Politics

Bodhraj Sikri – योग निद्रा ऋषि मुनियों की पुरातन देन है

bodhraj sikri

 

Viral Sach : Bodhraj Sikri – दिनांक 17 सितम्बर, रविवार सुबह 11 बजे 40+ शहरों में ‘योग निद्रा’ विशेष अभ्यास सत्र सम्पन्न हुआ। परम पूज्या आनंदमूर्ति गुरुमाँ के मार्ग-निर्देशन में पूरे भारतवर्ष के 40+ शहरों में एक ही दिन, एक ही समय पर – 17 सितम्बर, रविवार सुबह 11 बजे हजारों लोगों ने एक साथ ‘योग निद्रा’ के विशेष अभ्यास सत्र में भाग लिया। ऋषि चैतन्य ट्रस्ट सेवादारों की अगुवाई में ब्लिस प्रीमियर बैंक्वेट हाल में ‘योग निद्रा’ का विशेष अभ्यास सत्र किया गया।

पूज्या गुरुमाँ की ऊर्जस्वी अध्यक्षता में ऋषि चैतन्य ट्रस्ट पिछले 25 वर्षों से देश एवं विदेश से आने वाले सभी साधकों के कल्याण हेतु अथक रूप से कार्यरत है। जनकल्याण के इसी लक्ष्य को साकार रूप देने के लिए भारत के अनेक शहरों में ‘ऋषि चैतन्य विज़न’ की स्थापना की गई, ताकि ध्यान का रसपान करने के इच्छुक साधक हर रविवार को सुबह इन केंद्रों में जाकर योग एवं ध्यान का अभ्यास कर सकें।

 

bodhraj sikri

 

बता दें कि ‘ऋषि चैतन्य विज़न’ के सभी केंद्रों के द्वारा अपने-अपने शहर में 17 सितम्बर, रविवार सुबह 11 बजे योग निद्रा के अभ्यास सत्र का आयोजन किया गया। इसमें हर शहर के सैंकड़ों लोगों ने भाग लिया और शारीरिक, मानसिक एवं भावनात्मक स्तर पर विश्राम देने के साथ-साथ आध्यात्मिक उन्नति में सहायता प्रदान करने वाली इस अनुपम विधि का अभ्यास किया। बहुत-से साधकों ने अभ्यास के दौरान हुए अनुभवों को भी साझा किया।

बोध राज सीकरी ने ट्रस्ट के ट्रस्टी ने मंच संचालन कुशलतापूर्वक किया और लोगों को योग निद्रा के गुण और लाभ बताए। उनके अनुसार कई बीमारियों के लिए राम बाण है योग निद्रा। बोधराज सीकरी के कथन के अनुसार योग निद्रा ऋषि मुनियों की पुरातन देन है।

 

bodhraj sikri

 

दुर्भाग्यवश ये लुप्त हो गई थी और परम श्रद्धेय गुरु माँ ने इसे पुनः जाग्रत अवस्था में लाकर के आमजन के लिए एक प्रसाद के रूप में दिया है। लगभग एक साथ साढ़े तीन सौ लोगों ने योग निद्रा शव आसन में की।

योग निद्रा के निरंतर अभ्यास से सृजनात्मकता, स्मरण शक्ति और एकाग्रता में संवृद्धि होती है। विद्यार्थियों के लिए तो योग निद्रा एक वरदान है। इससे ग्रहण शक्ति और स्मृति शक्ति इन सभी क्षमताओं में वृद्धि होती है। शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक स्तर पर गहन विश्राम देकर योग निद्रा आध्यात्मिक उन्नति के द्वारा चेतना के उच्चतम स्तर के अनुभव देने में भी सहायक है।

योग निद्रा आई.सी.एम.आर. (भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद, हैदराबाद) के वैज्ञानिकों द्वारा प्रमाणित है। योग निद्रा से उच्च रक्तचाप और मानसिक रोगों को बिना दवाइयों के दूर करने में सहायता मिलती है। तनाव, अनिद्रा, विषाद के साथ-साथ मधुमेह और मोटापे जैसी बीमारियों का भी प्रभावी उपचार है योग निद्रा।

विधि एक, लाभ अनेक! इस अनुपम विधि का लाभ आप भी अवश्य लें। पूज्या आनंदमूर्ति गुरुमाँ द्वारा दी गई यह विधि यूट्यूब पर सभी के लिए उपलब्ध है।

Translated by Google 

Viral Sach: Bodhraj Sikri – ‘Yoga Nidra’ special practice session was conducted in 40+ cities on Sunday, 17 September at 11 am. Under the guidance of H.H. Anandamurti Gurumaa, thousands of people participated in a special practice session of ‘Yoga Nidra’ together in 40+ cities across India on the same day, at the same time – Sunday, 17th September at 11 am. A special practice session of ‘Yoga Nidra’ was conducted at Bliss Premier Banquet Hall under the leadership of Rishi Chaitanya Trust Sevadars.

Under the dynamic leadership of Pujya Gurumaa, Rishi Chaitanya Trust has been working tirelessly for the last 25 years for the welfare of all the seekers coming from within the country and abroad. To realize this goal of public welfare, ‘Rishi Chaitanya Vision’ was established in many cities of India, so that the seekers desirous of practicing meditation can go to these centers every Sunday morning and practice yoga and meditation.

Let us tell you that all the centers of ‘Rishi Chaitanya Vision’ organized a practice session of Yoga Nidra in their respective cities on Sunday, September 17 at 11 am. Hundreds of people from every city participated in it and practiced this unique method which provides relaxation at physical, mental and emotional level as well as helps in spiritual progress. Many seekers also shared their experiences during the practice.

Bodh Raj Sikri, Trustee of the Trust, conducted the stage efficiently and told the people about the merits and benefits of Yoga Nidra. According to him, Yoga Nidra is the panacea for many diseases. According to Bodhraj Sikri, Yoga Nidra is an ancient gift of sages.

Unfortunately, it had become extinct and the most revered Guru Maa has brought it back to life and given it as a Prasad to the common people. Approximately three hundred and fifty people simultaneously performed Yoga Nidra in Shava Asana.

Regular practice of Yoga Nidra improves creativity, memory and concentration. Yoga Nidra is a boon for students. This increases all the abilities like grasping power and memory power. By providing deep relaxation at the physical, mental and emotional levels, Yoga Nidra also helps in experiencing higher levels of consciousness through spiritual advancement.

Yoga Nidra ICMR (Indian Council of Medical Research, Hyderabad) is certified by scientists. Yoga Nidra helps in curing high blood pressure and mental diseases without medicines. Yoga Nidra is an effective treatment for stress, insomnia, depression as well as diseases like diabetes and obesity.

One method, many benefits! You must also take advantage of this unique method. This method given by Pujya Anandamurthy Gurumaa is available to everyone on YouTube.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *