बोध राज गंभीर की कलम से ....

बोध राज गंभीर की कलम से ….

Annu Advt

मेरा जन्म पाकिस्तान जो 1947 से पहले हिंदुस्तान था, मैं दौलतवाला गाँव में 12.03.1936 में हुआ था | मेरा पालन-पोषण दौलत वाला में हुआ था, जो वोहवा शहर से तक़रीबन 6 मील पर था | मेरे पिताजी और दो बड़े भाई किराना की दुकान करते थे | मैं उस समय 11 साल का था और छठी क्लास में पढ़ता था | हम पांच भाई थे | मैं चौथी क्लास तक दौलत वाला गाँव में पढ़ा हूँ और छठी क्लास वोहवा शहर में पढ़ा था | मैं अपने भाईयों का हाथ बाँटने के लिए वोहवा से दुकान का सामान घोड़े पर बैठकर अकेला लाता था | स्कूल में उर्दू पढ़ाई जाती थी | वहाँ पर पक्की सड़कें नहीं होती थी | कच्चा रास्ता होता था |

रस्ते में किसान लोग खेतों में काम करते रहते थे | ज्यादातर वो लोग किसान होते थे और सज्जन आदमी थे | हमारे गाँव में और शहर मर बेर के पद और खजूर के बहुत पेड़ थे | मैं खजूर के पेड़ पर चढ़कर खजूर उतारा करता था | वोहवा शहर में एक बहुत बड़ा गौसाई नाम का मंदिर था और भी कई मंदिर थे | हमारे मंदिर का बड़ा पुजारी पंडित जुगलदास जी था जो बाद में विभाजन के बाद गुड़गाँव में आ गया था | हमारे शहर में गंग नाम की पानी की नहर बहती थी जिसका पानी साफ और स्वच्छ होता था | हमारा स्कूल शहर के बाहर था और दशहरे का त्यौहार भी शहर के बाहर भी मनाया जाता था | लोग बड़े चाव से त्यौहार मनाते थे | बिजली आदि नहीं हुआ करती थी | पढ़ाई के समय सरसों की तेल की दिया जलाकर पढ़ा जाता था | घरों में लालटेन में मिट्टी का तेल प्रयोग होता था |

जब देश आज़ाद हुआ | बस से पहले डेरा गाजी खान में लाया गया उसके बाद बसों में मुजफ्फरगढ़ और फिर ट्रेनों से इंडिया, फिर जालंधर, फिर सोनीपत और फिर गुड़गाँव में लाया गया | जब ट्रेन अटारी स्टेशन पहुंची, वहां के लोगों ने बहुत प्यार से और ख़ुशी से, स्वागत किया और खाना खिलाया और जय भारत के नारे लगाये |

हमारे शहर वोहवा में चारों तरफ कच्ची मिट्टी के बने हुए बंद दरवाज़ों वाली चौकियां होती थी | हिन्दू आबादी शहर के अन्दर होती थी | बाकी लोग शहर के बाहर रहते थे | लड़ाई के समय ऊपर चौबारे पर 2 फौज़ के सिपाही गन के साथ पहरा देते थे | शहर और गाँव में दूध-दही की कोई कमी नहीं थी | दूध बेचा नहीं जाता था | हर घर में गाय होती थी | बासी रोटी मक्खन के गोले के साथ खाई जाती थी, बड़ा स्वाद आता था |

Leave your comment
Comment
Name
Email