंगे मानो जहर ही घोलेंगे। संत की दीक्षा पाकर संत से सांसद बने साक्षी महाराज ने गृहस्थ आश्रम की महिलाओं को झकझोर कर रख दिया, ज्यादा बच्चा पैदा करने की जरूरत को समझाते हुए साक्षी महाराज महिलाओं को बच्चा पैदा करने का कारखाना बनाने पर तुल गए हैं वो सरेआम सलाह देते हैं हिंदू महिलाओं को चार बच्चे पैदा करने चाहिए ताकि हिंदू धर्म की रक्षा हो सके ये वही साक्षी महाराज हैं जिन्होंने “राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के हत्यारे को राष्ट्रभक्त बता शहीद कहने का दुस्साहस भी किया था।”

इनकी भी सोच से आगे बहुत आगे बढ़ महाराष्ट्र के एक नेता जिन्होंने खुद बेटियों का अपहरण कर जबरन शादी कराने का काम शुरू करने का मन बना लिया है, शिवसेना ने उनका नाम रावण कदम रखा वैसे राम भक्तों के दल में राम कदम के नाम से विख्यात हैं पर उनका काम कुख्यात रावण सरीखा कारनामा से कम नहीं। जन्माष्टमी के दिन जवानों की टोली देख उनकी बोली फूटी महोदय ने संबोधन किया “अगर आप किसी लड़की से प्यार करते हैं और वह नहीं मानती, तो मुझे बताएं मां-बाप के साथ मेरे पास आए, मां बाप भी नहीं मानते तो मैं उस लड़की को उठा कर लाऊंगा, और उसे आपके पास सौप दूंगा।”

यही काम माँ सीता के साथ लंकापति पहले कर चुका है, अंजाम भी दुनिया जानती है अब बीजेपी के राम कदम दुश्शासन, दशानन की राह पर बेटियां उठाने की जिम्मेदारी अपने कांधे पर ले जवानों में जोश भर रहे हैं। तालिबानी भी तो यही कर रहे हैं, तालिबानी भी महिलाओं से यही कह रहे हैं। राम कदम बीजेपी नेता हैं, सरकार बीजेपी की है, जो जी में आए कह सकते हैं, कर सकते हैं, महिलाओं को बेटियों को घर से उठा सकते हैं। संविधान के सम्मान, समझ से परे इन जुबांबाजो के बोल बल की आत्मा समाज के बंधन पर बार-बार करारा प्रहार कर रही है। पर संविधान का ही क्या? जब बीजेपी की चाह ही बाबा साहब के संविधान को ही बदलने की मंशा रखती है।

bodhraj sikAri advt

 

Read Previous

Anti-Terror Multinational Military Exercise

Read Next

राव इंद्रजीत की तरह हर नेता को करना चाहिए ऐसा काम : गडकरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular