Politics

Bodhraj Sikri : श्री रामचरितमानस पर स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी निंदनीय

Bodhraj Sikri

 

Viral Sach : आज दिनांक 10 फरवरी (शुक्रवार) को Bodhraj Sikri (मुख्य संरक्षक, श्री केन्द्रीय सनातन धर्म सभा – गुरुग्राम) की अगुवाई में “समृद्धि फाउंडेशन” पंडित गोपाल की कोशिश की अध्यक्षता में ब्राह्मण वर्ग का प्रतिनिधिमंडल उपायुक्त महोदय गुरुग्राम से मिला व उन्होंने उपायुक्त महोदय के समक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा सदग्रंथ श्री रामचरित मानस की चौपाइयों को लेकर जो अभद्र टिप्पणी की गयी है और जिसकी चर्चा प्राय: दूरदर्शन के चैनल पर भी दिखाई जा रही है व श्री रामचरितमानस की जो प्रतियां जलाई गई हैं, उनके प्रति अपना आक्रोश जाहिर किया।

इस दौरान उन्होंने उपायुक्त निशांत यादव (आईएएस) से इस विषय से संबंधित ज्ञापन भारत सरकार की मा. महामहिम राष्ट्रपति महोदया के नाम से भी दिया। वहीं केंद्रीय श्री सनातन धर्म सभा (रजिस्टर्ड) गुरुग्राम जो कि गुरुग्राम के मंदिरों की एक शिरोमणि सभा है एवं जिसका गठन वर्ष 2000 में हुआ था और सभा तभी से लगातार धार्मिक आध्यात्मिक व सामाजिक कार्य जन कल्याण के लिए करती आ रही है, जिसके मुख्य संरक्षक बोधराज सीकरी हैं उन्होंने उपायुक्त निशांत यादव के समक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा जो श्री रामचरितमानस की चौपाइयों का गलत अर्थ निकाल कर अभद्र भाषा का प्रयोग किया व श्री रामचरितमानस की प्रतियों को जलाया उसकी कड़ी शब्दों में निंदा की।

साथ ही उपायुक्त महोदय से केंद्रीय श्री सनातन धर्म सभा गुरुग्राम जिनके प्रधान सुरेंद्र खुल्लर, महामंत्री देवराज आहूजा व समस्त कार्यकारिणी जिसमें कंवर भान वधवा, ओम प्रकाश कथूरिया, बाल कृष्ण खत्री, राम लाल ग्रोवर, चंद्रभान नागपाल, गजेंद्र गोसाई, किशोरी लाल डुडेजा, श्याम ग्रोवर, ओम प्रकाश बन्धु, केसर दास ग्रोवर सभी ने भी स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा श्रीरामचरितमानस की चौपाईयों को लेकर की गई अभद्र टिप्पणी की घोर भर्त्सना की है।

बोधराज सीकरी ने महामहिम राष्ट्रपति महोदया के नाम से उपायुक्त महोदय के माध्यम से ज्ञापन भी दिया व उपायुक्त महोदय से प्रार्थना की कि इसे राष्ट्रपति महोदया के संज्ञान में लाया जाए।

उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि यदि समय रहते इस प्रकार के अनुचित कार्यो पर रोक न लगी तो इसके दूरगामी परिणाम समाज के लिए घातक हो सकते हैं।

इस दौरान ब्राह्मण समाज से पंडित गोपाल कृष्ण कौशिक अध्यक्ष पं हरिओम पं कीर्ति गोपाल पं.भीम दत्त ज्योतषी, पं.भगवत , पं. नरेश पाठक, केशव देव शास्त्री, पं.ओम प्रकाश शर्मा, श्री केंद्रीय सनातन धर्म सभा की और से बोध राज सीकरी, गजेन्द्र गोसाईं, किशोरी लाल जी डूडेजा व अन्य जन उपस्थित रहे।

Translated by Google 

Viral Sach: Today, on February 10 (Friday), under the leadership of Bodhraj Sikri (Chief Patron, Shri Kendriya Sanatan Dharma Sabha – Gurugram) “Prosperity Foundation” Pt. In front of the Deputy Commissioner, Swami Prasad Maurya expressed his indignation towards the indecent remarks made by Swami Prasad Maurya regarding the cattle of the scripture Shri Ramcharitmanas and the discussion of which is often being shown on Doordarshan channel and the copies of Shri Ramcharitmanas which were burnt. Made it clear

During this, he submitted a memorandum related to this subject to Deputy Commissioner Nishant Yadav (IAS), Hon’ble Government of India. Also given in the name of Her Excellency the President. On the other hand, Kendriya Shri Sanatan Dharma Sabha (Registered) Gurugram, which is a Shiromani Sabha of the temples of Gurugram and which was formed in the year 2000, and since then the Sabha has been continuously doing religious, spiritual and social work for public welfare, whose main patron is Bodhraj Sikri, he strongly condemned Swami Prasad Maurya in front of Deputy Commissioner Nishant Yadav for using indecent language by misinterpreting the cattle of Shri Ramcharitmanas and burning the copies of Shri Ramcharitmanas.

Along with the Deputy Commissioner, the Central Shri Sanatan Dharma Sabha Gurugram, headed by Surendra Khullar, General Secretary Devraj Ahuja and the entire executive including Kanwar Bhan Wadhwa, Om Prakash Kathuria, Bal Krishna Khatri, Ram Lal Grover, Chandrabhan Nagpal, Gajendra Gosai, Kishori Lal Dudeja, Shyam Grover, Om Prakash Bandhu, Kesar Das Grover all have strongly condemned the indecent remarks made by Swami Prasad Maurya regarding the cattle of Shri Ramcharitmanas.

Bodhraj Sikri also submitted a memorandum in the name of Her Excellency the President through the Deputy Commissioner and requested the Deputy Commissioner to bring it to the notice of the President.

He said in strong words that if such inappropriate activities are not stopped in time, then its far-reaching consequences can be fatal for the society.

During this, Pt. Gopal Krishna Kaushik, President Pt. Hariom, Pt. Kirti Gopal, Pt. Bhim Dutt, Astrologer, Pt. Bhagwat, Pt. Naresh Pathak, Keshav Dev Shastri, Pt. Om Prakash Sharma, Bodh Raj on behalf of Shri Kendriya Sanatan Dharma Sabha from Brahmin society. Sikri, Gajendra Gosain, Kishori Lalji Dudeja and others were present.

Follow us on Facebook 

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *