गोबर, माटी के दीयों का उपयोग कर गरीबों की दीवाली मनवाएं

गोबर, माटी के दीयों का उपयोग कर गरीबों की दीवाली मनवाएं

गुरुग्राम, (प्रवीन कुमार ) : कैनविन फाउंडेशन के सह-संस्थापक एवं पर्यावरण संरक्षण विभाग भाजपा हरियाणा प्रमुख नवीन गोयल ने सोमवार को सेक्टर-54/55 स्थित स्मृति वाटिका में लाफ्टर क्लब पहुंचकर क्लब की पत्रिका का विमोचन किया। इस दौरान उन्होंने बुजुर्गों का हंसी-खुशी जीवन बिताने के लिए प्रयासरत सदस्यों के कार्य की सराहना की।

नवीन गोयल ने कहा कि आज के समय में किसी को हंसाना भी बहुत बड़ा काम है। लोगों के जीवन में इतना तनाव आ चुका है कि वे अपनी हंसी-खुशी भूलते जा रहे हैं। ऐसे में लाफ्टर क्लब का यह प्रयास अनुकरणीय है। उन्होंने यहां पत्रिका का विमोचन करने के बाद सभी बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लेते हुए उन्हें दीवाली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमें पर्यावरण की सुरक्षा को सेफ दीवाली, ग्रीन दीवाली मनानी है। गोबर-मिट्टी से बने दीये जलाकर अपनी संस्कृति और संस्कारों से भावी पीढिय़ों को रूबरू कराना है। लोकल चीजों का भी अधिक से अधिक उपयोग करें। स्थानीय दुकानदारों, पटरियों पर सामान बेचने वालों से सामान खरीदकर उनके घर भी दीवाली मनवाएं। श्री गोयल ने कहा कि हमें समाज में एकता और भाईचारे की भावना को स्थापित करना है। हर व्यक्ति एक-दूसरे के सुख-दुख में काम आए। उन्हें खुशी है कि इस तरह के प्रयास लाफ्टर क्लब कर रहा है। यहां बुजुर्गों के चेहरों पर खुशी लाकर क्लब अपने नाम को साकार कर रहा है। 

लाफ्टर क्लब के चेयरमैन आनंद तायल ने इस अवसर पर दीवाली के दिन एक दीया शहीदों के नाम जलाने का संदेश दिया। उन्होंने कहा कि हमारे तीज-त्योहार अच्छे से मनें, इसके लिए हमारे सैनिक प्रहरी बनकर सीमाओं पर तैनात रहते हैं। जो शहीद हो गए हैं, उनका सम्मान करना हमारा कर्तव्य है। आनंद तायल के मुताबिक लाफ्टर क्लब की शुरुआत वर्ष 2012 में इसी सोच के साथ की गई थी कि वरिष्ठ नागरिक घरों में अकेलापन महसूस ना करें। वे उदासीन ना रहें। उदासीनता ही तनाव का बड़ा कारण बनती है। हर महीने की पहली तारीख को यहां लाफ्टर पत्रिका का विमोचन किया जाता है। अलग-अलग सदस्य यहां लाफ्टर कराते हैं। लाफ्टर क्लब में को-फाउंडर ओपी गुप्ता, सविता तायल, सुजाता गुप्ता, प्रेम अरोड़ा, मंगतराम अरोड़ा, एमएम स्कूल के प्रबंधक मनोज गुप्ता, केके वर्मा, राकेश सूरी आदि ने यहां नवीन गोयल का स्वागत किया।

 

Leave your comment
Comment
Name
Email