Gurugram

DP Goyal – हमें अपनी भारतीय सेना पर गर्व होना चाहिए

DP Goyal

 

गुरुग्राम। DP Goyal – कैनविन फाउंडेशन के संस्थापक एवं रेलवे सलाहकार समिति के सदस्य डा. डीपी गोयल ने कहा कि हमें अपनी भारतीय सेना पर गर्व होना चाहिए। इन सैनिकों की वजह से ही हमारा देश सुरक्षित है। वे बॉर्डर पर हैं तो हम अपने घरों में चैन से रहते हैं। यह बात उन्होंने यहां श्रीमाता शीतला मंदिर में फौजा फिल्म के प्रचार के दौरान पत्रकार वार्ता में कही।

डा. डीपी गोयल ने कहा कि भारत के फिल्म उद्योग ने अनेक फिल्में बनाकर हकीकत को पर्दे पर उतारा है। हमारे सैनिकों की वीरता दिखाई है। फिल्में अपने आप में प्रेरणा का स्रोत होती हैं। अच्छी फिल्मों को सदा सराहना मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि फौजा फिल्म भी सैनिकों को सम्मान देने वाली फिल्म है। परिवार, बच्चों के साथ इस फिल्म को जरूर देखा जाना चाहिए, ताकि बच्चे भी इनसे प्रेरित हों। उन्होंने कहा कि जनसंख्या में भले ही हम कम हों, लेकिन भारतीय सेना में हर छठा जवान हरियाणा का है। हरियाणवियों में देश सेवा का जज्बा बेहतरीन है।

फिल्म में फौजा का किरदार निभाने वाले अभिनेता पवन मल्होत्रा ने फिल्म का प्रचार करते हुए कहा कि हमें अपने सैनिकों का हर जगह पर सम्मान करना चाहिए। जब वे छुट्टी पर घर आएं या वे घर से ड्यूटी पर जाएं तो उनका स्वागत, सम्मान होना चाहिए। आज की युवा पीढ़ी अपने देश के इतिहास को नहीं जानती। पढ़ाई के साथ बच्चों, युवाओं को सैनिकों, युद्धों के बारे में भी बताया जाना चाहिए, ताकि वे यह जान सकें कि हमारे सैनिकों ने सदैव हमारी सुरक्षा के लिए खुद को कुर्बान किया है।

अपना चैन-सुकून छोड़ा है। उन्होंने कहा कि फौजा फिल्म अपने आप में सैनिकों को सम्मान देने वाली फिल्म है। इसे देखने जरूर जाएं। फौजा सिर्फ एक नाम नहीं है, बल्कि एक परम्परा है। शारीरिक दिव्यांगता से फौजा भले ही सेना में शामिल ना हो पाया हो, लेकिन सिविलियन के रूप में उसका हौंसला, साहस सैनिकों जैसा है। वह देश, समाज के लिए कुछ करना चाहता है।

पवन मल्होत्रा ने कहा कि हरियाणा, राजस्थान, पंजाब, उत्तराखंड आदि से परिवार के परिवार सेना में देश सेवा करते हैं। सैनिकों का सम्मान कभी नहीं होना चाहिए। उन्होंने फिल्म अभिनेता सतीश कौशिक को भी श्रद्धांजलि दी।

फिल्म के निर्देशक प्रमोद मंगला व प्रोड्यूसर अजीत डालमिया ने कहा कि फौजा फिल्म एक जून से 10 राज्यों के सिनेमाघरों में रिलीज होगी। फिल्म फौजा हर सैनिक, हर सैनिक के परिवार को सम्मान देने वाली है। पूरी फिल्म हरियाणा में ही शूट की गई है। यह फिल्म भारतीय सेना को समर्पित है। कारगिल में शहीद हुए एक सैनिक के जीवन से प्रेरित होकर यह फिल्म बनाई गई है।

फिल्म में अभिनेता कार्तिक ने कहा कि फौज और फौजी की कहानी पर फिल्म बनाना ही अपने आप में बड़ा अवार्ड है। हम फौज का कर्ज कभी उतार नहीं सकते। अभिनेत्री नीवा मलिक ने कहा कि कहने को तो फौजा एक फिल्म है, लेकिन इस फिल्म को बनाने के दौरान यह महसूस हुआ कि एक फौजी बनना और बनाना दोनों ही बहादुरी के काम है। एक सैनिक को तैयार करने के लिए पूरा परिवार लगता है। तब जाकर देश को बहादुर सैनिक मिल पाता है।

Translated by Google 

DP Goyal – We should be proud of our Indian Army

Gurugram. DP Goyal – Founder of Canwinn Foundation and Member of Railway Advisory Committee Dr. DP Goyal said that we should be proud of our Indian Army. Our country is safe only because of these soldiers. When they are at the border, we live peacefully in our homes. He said this in a press conference during the promotion of Fauja film at Shri Mata Sheetla Mandir here.

Dr. DP Goyal said that Indian film industry has brought reality on the screen by making many films. The bravery of our soldiers has been shown. Movies are a source of inspiration in themselves. Good films should always be appreciated. He said that the film Fauja is also a film giving respect to the soldiers. This film must be watched with family and children, so that children too get inspired by it. He said that even though we are less in population, every sixth soldier in the Indian Army is from Haryana. The spirit of serving the country is excellent among Haryanvis.

While promoting the film, actor Pavan Malhotra, who plays Fauja in the film, said that we should respect our soldiers everywhere. When they come home on leave or when they leave home for duty, they should be welcomed and respected. Today’s young generation does not know the history of their country. Along with education, children, youth should also be told about soldiers, wars, so that they can know that our soldiers have always sacrificed themselves for our safety.

I have given up my peace. He said that Fauja film in itself is a film giving respect to the soldiers. Must go to see it. Fauja is not just a name, but a tradition. The soldier may not have been able to join the army due to physical disability, but as a civilian, his courage and courage are like soldiers. He wants to do something for the country, society.

Pawan Malhotra said that families from Haryana, Rajasthan, Punjab, Uttarakhand etc serve the country in the army. Soldiers should never be respected. He also paid tribute to film actor Satish Kaushik.

The film’s director Pramod Mangla and producer Ajit Dalmiya said that the film Fauja will be released in theaters in 10 states from June 1. The film Fauja is going to honor every soldier, every soldier’s family. The entire film has been shot in Haryana only. This film is dedicated to the Indian Army. The film has been inspired by the life of a soldier who was martyred in Kargil.

In the film, actor Karthik said that making a film on the story of army and soldiers is a big award in itself. We can never repay the army’s debt. Actress Neeva Malik said that Kehne Ko Toh Fauja is a film, but while making this film, it was realized that both becoming and making a soldier are acts of bravery. It takes a whole family to make a soldier. Only then the country gets a brave soldier.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News 

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *