Politics

Bodhraj Sikri – अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग दिवस पर दिव्यांगों के चेहरे पर छाई मुस्कान

bodhraj sikri

Viral Sach : Bodhraj Sikri – समाज में हर व्यक्तिविशेष महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है और हर व्यक्ति हर वर्ग का सम्म्मलित रूप ही समाज कहलाता है। इसी समाज में समानता और संतुलन बनाए रखना हर जन की जिम्मेदारी है।

इसी जिम्मेदारी का निर्वहन करने का प्रयास करते हुए ब्रिंगिंग स्माइल संस्था द्वारा अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के उपलक्ष्य में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया,जिसमें बतौर मुख्यातिथि शिरकत करने का अवसर मिला। इस अवसर पर संस्था के गणमान्य सदस्यों द्वारा हर आयु वर्ग के दिव्यांगों को सम्मानित करने हेतु आमंत्रित किया गया।

इसके साथ ही उनकी मूलभूत और अनिवार्य आवश्यकताओं को मद्देनजर रखते हुए उन्हें विभिन्न उपहार वितरित किए-जिनमें उनके लिए विशेष रूप से तैयार करवाये स्मार्ट फोन, सिलाई मशीन, ट्राई साइकिल, कम्बल, व्हीलचेयर, गर्म इनरवेयर इत्यादि शामिल रहे।

कम्प्यूटर ट्रेनिंग के लिए चेक के रूप धनराशि भी प्रदान की गई। उपहार पाकर आई उनके चेहरे की मुस्कान इस कार्यक्रम को सार्थक कर गई। इस अवसर पर दिव्यांगों से मिलना जीवन के संघर्ष से लड़ने की प्ररेणा बना।

Translated by Google 

Viral Sach: Every person plays a special important role in the society and the combined form of every person and every class is called society. It is the responsibility of every person to maintain equality and balance in this society.

Trying to discharge this responsibility, a program was organized by the Bringing Smile organization on the occasion of International Disabled Day, in which I got the opportunity to participate as the chief guest. On this occasion, eminent members of the organization were invited to honor the disabled of every age group.

Along with this, keeping in view their basic and essential needs, various gifts were distributed to them – which included specially designed smart phones, sewing machines, tricycles, blankets, wheelchairs, warm innerwear etc. for them.

Funds were also provided in the form of checks for computer training. The smile on his face after receiving the gift made this program worthwhile. On this occasion, meeting the Divyang became an inspiration to fight the struggle of life.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *