National

Rajasthan के नाबालिगों में बढ़ता कैंसर का खतरा

Rajasthan

 

Viral Sach : Rajasthan में बदलती जीवनशैली और वातावरण के बदलते प्रभाव से कैंसर के मामले तेज गति से बढ़ते जा रहें है। कैंसर एक गंभीर बीमारी है, जिसका समय रहते इलाज हो सकता है। इस बीमारी से प्रदेश में 65 हजार लोग प्रतिवर्ष दम तोड़ रहे है। वहीं देशभर में करीब 12 लाख से अधिक लोगों की मौत हो जाती है।

कैंसर से बचाव और उसके प्रति जागरुकता के लिए प्रतिवर्ष 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस मनाया जाता है। विश्व कैंसर दिवस की शुरुआत 1933 से हुई।
राजस्थान में बढ़ते कैंसर के कई कारण सवाईमानसिंह अस्पताल के वरिष्ठ प्रोफेसर एवं नाक कान गला रोग के डा.पवन सिंघल ने बताया कि राजस्थान में बढ़ते कैंसर के कई कारण है।

जिसमें मुख्य रुप से हमारी बदलती जीवनशेली, वातावरण का प्रभाव भी तंबाकू का बड़ा कारण है। 90 से 95 प्रतिशत कैंसर का कारण बदलती जीवनशेली और वातावरण का प्रभाव है। वहीं 5 से 10 प्रतिशत आनुवांशिक होता है।

डा.सिंघल ने बताया कि कैंसर की बीमार के कारण बड़ी संख्या में लोग अकारण ही मर रहे है। कैंसर की प्रारंभिक स्तर पर जांच होने पर इसका उपचार संभव है। लेकिन आमजन में इसकी जानकारी के अभाव के चलते इसका जल्दी उपचार नही हो पाता। इसलिए इसकी जागरुकता पर विशेष ध्यान देने की जरुरत है।

युवाओं में बढ़ता कैंसर चिंताजनक –  डा.सिंघल ने बताया कि युवा वर्ग में बढ़ता कैंसर बेहद चिंताजनक है। हालंाकि राज्य सरकार इस पर रोक के लिए सकारात्मक कदम उठाए है।  इसका मुख्य कारण नाबालिगों (छात्र) में तंबाकू सेवन का प्रतिशत 16.3 प्रतिशत है। जो कि 13 से 15 वर्ष के मध्य है जोकि शिक्षण संस्थान में अध्ययनरत है।

उन्होंने कभी ना कभी तंबाकू का सेवन ध् उपभोग किसी न किसी रूप में किया है या इसको ले चुके है। यह जानकारी ग्लोबल यूथ टोबेको सर्वे 2021 में सामने आई है। उन्होने बताया कि मुंह और फेफड़ों के कैंसर के कारण 25 प्रतिशत से अधिक पुरूषों की मृत्यु होती है जबकि मुंह और स्तन के कैंसर में 25 प्रतिशत से अधिक महिलाओं की मृत्यु हेती है। गले के दर्द, मुंह में लंबे समय तक अल्सर, आवाज में बदलाव और चबाने और निगलने में कठिनाई जैसे लक्षणों से ओरल कैंसर का निदान किया जा सकता है।

नाबालिग उड़ा रहें जहरीला धुंआ – राजस्थान में नाबालिग अपने स्कूली जीवन से ही जहरीला धुंआ उड़ा रहें है। जोकि बेहद चिंताजनक है। ग्लोबल यूथ टोबेको सर्वे 2021 के अनुसार 7 प्रतिशत लड़के जो शिक्षण संस्थानों में जाते है वे इसके आदि हो रहें है। वहीं चबाने वाले तंबाकू की औसत आयु 7.6 वर्ष है।

प्रदेश में 13.4 वर्ष (औसत आयु) के युवा सिगरेट का उपयोग शुरु करते है। 19.2 प्रतिशत युवा विद्यार्थी अप्रत्यक्ष रूप से धूम्रपान का शिकार होते है। धूम्रपान करने वाले विद्यार्थियों में 93.8 प्रतिशत विद्यार्थी स्कूल में ही धूम्रपान करते है।

राज्य में कैंसर की स्थिति – भारत में अस्पताल आधारित कैंसर रजिस्ट्री 2021 कार्यक्रम के अनुसार देश के 96 अस्पतालों से मिले डाटा में सामने आया कि राजस्थान में जितने कैंसर के मामले आते है उनमें से 7.9 प्रतिशत बच्चों के है। प्रदेश में कुल 10216 पुरुष व 6853 महिलाओं में कैंसर पाया गया।

इसमें राजस्थान के छह जिलों के अस्पतालों को शामिल किया गया था। जिसमें आचार्य तुलसी रीजनल कैंसर ट्रीटमेंट एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट बीकानेर, भगवान महावीर कैंसर अस्पताल एंड रिसर्च सेंटर जयपुर, झालावाड़ मेडिकल कालेज, झालावाड़ शामिल है।
मुख्य कैंसर
ब्रेस्ट
मुंह
फैंफड़े
बच्चेदानी
जीभ
पुरुषों में ओरल केविटि,
गला
खाने की नली का कैंसर मुख्य है।
क्लोज द केयर गैप अभियान

सुखम फाउंडेशन की ट्रस्टी डा.सुनीता ने बताया कि वर्ष 2022 की थीम क्लोज द केयर गैप अभियान है। इस बार विश्व कैंसर दिवस पर दुनियांभर में क्लोज द केयर गैप थीम अभियान के साथ मनाया जा रहा है।

जिसमें दुनियांभर में कैंसर देखभाल में असमानताओं को समझने और पहचानने के बारें में इस अभियान से सकारात्मक पहल की जा रही है। जिसमें आमजन तक कैंसर से जुड़ी जानकारी पहुंचाकर उन्हे इस बीमारी से बचाया जा सके। कैंसर को लेकर समाज में फैली गलत धारणाओं को दूर करना भी इसका मकसद है।

कैंसर जागरूकता पर होंगे कई कार्यक्रम – इसमें प्रदेशभर में शिक्षण संस्थानों के साथ मिलकर युवाओं के लिए अभियान कैंसर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। जिसमें उन्हे कैंसर रोग व उससे बचाव की जानकारी दी जाएगी।

Translated by Google 

Viral Sach : Cancer cases are increasing at a rapid pace in Rajasthan due to changing lifestyle and changing environment. Cancer is a serious disease, which can be treated in time. Every year 65 thousand people are dying in the state due to this disease. At the same time, more than 12 lakh people die across the country.

World Cancer Day is celebrated every year on February 4 for prevention and awareness of cancer. World Cancer Day started in 1933.
Many reasons for increasing cancer in Rajasthan Dr. Pawan Singhal, senior professor of Sawaimansingh Hospital and Head of Nose and Throat, said that there are many reasons for increasing cancer in Rajasthan.

In which mainly our changing lifestyle, the effect of environment is also a big reason for tobacco. The reason for 90 to 95 percent cancer is the effect of changing lifestyle and environment. Whereas 5 to 10 percent is genetic.

Dr. Singhal told that a large number of people are dying unnecessarily due to cancer. Cancer can be treated if detected at an early stage. But due to lack of knowledge among the common people, it cannot be treated quickly. That’s why there is a need to pay special attention to its awareness.

Increasing cancer among youth is worrying – Dr. Singhal told that increasing cancer among youth is very worrying. Although the state government has taken positive steps to stop this. The main reason for this is the percentage of tobacco consumption among minors (students) is 16.3 percent. Which is between 13 to 15 years old who is studying in an educational institution.

He has at one time or the other used or consumed tobacco in some form or the other. This information has been revealed in the Global Youth Tobacco Survey 2021. He told that more than 25 percent of men die due to mouth and lung cancer while more than 25 percent of women die due to mouth and breast cancer. Oral cancer can be diagnosed by symptoms such as throat pain, long-standing ulcers in the mouth, changes in voice, and difficulty in chewing and swallowing.

Minors are blowing poisonous smoke – In Rajasthan, minors are blowing poisonous smoke since their school days. Which is very worrying. According to the Global Youth Tobacco Survey 2021, 7 percent of the boys who go to educational institutions are getting addicted to it. And the average age of chewing tobacco is 7.6 years.

Youth in the state start using cigarettes at 13.4 years (average age). 19.2 percent of young students are indirectly exposed to smoking. Among the students who smoke, 93.8 percent of the students smoke in the school itself.

Cancer status in the state – According to the Hospital-based Cancer Registry 2021 program in India, data from 96 hospitals in the country revealed that 7.9 percent of the cancer cases in Rajasthan are of children. Cancer was found in total 10216 men and 6853 women in the state.

In this, hospitals of six districts of Rajasthan were included. Which includes Acharya Tulsi Regional Cancer Treatment and Research Institute Bikaner, Bhagwan Mahavir Cancer Hospital and Research Center Jaipur, Jhalawar Medical College, Jhalawar.
primary cancer
breast
Mouth
lungs
Uterus
Tongue
oral cavity in men,
Neck
Cancer of the esophagus is the main one.
Close the Care Gap Campaign

Trustee of Sukhum Foundation, Dr. Sunita told that the theme of the year 2022 is Close the Care Gap campaign. This time World Cancer Day is being celebrated across the world with the theme Close the Care Gap.

In which positive initiatives are being taken from this campaign to understand and recognize the disparities in cancer care around the world. In which by spreading information related to cancer to the general public, they can be saved from this disease. Its purpose is also to remove the misconceptions spread in the society regarding cancer.

Many programs will be held on cancer awareness – In this, a cancer awareness campaign will be run for the youth in collaboration with educational institutions across the state. In which they will be given information about cancer disease and its prevention.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News 

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *