Politics

Hanuman Chalisa के पाठ की गणना 231000 हुई पार

bodhraj sikri, hanuman chalisa

 

Viral Sach : मंगलवार 12 तारीख को श्री सनातन धर्म मंदिर सेक्टर 56, गुरुग्राम में Hanuman Chalisa पाठ का आयोजन किया गया। इससे पूर्व भी नए गुड़गांव में ही डीएलएफ फेज 1 और सुशांत लोक में इस प्रकार का आयोजन हो चुका है। 15 दिन बाद सेक्टर 15, गुरुग्राम जो नए गुड़गांव का हिस्सा है, में इसका आयोजन किया जाएगा।

बोध राज सीकरी के अनुसार हनुमान चालीसा एक ऐसा विलक्षण ग्रंथ है जिसमें प्रारंभ में और अंत में “गुरु” शब्द आता है। क्योंकि संत तुलसीदास को हनुमान जी के माध्यम से मर्यादा पुरुषोत्तम राम के दर्शन करने थे। इसलिए उन्हें “गुरु” बनाना पड़ा। अतः हनुमान जी को प्रारंभ में गुरु बनाया और अपने आप को “बुद्धिहीन” बनाया।

जिसके फलस्वरूप उन्होंने हनुमान जी से बल, बुद्धि, विद्या मांगकर अपने सब क्लेश और विकार भी खत्म करवा दिए। अंत मे “गुरु” शब्द क्यों आया क्योंकि उनके अपने गुरु नरसिंहदास जी थे उन्हें भी प्रसन्न करना उन्हें आता था। बोध राज सीकरी के कथन अनुसार दत्तात्रेय ऋषि के तो 24 गुरु थे।

बोध राज के अनुसार हनुमान चालीसा संत तुलसी दास ने क्यों लिखा, क्योंकि राम की प्राप्ति उनके माध्यम से होती है। इसलिए हनुमान चालीसा में हनुमान जी की स्तुति है, उनकी तारीफ है, उनके गुणों का व्याख्यान है, परन्तु हनुमान चालीसा लिखते समय प्रारभ में ही “राम” जी कैसे आ गए।

“बरनऊं रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।”

क्योंकि तुलसीदास जी हनुमान जी के स्वभाव को भलीभाँति जानते थे। जहां राम जी नहीं होते वहां हनुमान जी नहीं होते। अतः हनुमान जी के दर्शन करने के लिए संत तुलसी दास जी ने मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम का हनुमान चालीसा की पहली कुछ पंक्तियों का ज़िक्र किया।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।।

इसी प्रकार बोधराज सीकरी ने अपने वक्तव्य में बताया कि सुमति कुमति सबके उर माहि।

ऐसे ही ज्ञान और वैराग्य भी सबके मन में है। अज्ञान रूपी आंख को अंजन यानी सुरमें की जरूरत है। तभी ज्ञान उजागर होता है। और सुरमे को अंजन भी कहते हैं। अंजन कौन देगा वह अंजनी पुत्र पवनसुत देंगे।

बोधराज सीकरी ने अपने वक्तव्य में उपस्थित युवा पीढ़ी को अपने संस्कार, अपनी सभ्यता, अपने त्योहार व अपने ग्रन्थों से दूर न रहने की सलाह दी और मंदिर के पवित्र प्रांगण में लगभग सवा दो सौ लोग उपस्थित थे। लेकिन मंगलवार होने के कारण कई लोग देर से आए।

अतः 175 लोगों ने 22 बार श्री हनुमान चालीसा के पाठ का पठन किया। उसके अतिरिक्त जामपुर शिव मंदिर, ईस्ट ऑफ कैलाश में 40 लोगों ने 5-5 बार पाठ किया और फ्लायर पार्क सुशान्त लोक फेज 1 में प्रातः सैर करने वाले ग्रुप के 20 लोगों ने 5-5 बार पाठ किया। कल के पाठ की कुल संख्या 4150 थी। पिछले मंगलवार तक 228815 पाठ हो चुके थे और कल के पाठ की संख्या को सम्मिलित करने के बाद यह संख्या 232965 पार कर गई।

बोधराज सीकरी ने उपस्थित सभी मातृ शक्ति और बंधु से प्रार्थना की कि जब मंदिर में आएं तो अपनी पोशाक व वेशभूषा का विशेष ध्यान दें। कई आज के युवा ये नहीं देखते कि हम किस मर्यादित स्थान पर जा रहे हैं। अतः हमें मंदिर जाते समय वहां की मर्यादा और वहां की परिस्थितियों के अनुसार पोशाक व अपनी वेशभूषा डालनी चाहिए।

इस कार्यक्रम में ना केवल नए गुड़गांव के लोग जुड़े बल्कि 30 से 35 लोग तो पुराने गुड़गांव से भी उपस्थित थे। बोधराज सीकरी ने अपने वक्तव्य में उन सभी का आभार प्रकट किया। आने वाले मंगलवार 18 जुलाई को न्यू आदर्श रामलीला क्लब अर्जुन नगर गुरुग्राम, जिसके प्रधान श्री गंगाधर खत्री और महा मंत्री श्री यशपाल ग्रोवर है, उनकी ओर से आयोजन किया जाएगा।

इस आयोजन में श्री ओम प्रकाश कथूरिया चेयरमैन ओम स्वीट्स और जानेमाने आयुर्वेदाचार्य समाज सेवी डॉक्टर परमेश्वर अरोरा की गरिमामयी उपस्थिति रहेगी।

कल मंगलवार के आयोजन में मंदिर के प्रधान आर.एस खत्री , सुरेश कपासिया उप प्रधान, डॉ एस.के त्रिपाठी महामंत्री यजमान बने और पूजा अर्चना कर पाठ का शुभारंभ किया।

श्री एस. के खुल्लर प्रधान श्री केंद्रीय सनातन धर्म सभा, गुरुग्राम, श्री गजेंद्र गोसाईं जिन्होंने व्यास गद्दी से हनुमान चालीसा का संगीतमय तरीक़े से सुमधुर पाठ किया, श्री धर्मेंद्र बजाज, महामंत्री केंद्रीय आर्य प्रतिनिधि सभा, श्री रमेश कामरा, श्री किशोरी डुडेजा, श्री द्वारका नाथ मक्कड़, श्री ओमप्रकाश गाबा, श्री सतपाल नासा, श्री रमेश मुंजाल, श्री के.के अरोड़ा एडवोकेट, रुपक चौधरी, श्री सरदाना जी ब्रांड एंबेसडर सीनियर सिटीजन केसरी क्लब, श्री एम.डी कालरा, श्री सुरेंद्र गुलाटी एडवोकेट उपस्थित रहे।

सुशांत लोक से सर्वश्री राजीव छाबड़ा, सतीश चावला, रमेश नरूला, अजय भार्गव, और संजय बिष्ट हाज़िर हुए।

महिला टीम से श्रीमती ज्योत्सना बजाज, श्रीमती ज्योति वर्मा, श्रीमती रचना बजाज, श्रीमती पुष्पा नासा, श्रीमती बिमला अरोड़ा, और श्रीमती मुंजाल व अन्य जन उपस्थित रहे।

Translated by Google 

Viral Sach: On Tuesday 12th, Hanuman Chalisa recitation was organized at Shri Sanatan Dharma Mandir Sector 56, Gurugram. Earlier also this type of event has been organized in DLF Phase 1 and Sushant Lok in New Gurgaon itself. It will be organized after 15 days in Sector 15, Gurugram which is part of New Gurgaon.

According to Bodh Raj Sikri, Hanuman Chalisa is such a unique book in which the word “Guru” comes in the beginning and at the end. Because Saint Tulsidas had to see Maryada Purushottam Ram through Hanuman ji. That’s why he had to be made a “Guru”. That’s why he made Hanuman ji his guru in the beginning and made himself “intelligent”.

As a result, by asking Hanuman ji for strength, wisdom and knowledge, he got all his troubles and disorders finished. Why did the word “guru” come in the end because he knew how to please his own Guru Narsingh Das Ji. According to the statement of Bodh Raj Sikri, Dattatreya Rishi had 24 gurus.

According to Bodh Raj, why Hanuman Chalisa was written by Saint Tulsi Das, because Rama is attained through him. That’s why Hanuman ji is praised in Hanuman Chalisa, he is praised, his qualities are described, but how did “Ram” ji come in the beginning while writing Hanuman Chalisa.

“Barnaun Raghuvar Bimal Jasu, Jo Dayaku Phal Chari.”

Because Tulsidas ji knew very well the nature of Hanuman ji. Where Ram ji is not there, Hanuman ji is not there. Therefore, Saint Tulsi Das ji mentioned the first few lines of Maryada Purushottam Lord Rama’s Hanuman Chalisa to have darshan of Hanuman ji.

You Delight in Listening to the Glories of God
Ram Lakhan Sita’s mind settled.

Similarly, Bodhraj Sikri told in his statement that Sumati Kumati Sabke Ur Mahi.

Similarly, knowledge and disinterest are also in everyone’s mind. The eye of ignorance needs anjan i.e. surme. Only then does knowledge emerge. And Surme is also called Anjan. Who will give Anjan, that Anjani’s son Pawansut will give.

Bodhraj Sikri in his statement advised the young generation not to stay away from their culture, their civilization, their festivals and their scriptures and about 250 people were present in the holy premises of the temple. But being Tuesday many people came late.

Hence 175 people recited the text of Shri Hanuman Chalisa 22 times. Apart from this, 40 people recited 5-5 times at Jampur Shiv Mandir, East of Kailash and 20 people of morning walk group at Flyer Park Sushant Lok Phase 1 recited 5-5 times. The total number of lessons yesterday was 4150. Till last Tuesday there were 228815 lessons and after including yesterday’s number of lessons this number crossed 232965.

Bodhraj Sikri requested all the mother power and brothers present to pay special attention to their dress and costumes when they come to the temple. Many of today’s youth do not see to what limited place we are going. Therefore, while going to the temple, we should dress according to the dignity and the circumstances there and wear our costumes.

Not only people from New Gurgaon joined in this program, but 30 to 35 people from Old Gurgaon were also present. Bodhraj Sikri thanked all of them in his statement. On coming Tuesday, July 18, New Adarsh Ramlila Club Arjun Nagar Gurugram, headed by Mr. Gangadhar Khatri and General Secretary Mr. Yashpal Grover, will be organized on his behalf.

Shri Om Prakash Kathuria, Chairman Om Sweets and renowned Ayurvedacharya social worker Dr. Parmeshwar Arora will be present in this event.

In Tuesday’s event, the head of the temple, RS Khatri, Suresh Kapasiya, deputy head, Dr. SK Tripathi became the general secretary and started the lesson by offering prayers.

Shri S. K Khullar Pradhan Shri Kendriya Sanatan Dharma Sabha, Gurugram, Shri Gajendra Gosain who recited Hanuman Chalisa in a musical manner from Vyas Gaddi, Shri Dharmendra Bajaj, General Secretary Kendriya Arya Pratinidhi Sabha, Shri Ramesh Kamra, Shri Kishori Dudeja, Shri Dwarka Nath Makkar , Mr. Omprakash Gaba, Mr. Satpal Nasa, Mr. Ramesh Munjal, Mr. KK Arora Advocate, Rupak Chowdhary, Mr. Sardana Ji Brand Ambassador Senior Citizen Kesari Club, Mr. MD Kalra, Mr. Surendra Gulati Advocate were present.

Sarvashri Rajeev Chhabra, Satish Chawla, Ramesh Narula, Ajay Bhargava, and Sanjay Bisht appeared from Sushant Lok.

Mrs. Jyotsna Bajaj, Mrs. Jyoti Verma, Mrs. Rachna Bajaj, Mrs. Pushpa Nasa, Mrs. Bimla Arora, and Mrs. Munjal and others were present from the women’s team.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *