Politics

Bodhraj Sikri – फ़िल्म के मार्मिक दृश्य आज की कड़वी सच्चाई

bodhraj sikri

 

Viral Sach : गत 27 मई, शनिवार को गुरुग्राम स्थित आईनॉक्स गुड़गांव ड्रीम्ज़ थिएटर में Bodhraj Sikri द्वारा 650 लोगों को ‘द केरला स्टोरी’ फ़िल्म दिखाने का विशेष प्रबंध किया गया।

आपको बता दें कि फ़िल्म देखने के लिए पहले एक पूरा हॉल बुक करवाया गया था। फ़िल्म को लेकर बेटियों और युवा वर्ग में काफी उत्साह को देखते हुए 650 लोगों को यह मूवी दिखाने की व्यवस्था चार किश्तों में की गई।

शनिवार को लगभग 350 लोगों को और सोमवार को लगभग 300 लोगों को यानी कुल 650 लोगों को यह फ़िल्म दिखाई गई। यह बात बोधराज सीकरी ने पत्रकार वार्ता के दौरान बताई।

बोधराज सीकरी ने कहा कि मूवी को देखने के लिए लोगों में भारी उत्साह था, जिसे देखते हुए दो ऑडिटोरियम दो दिन के लिए अलग-अलग बुक किये गए। अत्यधिक संख्या में लोगों ने यह फ़िल्म देखने की रुचि दिखाई इसलिए सोमवार को भी बुकिंग की गई है।

बोधराज सीकरी ने कहा कि अगर इसी तरह लोगों का उत्साह और सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलती रही तो इस मुहिम को एक कदम और आगे बढ़ाया जाएगा।

धर्म परिवर्तन पर बनी इस फ़िल्म पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बोधराज सीकरी ने कहा कि धर्मांतरण के कारण देश की बेटियों के साथ कई अत्याचार हुए हैं और उन्हें अपनी जान तक गंवानी पड़ी है। हैवानियत की हदें पार हो रही हैं।

सीकरी ने कहा कि यह फ़िल्म हर वर्ग खासकर हिन्दू बेटियों को जरूर देखनी चाहिए। इस फ़िल्म का उद्देश्य बेटियों को जागरूक करना है। समाज के प्रति उन्हें अपनी जिम्मेदारी का एहसास कराना है। माता-पिता का भी फर्ज बनता है कि वें बेटियों और बेटों को भी सही मार्गदर्शन दें। उन्हें अपनी सँस्कृति और परम्पराओं से जोड़ें। अपने ग्रंथों से जोड़ें।

बोधराज सीकरी ने बताया कि ‘पिछले वर्ष हमने “द कश्मीर फाइल्स” फ़िल्म दिखाई थी। हमारी हिन्दू बेटियों-बहनों के साथ बहुत अन्याय हो रहा है। द केरला स्टोरी बेटियों की दर्दनाक दास्तां को बयां करती है। जिस तरह से बेटियों को गुमराह करके उनका धर्मान्तरण किया जाता है और फिर उन्हें आंतकवादी गतिविधियों में शामिल होने के लिए मजबूर किया जाता है, वह निंदनीय है, दंडनीय है।

हमें अपनी बेटियों और बच्चों को हमारी संस्कृति, हमारी सभ्यता और संस्कारों से जोड़कर रखने के निरंतर प्रयास करने होंगे और यह फ़िल्म दिखाने का भी हमारा यही उद्देश्य है।’

इस मुहिम में धर्मेंद्र बजाज, राज कुमार कथूरिया, अनिल कुमार, ज्योत्सना बजाज, रमेश कामरा, ओ.पी कालरा ने कॉर्डिनेट कर अपने स्तर पर बखूबी सहयोग किया।

आपको बता दें कि युवा पीढ़ी को संस्कारवान बनाने के लिए बोधराज सीकरी ने हनुमान चालीसा पाठ की मुहिम भी शुरू की है। जिसके तहत अब तक 1 लाख 86 हजार से अधिक पाठ हो चुके हैं।

देशभर में द केरला स्टोरी इन दिनों सुर्खियों में है। ऐसे में इस संवेदनशील व मार्मिक विषय पर जागरूकता की पहल करते हुए समाजसेवी बोधराज सीकरी द्वारा बेटियों को यह मूवी दिखाने की कोशिश निश्चित ही सराहनीय है।

Translated by Google

Viral Sach : On Saturday, May 27, a special arrangement was made by Bodhraj Sikri to show the film ‘The Kerala Story’ to 650 people at INOX Gurgaon Dreamz Theatre, Gurugram.

Let us tell you that earlier an entire hall was booked to watch the film. In view of the great enthusiasm among the daughters and the youth regarding the film, arrangements were made to show this movie to 650 people in four instalments.

The film was shown to about 350 people on Saturday and about 300 people on Monday i.e. a total of 650 people. Bodhraj Sikri told this during the press conference.

Bodhraj Sikri said that there was huge enthusiasm among the people to watch the movie, considering which two auditoriums were booked separately for two days. A large number of people showed interest in watching the film, so bookings have been made on Monday as well.

Bodhraj Sikri said that if people’s enthusiasm and positive response continues like this, then this campaign will be taken a step further.

Giving his reaction on this film made on religious conversion, Bodhraj Sikri said that due to religious conversion many atrocities have happened to the daughters of the country and they have even lost their lives. The limits of brutality are being crossed.

Sikri said that this film must be seen by every class, especially Hindu daughters. The purpose of this film is to make daughters aware. They have to realize their responsibility towards the society. It is also the duty of the parents to give proper guidance to their daughters and sons. Connect them to your culture and traditions. Link to your texts.

Bodhraj Sikri told that ‘Last year we showed the film “The Kashmir Files”. A lot of injustice is being done to our Hindu daughters and sisters. The Kerala Story tells the painful tale of the daughters. The way daughters are misled and converted and then forced to join terrorist activities, it is condemnable, punishable.

We have to make constant efforts to keep our daughters and children connected with our culture, our civilization and our values and this is also our aim of showing this film.

In this campaign, Dharmendra Bajaj, Raj Kumar Kathuria, Anil Kumar, Jyotsna Bajaj, Ramesh Kamra, O.P Kalra coordinated and cooperated well at their level.

Let us tell you that Bodhraj Sikri has also started the campaign of reciting Hanuman Chalisa to make the young generation cultured. Under which more than 1 lakh 86 thousand lessons have been done so far.

The Kerala Story is in headlines across the country these days. In such a situation, while taking the initiative of creating awareness on this sensitive and poignant subject, the effort of social worker Bodhraj Sikri to show this movie to the daughters is definitely commendable.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *