कोरोना काल की चुनौतियों को अवसर में बदलें: सुधीर सिंगला

कोरोना काल की चुनौतियों को अवसर में बदलें: सुधीर सिंगला

गुरुग्राम, (मनप्रीत कौर ) : कोरोना महामारी से संक्रमितों के जल्द स्वस्थ होने, महामारी से दिवंगत हुए लोगों की आत्मा की शांति और पर्यावरण की शुद्धि के लिए यहां श्री सिद्धेश्वर मंदिर में हवन का आयोजन किया गया। इसमें आरएसएस के हरियाणा प्रांत संघ चालक पवन जिंदल, गुडग़ांव के विधायक सुधीर सिंगला, श्री सिद्धेश्वर मंदिर कमेटी के प्रधान रामअवतार गर्ग (बिट्टू) ने आहुति डाली।

इस अवसर पर संघचालक पवन जिंदल ने कहा कि हमारा शरीर पांच तत्वों से मिलकर बना है। इसमें से एक भी तत्व की कमी हमारे लिए हानिकारण सिद्ध हो सकती है। इसलिए हमें पृथ्वी पर हर चीज का बैलेंस बनाकर रखना है। उन्होंने पर्यावरण शुद्धि के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि यह हमारे जीवनदायक है। हमें इन्हीं पेड़ों से ऑक्सीजन मिलती है। जिस ऑक्सीजन के लिए इस दौर में इतनी मारामारी हुई है, वह हम अधिक से अधिक हरियाली करके निशुल्क ग्रहण कर सकते हैं।

विधायक सुधीर सिंगला ने कहा कि कोरोना ने हमें नये तरीके से जीना भी सिखाया है। हमें आज के समय की चुनौतियों को अवसर के रूप में लेकर आगे बढऩा है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी ने हम सबको बहुत प्रभावित किया है। हमें शारीरिक नुकसान देने के साथ आर्थिक नुकसान भी दिया है। लॉकडाउन में सभी प्रतिष्ठान बंद रहे। दुकानदार, व्यापारियों को नुकसान हुआ। इस महामारी ने बहुतों ने जान गंवाई और बहुत से अभी भी जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम सबको धैर्य से काम लेना है। किसी भी तरह का तनाव नहीं लेना।

जो कोरोना संक्रमित हैं, वे जल्द स्वस्थ होंगे। ऐसी उनका कामना है। इसी कामना को लेकर श्री सिद्धेश्वर मंदिर में हवन किया गया है। कोरोना काल में दिवंगत हुए लोगों की आत्मा की शांति के लिए भी हवन में आहुति दी गई, वहीं जो संक्रमित हैं उनके जल्द स्वस्थ होने के लिए भी। उन्होंने कहा कि हवन करने से हमारा पर्यावरण भी शुद्ध होगा। जिसका सीधा लाभ जनमानस को होगा।

रामअवतार गर्ग (बिट्टू) ने कहा कि हमें कोरोना महामारी से बचाव को अभी भी ऐहतियात बरतने की जरूरत है। कोरोना के केस कम हुए हैं, लेकिन कोरोना खत्म नहीं हुआ है। वह हम सबके बीच में ही है। इसलिए हमें मास्क, सामाजिक दूरी समेत तमाम सावधानियां बरतनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यहां किया गया हवन निश्चित रूप से पर्यावरण शुद्धि में सहायक होगा। ऐसे आयोजन हमें करते रहने चाहिए, ताकि पर्यावरण को हम इस तरीके से शुद्ध रख सकें।

Leave your comment
Comment
Name
Email