रामायण का हर पात्र हर जन के लिए प्रेरणा है,हमें हर पात्र के जीवन की सकारत्मकता को आत्मसात करना है-बोधराज सीकरी

गुरुग्राम, (मनप्रीत कौर) : प्रसिद्ध समाजसेवी एवं सीएसआर ट्रस्ट हरियाणा के उपाध्यक्ष श्री बोधराज सीकरी जी के जीवन का ध्येय जन सेवा के साथ प्रकृति सेवा भी है। गुरुग्राम में विभिन्न स्थानों पर चल रहे रामलीला कार्यक्रमों के शुभ मंचन के अवसर पर मुख्यातिथि के रूप में शिरकत कर उपस्थित जनसमूह को सम्बोधित किया। दशहरा मैदान, न्यू कॉलोनी में श्री सिकरी जी ने अपने विचार जनता के साथ सांझा करते हुए कहा कि कलयुग और त्रेतायुग में अगर कुछ समानता है तो वह है पर्यावरण असन्तुलन की।

श्रीराम ने वनवास के चौदह वर्ष में से तेरह वर्ष केवल पर्यावरण की सुरक्षा में ही बिताए, फिर चाहे राक्षसों का वध रहा या उनके द्वारा वन में रहने वाले प्राणियों की रक्षा। अगर हमें अपनी भावी पीढ़ियों को एक स्वस्थ और निरोग भविष्य देना है उसके लिए हमें पर्यावरण की सुरक्षा हेतु पूर्ण योगदान देना ही होगा है। गुरुग्राम में रामलीला की पावन परम्परा का निर्वहन जिस प्रकार पूर्ण हर्षोल्लास से किया जा रहा है बेहद अविस्मरणीय और प्रशंसनीय है। इसके पश्चात आदर्श रामलीला क्लब,अर्जुन नगर में में पहुंचकर सीकरी जी ने सभी संयोजनकर्ताओं का आभार प्रकट किया तथा श्रीराम जी के जीवनचरित को अपने जीवन का आधार बनाने की बात कही और ये भी कहा को वसुधा की सुरक्षा हेतु श्रीराम ने वनवास को भी सहज स्वीकार कर लिया और पूर्ण समर्पण से प्रकृति की रक्षा की। रावण का वध तो वनवास के अंतिम चरण का परिणाम था उससे पहले पृथ्वी को भयानक ताप से मुक्ति दिलाने का दायित्व उन्होंने जिस भाव से निभाया वो आने वाली अनगिनत पीढ़ियों के लिए प्रेरणा है। इस दौरान उनके साथ श्री सुरेंद्र खुल्लर (श्री केंद्रीय सनातन सभा के प्रधान) तथा यशपाल ग्रोवर (संचालक न्यू आदर्श रामलीला क्लब) उनके साथ उपस्थित रहे।

रामलीला क्लब भीम नगर में सीकरी जी ने सभासदों को भी ग्लोबल वार्मिंग को एक चेतावनी के रूप में लेने की बात करते हुए आदर्श नायक श्रीराम के पदचिह्नों का अनुसरण करने का आह्वान किया। इसके साथ ही उन्होंने नवरात्रि की बधाई देते हुए कहा कि इस कार्यक्रम के सभी संयोजक हार्दिक बधाई के पात्र हैं, जो धर्म की अविरल मन्दाकिनी के प्रवाह को हर वर्ष एक नया वेग देकर नई पीढ़ी को भारत की ऐतिहासिक एवं धार्मिक पृष्ठभूमि से अवगत करवाते हैं। इस अवसर पर श्री किशोरी डुडेजा तथा भारत भूषण, जी. एन.गोसाईं, संजय टण्डन इत्यादि कई गणमान्य लोग उनके साथ उपस्थित रहे। पर्यावरण संरक्षण की बात पर कार्यक्रमों में उपस्थित सभी लोगों ने अपना पूर्ण समर्थन दिया।

bombay Jewellers

Read Previous

1947 के विभाजन का दर्द – बुजुर्गों की जुबानी

Read Next

1947 के विभाजन का दर्द – बुज्रुगों की जुबानी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Most Popular