Politics

Bodhraj Sikri की हनुमान चालीसा पाठ की मुहिम के तहत अब तक हुए 172600 पाठ

bodhraj sikri

 

Viral Sach : Bodhraj Sikri – श्री गीता आश्रम, ज्योति पार्क जोकि एक सिद्ध पीठ है एवं जिसके परमाध्यक्ष पूज्य चरण परमार्थ मूर्ति डॉ. स्वामी दिव्यानंद जी महाराज “भिक्षु “है उनकी अध्यक्षता में समाजसेवी बोधराज सीकरी द्वारा लिए गए संकल्प के तहत “श्री हनुमान चालीसा” के पाठ का आयोजन किया गया।

“श्री हनुमान चालीसा” के पाठ से पूर्व परम श्रद्धेय, अर्चनीय, वंदनीय महाराज श्री द्वारा खचाखच भरे आश्रम में 750 से अधिक उपस्थित भक्तों को दिव्य एवं सारगर्भित शास्त्रों के माध्यम से अपार भक्ति ज्ञान की चर्चा की गई। गीता के दूसरे अध्याय के 11वें श्लोक की व्याख्या की और उपासना का गहन अर्थ समझाया।

यह कार्यक्रम उनका सायं 6:30 बजे से रात्रि 8:00 तक चला। तदोपरांत स्वामीजी ने हनुमान जी की भव्य भक्ति और शक्ति का ज्ञान दिया और फिर बोधराज सीकरी को स्वामीजी ने बोलने का अवसर प्रदान किया।

बोधराज सीकरी ने रामायण और हनुमान चालीसा पाठ की तुलनात्मक तरीक़े से विवेचना कर “जय “ शब्द का गहरा अर्थ समझाया और बताया कि उनका लक्ष्य युवा पीढ़ी को संस्कारवान बनाना है। प्रभु हनुमान की पूजा अर्चना उपरांत गजेंद्र गोसाई द्वारा महाराज श्री को दंडवत प्रणाम करते हुए उनसे आशीर्वाद लेकर व बोधराज सीकरी से चरण स्पर्श कर आशीर्वाद लेकर “श्री हनुमान चालीसा” के पाठ का संगीतमय रुप से पाठ प्रारम्भ किया गया।

 

bodhraj sikri

 

उनके साथ पंडित भीम दत्त ज्योतिषाचार्य, पंडित रमाकांत एवं श्री देवेंद्र ने साथ दिया। गजेंद्र गोसाई द्वारा इस कार्यक्रम में सभी को साथ लेकर बिना विश्राम लिये 10 बार “श्री हनुमान चालीसा” के पाठ किये गये। उसके उपरांत स्वामी जी ने बागडोर सँभाली और गायकी और सुरों के साथ हनुमान चालीसा का दो बार पाठ किया जिसमें आध्यात्मिक रस की झलक दिखी।

स्वामीजी के कथानुसार मैनेजमेंट के लिए यह एक गहन ग्रंथ है। इस भव्य एवं दिव्य आयोजन में डॉक्टर स्वामी दिव्यानंद महाराज की उपस्थिति एवं उनका आशीर्वाद प्राप्त हुआ।

महाराज श्री द्वारा बोधराज सीकरी को माला अर्पण कर व पटिका डालकर आशीर्वाद देते हुए उन्हें व्यास गद्दी से भरपूर शुभाशीष दिया व कहा कि मैं पहले भी इस कार्य के लिए आपको फोन करके बधाई दे चुका हूं व पुन: आपको आशीर्वाद प्रदान करता हूं कि आपने जो यह राम नाम रूप की मुहिम लगाई है उसमें निरंतर बढ़ोत्तरी होती रहे और आप हमेशा जिस तरह समाज के लिए, प्रदेश के लिए कार्य कर रहे हो आगे भी इसी प्रकार करते रहें।

स्वामीजी ने प्रसन्न होकर बोधराज सीकरी से आग्रह किया कि बुधवार को भी यह आयोजन जारी रहे और कार्यक्रम नृत्य रूप में डांडिया के साथ होगा। स्वामीजी ने बोधराज सीकरी से कहा कि प्रभु आप पर हमेशा कृपा बनाए रखें।

इस कार्यक्रम में ओम प्रकाश कथूरिया, सुरेंद्र खुल्लर, उदय भान ग्रोवर, राम लाल ग्रोवर, गजेंद्र गोसाई, धर्मेंद्र बजाज, रमेश कामरा, केसर दास ग्रोवर, रविंद्र कुमार खुल्लर, किशोरी लाल डुडेजा, श्रीमती ज्योत्सना बजाज, श्रीमती रचना बजाज, हरीश कुमार, आश्रम के प्रधान राजेश गाबा, योगाचार्य आहूजा, रमेश मुंजाल, सुरेंद्र थरेजा, राजपाल आहूजा, पं.भीम दत्त ज्योतिषाचार्य, सी.बी.मनचन्दा, रमेश कुमार, राज कुमार जुनेजा की उपस्थिति रही। इस प्रकार 750 लोगों द्वारा बारह बार पाठ किया गया जिसका कुल योग नौ हज़ार हुआ।

समाजसेवी बोधराज सीकरी द्वारा “श्री हनुमान चालीसा “के पाठ की मुहिम के तहत” परम पूज्या श्री देवता जी महाराज, मंदिर श्री बालाजी, हनुमान जी महाराज, शिवाजी नगर की संचालिका के परम शिष्य मनोज गुप्ता एवं भारत गुप्ता के द्वारा बनाए गए नवग्रह के उपलक्ष्य में 6-5 -2023 से 12-5-2023 तक” श्री भागवत पुराण “की कथा जो पूज्य महर्षि पुरुषोत्तम कृष्ण गोस्वामी, नंदगांव जी के द्वारा भागवत पुराण में 7 दिन तक उपस्थित भक्तजनों द्वारा लगभग 5600 बार “श्री हनुमान चालीसा” के पाठ का पठन किया गया।

जिसके लिए बोधराज सीकरी के द्वारा श्री देवता जी महाराज एवं भागवत पुराण के मर्मज्ञ पूज्य पुरुषोत्तम कृष्ण गोस्वामी का सहृदय आभार व्यक्त किया। अनुज मनोज गुप्ता एवं भारत गुप्ता को उनके नव गृह प्रवेश पर इस सुंदर कार्य के लिए बहुत-बहुत बधाई दी।

हनुमान चालीसा पाठ की कुल संख्या उपरलिखित दो कार्यक्रम की 14600 हुई। और इस से पूर्व 158000 हो चुकी है और ऊपर कि संख्या मिला कर 172600 हो चुकी है।

Translated by Google 

Viral Sach : Bodhraj Sikri – Shree Geeta Ashram, Jyoti Park which is a Siddha Peeth and under whose chairmanship Pujya Charan Parmarth idol Dr. Swami Divyanand Ji Maharaj is “Bhikshu” under the resolution taken by social worker Bodhraj Sikri “Shri Hanuman Chalisa Lessons of ” were organized.

Before the recitation of “Shri Hanuman Chalisa”, immense devotional knowledge was discussed through divine and pithy scriptures to more than 750 present devotees in a jam-packed ashram by the most respected, worshipable, worshipable Maharaj Shri. Explained the 11th verse of the second chapter of Gita and explained the deep meaning of worship.

This program ran from 6:30 pm to 8:00 pm. After that Swamiji gave the knowledge of great devotion and power of Hanuman ji and then Bodhraj Sikri was given an opportunity to speak by Swamiji.

Bodhraj Sikri explained the deep meaning of the word “Jai” by explaining the text of Ramayana and Hanuman Chalisa in a comparative way and told that his aim is to make the young generation cultured. After worshiping Lord Hanuman, Gajendra Gosai started recitation of “Shri Hanuman Chalisa” musically by taking blessings from Maharaj Shri and taking blessings from Bodhraj Sikri.

He was accompanied by Pandit Bhim Dutt Jyotishacharya, Pandit Ramakant and Shri Devendra. Gajendra Gosai recited “Shri Hanuman Chalisa” 10 times without taking any rest in this program by taking everyone along. After that Swami ji took over the reins and recited Hanuman Chalisa twice with singing and notes showing a glimpse of spiritual rasa.

This is a profound book on Management as told by Swamiji. Dr. Swami Divyanand Maharaj’s presence and his blessings were received in this grand and divine event.

Maharaj Shri blessed Bodhraj Sikri by offering garland and putting a plaque and blessed him with Vyas Gaddi and said that I have congratulated you by calling you earlier for this work and again I bless you that what you have done. This campaign in the form of Ram Naam Roop has been started, it should continue to increase and the way you are always working for the society, for the state, keep doing the same in future.

Swamiji was pleased and urged Bodhraj Sikri to continue the event on Wednesday as well and the program would be accompanied by Dandiya in dance form. Swamiji told Bodhraj Sikri that may the Lord bless you always.

Om Prakash Kathuria, Surendra Khullar, Uday Bhan Grover, Ram Lal Grover, Gajendra Gosai, Dharmendra Bajaj, Ramesh Kamra, Kesar Das Grover, Ravindra Kumar Khullar, Kishori Lal Dudeja, Mrs. Jyotsna Bajaj, Mrs. Rachna Bajaj, Harish Kumar, Head of the ashram Rajesh Gaba, Yogacharya Ahuja, Ramesh Munjal, Surendra Thareja, Rajpal Ahuja, Pandit Bhim Dutt Astrologer, CB Manchanda, Ramesh Kumar, Raj Kumar Juneja were present. Thus it was recited twelve times by 750 people, whose total sum was nine thousand.

Commemoration of Navagraha created by Param Pujya Shri Devta Ji Maharaj, Manoj Gupta and Bharat Gupta, supreme disciple of Mandir Shri Balaji, Hanuman Ji Maharaj, operator of Shivaji Nagar, under the campaign of recitation of “Shri Hanuman Chalisa” by social worker Bodhraj Sikri From 6-5-2023 to 12-5-2023 the story of “Shri Bhagwat Puran” which was recited about 5600 times by the devotees present in Bhagwat Puran for 7 days by Pujya Maharishi Purushottam Krishna Goswami, Nandgaon ji was read.

For which Bodhraj Sikri expressed his heartfelt gratitude to Shri Devta Ji Maharaj and Bhagwat Purana’s deep-seated Pujya Purushottam Krishna Goswami. Many congratulations to Anuj Manoj Gupta and Bharat Gupta on their new home entry for this beautiful work.

The total number of Hanuman Chalisa recited in the above mentioned two programs was 14600. And before this it has become 158000 and together with the above number it has become 172600.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *