गैंगस्टर सुबे गुर्जर का चौथा साथी भी आया पुलिस की गिरफ्त में

गैंगस्टर सुबे गुर्जर का चौथा साथी भी आया पुलिस की गिरफ्त में

गुरुग्राम, (प्रवीन कुमार) : 19.03.2021 को पुलिस थाना पालम विहार, गुरुग्राम की पुलिस टीम को एक सूचना धर्म कॉलोनी RK टॉवर के पीछे आज्ञात लोगों द्वारा चन्द्रपाल नाम के एक व्यक्ति पर फायर करने उपरान्त पीङित/घायल व्यक्ति चन्द्रपाल यादव को ईलाज के लिए कोलम्बिया एशिया अस्पताल में दाखिल कराए जाने के सम्बन्ध में प्राप्त हुई।

उक्त सूचना पर थाना पालम विहार, गुरुग्राम की पुलिस टीम बिना किसी देरी के कोलम्बिया एशिया अस्पताल पहुँच गई। जहाँ पर गोली लगने के कारण घायल हुआ व्यक्ति चन्द्रपाल यादव व उसका लडका रोहित मिले। घायल व्यक्ति चन्द्रपाल यादव पुत्र श्री राज सिंह यादव निवासी G-228 धर्म कॉलोनी पालम विहार, गुरुग्राम ने पुलिस टीम को बताया कि यह अपने परिवार सहित उक्त पते पर रहता है और पिछले 18 वर्षो से बैचटक प्राइवेट इन्डिया लिमिटिड कम्पनी में चीफ सिक्योरीटी ऑफिसर के पद पर तैनात है। दिनांक 19.03.2021 को सुबह यह अपने घऱ पर ही था, करीब 08.30 am पर यह अपने घर के सामने वाले पार्क में शेव करने के लिए गया। जब यह शेव कर रहा था तो पार्क के पिछे वाली जगह से दो नौजवान लडके जिनको यह नही जानता पार्क में आए और दोनो नौजवान लडकों के पास हथियार थे जिन्होनें इसको जान से मारने की नियत से इस पर फायर किया। उनके द्वारा किए गए फायर में से 01 गोली इसकी कोहनी पर लगी और उनके द्वारा किया गया एक फायर मिस हो गया। तभी इनके पास रखी हुई कुर्सी को इसने उसकी तरफ फैंका औऱ चिल्लाना शुरु कर दिया। यह देख कर दोनों लडके पार्क के पीछे की तऱफ भागे। उनका तीसरा साथी मोटरसाइकिल पर उनका इंतजार कर रहा था। दोनों लङके अपने साथी के साथ मोटरसाईकिल पर बैठकर हवा में फायर करते हुए चले गए।

गुरुग्राम की पुलिस टीमों ने संयुक्त कार्यवाही करते हुए अपनी समझबुझ से दिनांक 04.05.2021 को उपरोक्त अभियोग में Bes-Tech बिल्डर कम्पनी के सिक्योरिटि चीफ पर फायरिंग करने की वारदातों को अन्जाम देने वाले निम्नलिखित 03 आरोपियों को द्वारिका एक्सप्रेस-वे, गुरुग्राम से काबू करने में बङी सफलता हासिल की थीः-

1. अजय उर्फ अनिल पुत्र जयभगवान निवासी गाँव खखाना, जिला झज्जर।

2. हर्ष उर्फ बेलन पुत्र सुरेन्द्र निवासी गाँव छबीली, जिला झज्जर।

3. वैभव चावड़ा उर्फ बब्लू पुत्र गिरिराज निवासी घहनकर थाना किशनगढ़ जिला अलवर, राजस्थान।

आरोपियों को उपरोक्त अभियोग में नियमानुसार गिरफ्तार किया गया तथा निरीक्षक नवीन कुमार, प्रभारी अपराध शाखा डी.एल.एफ. फेस-4, गुरुग्राम की पुलिस टीम द्वारा उपरोक्त आरोपियों को माननीय अदालत के सम्मुख पेश करके आरोपी हर्ष व वैभव उक्त को 02 दिन के पुलिस हिरासत रिमाण्ड पर लिया गया व आरोपी अजय उर्फ अनिल उक्त को न्यायिक हिरासत में भेजा गया।

पुलिस हिरासत रिमाण्ड के दौरान आरोपियों से ज्ञात हुआ कि ये सभी कुख्यात गैन्गस्टर सुबे गुर्जर गिरोह के सक्रिय सदस्य है और इन्होनें गैन्गस्टर सुबे के कहने पर ही अपने एक अन्य साथी (हरेन्द्र) के साथ मिलकर शिकायतकर्ता को डराने व उसे भयभीत करने के लिए उसको गोली मारने की वारदात को अन्जाम दिया था।

आरोपियों से पुलिस पूछताछ में यह भी ज्ञात हुआ कि उपरोक्त अभियोग की वारदात को अन्जाम देने में प्रयोग किए गए हथियार इनके उक्त साथी अजय उर्फ अनिल ने उपलब्ध कराए थे तथा वारदात में प्रयोग की गई मोटरसाईकिल इनके साथ वारदात को शामिल रहे इनके एक अन्य साथी आरोपी (हरेन्द्र) की थी, जो मोटरसाईकिल सहित उपरोक्त अभियोग की वारदात के समय पार्क के बाहर इनका इन्तजार कर रहा था और वारदात के बाद आरोपी उसके साथ ही मोटरसाईकिल पर सवार होकर भाग गए थे।

पुलिस टीम द्वारा पुलिस हिरासत रिमाण्ड के दौरान उक्त आरोपी हर्ष व वैभव के कब्जा से 04 जिन्दा कारतूस बरामद किए गए है।

इसी कङी में आगामी कार्यवाही करते हुए निरीक्षक नवीन कुमार, प्रभारी अपराध शाखा डी.एल.एफ. फेस-4, गुरुग्राम की पुलिस टीम ने पुलिस प्रणाली का प्रयोग करते हुए अपनी समझबुझ से उपरोक्त अभियोग में वारदात को अन्जाम देने में शामिल रहे उपरोक्त आरोपियों के चौथे साथी आरोपी को दिनांक 06.05.2021 को गाङौली रोङ नजदीक हिमगिरी चौक, गुरुग्राम से काबू करने में सफलता हासिल की है। आरोपी की पहचान हरेन्द्र उर्फ सन्नी पुत्र सतीश कुमार निवासी गाँव गिजाडोध, थाना सदर झज्जर, जिला झज्जर के रुप में हुई है।

आरोपी ने पुलिस पूछताछ में बतलाया कि यह गैन्गस्टर सुबे के गिरोह को सक्रिय सदस्य है। इसके उपरोक्त साथी आरोपी हर्ष व वैभव को इसके उपरोक्त साथी अजय ने हथियार दिए और यह दोनों (हर्ष व वैभव) के साथ अपनी मोटरसाईकिल पर सवार होकर उपरोक्त अभियोग की वारदात को अन्जाम देने गए। वारदात को अन्जाम देने के बाद यह व इसके दोनों साथी इसी मोटरसाईकिल पर वापस आए थे। वारदात को अन्जाम देने में प्रयोग की गई मोटरसाईकिल इसी की है और यह खुद मोटरसाईकिल को चलाकर अपने दोनों साथियों के साथ वारदात को अन्जाम देने के लिए गया था।

Leave your comment
Comment
Name
Email