Gurugram

Mount Everest बेस कैंप जाएगा 3 साल का शिशु हेयांश

Hyansh, mount everest

 

Viral Sach – गुरुग्राम : Mount Everest – गुरुग्राम के जाने-माने समाजसेवी, चिन्तक, विश्लेषक, भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं मुख्यमंत्री द्वारा मनोनीत वाईस चेयरमैन हरियाणा स्टेट सीएसआर ट्रस्ट बोधराज सीकरी एक विलक्षण काम करने जा रहे हैं।

वे मैनकाइंड फार्मा लिमिटेड के साथ मिलकर मात्र तीन साल का शिशु माउंट एवरेस्ट के बेस कैंप भेजेंगे। वह पल अद्भुत, अविश्वसनीय और अकल्पनीय होंगे, जब यह उपलब्धि बालक हेयांश कुमार हासिल कर लेगा।

बोधराज सीकरी के अनुसार हेयांश कुमार मात्र तीन साल का है और पिछले एक वर्ष से हिमाचल की पहाडिय़ों पर पर्वतारोहण का अभ्यास कर रहा है। यूं कह सकते हैं कि बालक हेयांश मां के गर्भ में अभिमन्यु की भांति पर्वतारोहण की कहानियां सुनीं।

अब उसे विश्व कीर्तिमान स्थापित करने के लिए उत्साहित कर मैनकाइंड फार्मा के सौजन्य से रवाना करने की योजना बनाई है। हेयांश का लक्ष्य और ध्येय है विश्व के सबसे कम आयु के शिशु के नाते माउंट एवेरेस्ट के बेस कैंप तक पहुंचना।

 

Advertisement Holi 3

 

इस शिशु ने गुरुग्राम के ही बाबड़ा बाकीपुर ग्राम में मध्यमवर्गीय किसान के यहां जन्म लिया था। हेयांश को लेकर काठमांडू (नेपाल) से सभी औपचारिकताएं पूरी हो चुकी है।

कोच नरेन्द्र सिंह पर्वतारोही जिन्होंने पांच महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटी फतह ही है। अब तक पर्वतारोहण के क्षेत्र में 18 विश्व रिकॉर्ड स्थापित किये है, वल्र्ड रिकॉर्ड यूनियन की ओर से वल्र्ड किंग अवार्ड से नवाजा गया है। उनके मार्गदर्शन में इस अभियान को चलाया जाएगा।

न केवल गुरुग्राम के लिए या पूरे प्रान्त हरियाणा के लिए बल्कि पूरे राष्ट्र के लिए ये गौरव का विषय है कि मात्र तीन वर्ष का शिशु इस प्रकार के कीर्तिमान के लिए कृतसंकल्प है। इससे अन्य शिशुओं को भी प्रेरणा मिलेगी और हरियाणा का नाम रोशन होगा, जो खेल-जगत में पूरे देश में अग्रणी है। यदि यह शिशु सफल होता है तो हरियाणा के ताज में एक और हीरा चमकेगा, जो प्रान्त का नाम रोशन करेगा।

Translated by Google 

Viral News – Gurugram: Gurugram’s well-known social worker, thinker, analyst, senior BJP leader and Chief Minister nominated Vice Chairman Haryana State CSR Trust Bodhraj Sikri is going to do a unique work.

He, along with Mankind Pharma Limited, will send only a three-year-old child to the base camp of Mount Everest. Those moments will be wonderful, unbelievable and unimaginable, when this achievement will be achieved by the boy Heyansh Kumar.

According to Bodhraj Sikri, Heyansh Kumar is only three years old and has been practicing mountaineering on the hills of Himachal for the last one year. It can be said like this that the child Heyansh heard the stories of mountain climbing like Abhimanyu in the mother’s womb.

Now planning to send him off courtesy of Mankind Pharma by encouraging him to set a world record. Heyansh’s goal and mission is to reach the base camp of Mount Everest as the youngest child in the world.

This child was born to a middle-class farmer in Babada Bakipur village of Gurugram itself. All the formalities have been completed from Kathmandu (Nepal) regarding Heyansh.

Koch Narendra Singh Mountaineer who has conquered the highest peak of five continents. So far 18 world records have been established in the field of mountaineering, has been awarded the World King Award by the World Record Union. This campaign will be run under his guidance.

It is a matter of pride not only for Gurugram or for the entire state of Haryana, but for the entire nation that a child of only three years is determined to achieve such a record. This will inspire other children as well and the name of Haryana will be bright, which is a leader in the sports world in the whole country. If this child is successful, then another diamond will shine in the crown of Haryana, which will bring laurels to the state.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News 

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *