Gurugram

Gurugram के अस्पताल में ठेके पर लगे कर्मचारियों ने बनाए हैं कई रिकॉर्ड

Gurugram

 

Viral Sach – Gurugram, कोरोना महामारी के समय में जिन कर्मचारियों ने दिन-रात काम किया। खुद भी कोरोना संक्रमित हुए। उनके काम से ही स्वास्थ्य विभाग ने नाम कमाया। लोगों की टेस्टिंग समेत अनेक कार्यों को इन कर्मचारियों ने पूरी जिम्मेदारी के साथ किया।

अब इन कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। वैसे तो ये कोरोना काल में ही ठेके पर लगाए गए थे, लेकिन अब दो साल बाद हटा दिया गया है। अब ये कर्मचारी आंदोलन करने पर मजबूर हो गए हैं।

सेक्टर-39 में सिविल सर्जन कार्यालय के बाहर धरने पर बैठे इन कर्मचारियों में कई रिकॉर्ड बनाने वाले कर्मचारी भी इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगाते हुए अपनी नौकरी बहाली की मांग कर रहे हैं। धरने पर बैठी दीपिका ने सबसे ज्यादा सेंपल लिए थे। दो साल में एक लाख से ज्यादा सेंपल उन्होंने लिए। उनके इस काम पर मंत्री मूलचंद शर्मा ने 26 जनवरी 2022 को सम्मानित किया था।

रोहित समेत 8 लैब टेक्नीशियन ने 8 लाख 29 हजार सेंपल की जांच की। इसी तरह सोमबीर ने भी टेस्टिंग में बेहतरीन काम किया, जिन्हें वजीराबाद पीएचसी में विधायक सुधीर सिंगला द्वारा सम्मानित किया गया।

धरने पर बैठी दीपिका, रोहित, मोनू, सोमबीर, विजय कुमार, सोनिया आदि ने कहा कि हरियाणा के हर जिले में कोरोना काल के दौरान हर काम में गुरुग्राम अव्वल रहा। यह सब कर्मचारियों के काम से ही संभव हो पाया है।

आम आदमी पार्टी द्वारा धरनारत इन कर्मचारियों को पूरा समर्थन दिया गया है। आप नेता अभय जैन एडवोकेट, अशोक वर्मा एडवोकेट ने धरने पर बैठे इन कर्मचारियों को हर कदम पर साथ देने का आश्वासन दिया।

उन्होंने कहा कि नौकरी पर लगाए गए कर्मचारियों को अगर छह माह पूरे हो जाते हैं तो सरकार उन्हें इस तरह से नौकरी से नहीं निकाल सकती। इन कर्मचारियों को नौकरी करते हुए दो साल बीत गए। इतने समय के बाद इन्हें नौकरी से निकालना सरकार का गलत कदम है।

कर्मचारियों के मुताबिक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कह रहे हैं कि इन्हें सिर्फ कोविड के लिए ही लगाया गया था। जबकि उनके नियुक्ति पत्र में इस तरह की कोई बात नहीं लिखी गई है। आप नेताओं की मांग की है कि इन्हें सरकार बिना देरी कि फिर से नौकरी पर ले।

Gurugram

Translated by Google 

Viral Sach – Gurugram, the employees who worked day and night during the Corona pandemic. He himself got corona infected. The health department earned name due to his work. These employees did many tasks including testing of people with full responsibility.

Now these employees have been shown the way out. Although these were put on contract during the Corona period itself, but now they have been removed after two years. Now these workers have been forced to agitate.

Among these employees sitting on dharna outside the Civil Surgeon office in Sector-39, many record making employees are also demanding reinstatement of their jobs while raising slogans of Inquilab Zindabad. Deepika, who was sitting on the dharna, had taken the maximum number of samples. He took more than one lakh samples in two years. His work was honored by Minister Moolchand Sharma on 26 January 2022.

8 lab technicians including Rohit examined 8 lakh 29 thousand samples. Similarly, Sombir also did excellent work in testing, which was honored by MLA Sudhir Singla at Wazirabad PHC.

Deepika, Rohit, Monu, Sombir, Vijay Kumar, Sonia etc. sitting on dharna said that in every district of Haryana, Gurugram topped in every work during the Corona period. All this has been possible only because of the hard work of the employees.

The Aam Aadmi Party has given full support to these workers on strike. AAP leader Abhay Jain Advocate, Ashok Verma Advocate assured to support these workers sitting on dharna at every step.

He said that if the employed employees complete six months, the government cannot fire them like this. Two years passed while these employees were employed. It is a wrong step of the government to remove them from the job after so long.

According to the employees, the health department officials are saying that they were installed only for Kovid. Whereas no such thing has been written in his appointment letter. AAP leaders have been demanded that the government should re-hire them without delay.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *