Politics

Bodhraj Sikri – 2024-25 का मनोहर बजट प्रदेश के सर्वांगीण, सर्वस्पर्शी और सर्वसमावेशी विकास का बजट है

bodhraj sikri

 

Viral Sach : Bodhraj Sikri ने कहा कि “मैंने माननीय मुख्यमंत्री के 130 मिनट के बजट को गम्भीरता से सुना और मन गदगद हो गया क्योंकि उन्होंने हर वर्ग का ध्यान रखा। आकर्षण का विषय था कि पिछले वर्ष के मुकाबले 11% बढ़ोत्तरी के साथ 1,89,876 करोड़ का बजट पेश किया।

उस समय मन और भी प्रसन्न हुआ जब उन्होंने घोषणा करी कि इस बजट में नया कोई भी प्रस्तावित कर नहीं है। पराली जलाने में 67 प्रतिशत की कमी करके हरियाणा सरकार ने पर्यावरण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता सिद्ध कर दी है। पड़ोसी राज्य पंजाब को इससे प्रेरणा लेनी चाहिए।

547000 किसानों के मूलधन पर ब्याज और जुर्माना माफ करके किसानों के प्रति मुख्यमंत्री महोदय ने एक बहुत बड़ा परोपकार किया है, जिसकी राशि लगभग 1700 करोड़ है। यह निर्णय मिल का पत्थर सिद्ध होगा। 2024 में 1000 नए हरित स्टोर खोलने से युवा को रोजगार देने के अवसर मुहैया कराये जाएंगे यह बड़ा सराहनीय विषय है।

60000 युवा को कौशल प्रशिक्षण और उन्हें आने वाले वर्ष में रोजगार देने के प्रावधान से युवा के चेहरे पर मुस्कुराहट आएगी। इसी प्रकार 200 करोड़ के वेंचर कैपिटल फंड के प्रावधान से युवा को और उस ताकत को बढ़ावा देने का प्रयास काबिल-ए-तारीफ है। 1152 कॉलोनी को बुनियादी सुविधा देने की प्रतिबद्धता प्रकट करके सरकार ने अपनी नीयत साफ कर दी है कि वह गरीबों के साथ है।

 

bodhraj sikri, khattar

 

 

इस बजट का विशेष आकर्षण है आयुष्मान चिरायु योजना। यह योजना देश के 28 प्रांतों में केवल हरियाणा के अंदर ही है। यहां भारत सरकार ने आयुष्मान भारत योजना क्रियान्वित करके लगभग 55 करोड लोगों का हित सोचा था। परंतु हरियाणा उससे भी आगे बढ़ गया। आयुष्मान भारत योजना 1 लाख 20 हजार वार्षिक आय वाले लोगों पर लागू है वहां हरियाणा ने 3 लाख रु आय तक के लोगों को भी चिरायु में शामिल कर लिया था।

लाभार्थी को मात्र 1500 रु वार्षिक शुल्क देना था जो मात्र 4 रु प्रतिदिन बैठता है। परन्तु इस बजट में अनूठा निर्णय लिया गया। 3 लाख वार्षिक आय वाले के बजाय अब 3 लाख से 6 लाख तक आय को भी सरकार ने इस स्कीम में ले लिया है। जिस योजना के तहत लाभार्थी को 4 हजार रु वार्षिक शुल्क देना होगा और वह चिरायु योजना का लाभ उठा सकेगा।

इससे ये प्रमाणित हो गया है कि सरकार स्वस्थ हरियाणा, खुशहाल हरियाणा और विकसित हरियाणा का सपना साकार करने की ओर गम्भीर है। सरकार की नीयत गरीब, युवा, महिला और किसान को प्राथमिकता देने की है। अतीत के गौरव को पुनः प्राप्त करने की है। अंत्योदय के दर्शनशास्त्र को जीवन में उतारने की है। राष्ट्र सर्वोपरि के नारे को जीवन में उतारने की है।

Translated by Google 

Viral Sach: Bodhraj Sikri said that “I listened to the 130-minute budget of the Honorable Chief Minister seriously and was heartbroken because he took care of every section. The point of attraction was that with an increase of 11% compared to last year, 1, Presented a budget of Rs 89,876 crore.

My heart became even more happy when he announced that there was no new tax proposed in this budget. By reducing stubble burning by 67 percent, the Haryana government has proved its commitment towards the environment. Neighboring state Punjab should take inspiration from this.

The Chief Minister has done a huge charity towards the farmers by waiving off the interest and penalty on the principal amount of 547000 farmers, which amounts to about Rs 1700 crore. This decision will prove to be a millstone. By opening 1000 new green stores in 2024, employment opportunities will be provided to the youth, this is a very commendable topic.

The provision of skill training to 60,000 youth and providing them employment in the coming year will bring a smile on the faces of the youth. Similarly, the effort to promote the youth and their strengths through the provision of a venture capital fund of Rs 200 crore is praiseworthy. By expressing its commitment to provide basic facilities to 1152 colonies, the government has made its intention clear that it is with the poor.

The special attraction of this budget is Ayushman Chirayu Yojana. This scheme is applicable only in Haryana among 28 provinces of the country. Here the Government of India had thought of the welfare of about 55 crore people by implementing Ayushman Bharat Scheme. But Haryana went further than that. Ayushman Bharat Yojana is applicable to people with annual income of Rs 1 lakh 20 thousand, whereas Haryana had also included people with income up to Rs 3 lakh in Viva.

The beneficiary had to pay only Rs 1500 as annual fee which comes to only Rs 4 per day. But a unique decision was taken in this budget. Instead of those with annual income of Rs 3 lakh, the government has now included people with income between Rs 3 lakh to Rs 6 lakh in this scheme. Under the scheme, the beneficiary will have to pay an annual fee of Rs 4,000 and will be able to avail the benefits of Viva Yojana.

This proves that the government is serious towards realizing the dream of a healthy Haryana, prosperous Haryana and developed Haryana. The government’s intention is to give priority to the poor, youth, women and farmers. To regain the glory of the past. To implement the philosophy of Antyodaya in life. The slogan of putting the nation first is to be implemented in life.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *