Gurugram

International Women’s Day – कामकाजी महिला आवास में मनाया गया महिला दिवस

International Women's Day

 

Viral Sach – गुरुग्राम, यहां कामकाजी महिला आवास में International Women’s Day के अवसर पर एक समारोह आयोजित किया गया। इस समारोह में विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया गया। यह समारोह जिला उपायुक्त निशांत कुमार के मार्गदर्शन में हुआ। सचिव विकास कुमार व सह-सचिव सुभाष शर्मा ने कार्यक्रम के लिए शुभकामनाएं दी।

रेडक्रॉस सोसायटी एवं एक उड़ान संस्था के संयुक्त तत्वावधान में यह समारोह आयोजित किया गया। इसमें गुरुग्राम के डिप्टी मेयर सुनीता यादव, समाजसेविका ललिता तायल अतिथि के रूप में पहुंची।

उन्होंने स्वास्थ्य, वकालत, मीडिया, व्यक्तिगत समाजसेवा, रेडक्रॉस आदि से जुड़ीं महिलाओं को सम्मानित किया। स्वास्थ्य विभाग से नर्सिंग ऑफिसर जपिन्द्र कौर, नर्सिंग ऑफिसर पूनम सहराय के अलावा डॉ. ज्यिता, शिखा गर्ग को सम्मानित किया गया।

टीम गुरूजल से अंजलि, एक उड़ान की महिला टीम से कृष्णा यादव, संगीता गुप्ता, शम्मी अहलावत, कुसुमलता, नीतू भट्ट, रेडक्रॉस से आकांक्षा, श्यामा राजपूत, सुनैना, रजनी कटारिया, सरोज, सुषमा, वनीता पीटर, संजू, मीनाक्षी, पुष्पा, कमला, मीडिया से साक्षी रावत, प्रियंका, वकील अर्चना चौहान, सामाजिक कार्यकर्ता रेखा अग्रवाल, ललिता बंसल, वीना वांचू, शिल्पा जैन, समीरा सतीजा, शालू जोहर, अन्नू यादव, गगनदीप, मीनू भारद्वाज, हरियाणा स्टेट काउंसिल फॉर चाइल्ड वेलफेयर की महिला टीम से मीनाक्षा यादव, गीता बत्रा, टीम नवकल्प, एडीसी आफिस टीम व टीम कैनविन, रमा टैटं हाऊस आदि को अतिथियों द्वारा सम्मानित किया गया।

इसके बाद डिप्टी मेयर सुनीता यादव ने महिलाओं को अपने जीवन में कोई भी सफलता मिलने पर घर, परिवार को पीछे नहीं छोडऩा चाहिए। यह नहीं भूलना चाहिए कि हमारी सफलताओं में, हमें आगे बढ़ाने में पुरुषों का भी साथ होता है। यह बात अपने दिमाग से भी निकाल देनी चाहिए।

नर-नारी एक दूसरे के पूरक हैं। दोनों के साथ से ही जीवन की गाड़ी गतिमान होती है। आदमी के बिना हम कुछ नहीं। सुनीता यादव ने कहा कि वह ऊंचा पद किसी काम का नहीं, जहां अपना घर-बार छोड़कर औरत उधर जाए। औरत का मान और सम्मान इसी में है कि वह ऊंचे पद पर जाकर भी अपने परिवार को संभाले रखे।

अतिथि ललिता तायल ने भी यहां महिलाओं को प्रेरणा भरी बातें कही। साथ ही कैनविन फाउंडेशन का भी उन्होंने जिक्र किया। उन्होंने कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में कैनविन फाउंडेशन को उनके भाई चला रहे हैं। मां द्वारा अपनी बीमारी से उन्हें यह प्रेरणा दी गई। जिस पर चलते हुए आज गुरुग्राम के हजारों लोगों को लाभ पहुंचाया जा रहा है।

हर मां अपनी बेटी को औरत होने का महत्व समझाए : कविता

कामकाजी महिला आवास की वार्डन कविता सरकार ने कहा कि महिलाएं आत्मनिर्भर बनें साथ ही अपनी बेटियों को भी सही रास्ते चुनने को प्रेरित करें। एक महिला, एक बेटी दो घरों को संवारती है। हर मां को चाहिए कि वह अपनी बेटी को ऐसे संस्कार दे, जो कि उसे औरत होने का महत्व समझाए।

उन्होंने वहां उपस्थित सभी अतिथियों को कहा कि आवास को बने हुए 38 वर्षों में ये पहला सामाजिक कार्यक्रम हुआ जिसे सफल बनाने में सबका आभार व्यक्त किया।

हर महिला पर दो घरों की इज्जत का भार : कल्याणी

एक उड़ान संस्था की संस्थापक कल्याणी सचान ने कहा कि परिवार को परिवार बनाकर रखने में हम सब महिलाओं का अधिक हाथ होता है। हमें जीवन में अपनी अच्छाइयों को फैलाना चाहिए। ऐसी पर्सनलिटी बनाएं कि लोग आपका अनुसरण करें। आपसे कुछ सीखें। आज किसी भी क्षेत्र में महिलाएं कम नहीं हैं। जमीन से आसमान तक हम महिलाएं मजबूत हैं। यह मजबूती हमारी नहीं बल्कि हमारे पूरे परिवार की है।

इस अवसर पर आवास से कुसुम, मीनाक्षी, आरती, ऊषा, रितु फोगाट, कीर्ति, सरिता, सुभद्रा, ऊमा आदि शामिल हुए।

International Women's Day

Translated by Google 

Viral Sach – A function was organized on the occasion of International Women’s Day at the Working Women’s Housing, Gurugram. Women working in various fields were felicitated in this function. The function took place under the guidance of District Deputy Commissioner Nishant Kumar. Secretary Vikas Kumar and Co-Secretary Subhash Sharma extended best wishes for the programme.

This function was organized under the joint aegis of Red Cross Society and a flying organization. In this, Gurugram’s Deputy Mayor Sunita Yadav, social worker Lalita Tayal arrived as guests.

He honored women associated with health, advocacy, media, personal social service, Red Cross etc. Apart from Nursing Officer Japinder Kaur, Nursing Officer Poonam Sehrai from Health Department, Dr. Jyita, Shikha Garg were honored.

Anjali from Team Gurujal, Krishna Yadav from Ek Udaan women team, Sangeeta Gupta, Shammi Ahlawat, Kusumlata, Neetu Bhatt, Akanksha from Red Cross, Shyama Rajput, Sunaina, Rajni Kataria, Saroj, Sushma, Vanita Peter, Sanju, Meenakshi, Pushpa, Kamla, media witnesses Sakshi Rawat, Priyanka, lawyer Archana Chauhan, social worker Rekha Agarwal, Lalita Bansal, Veena Wanchoo, Shilpa Jain, Sameera Satija, Shalu Johar, Annu Yadav, Gagandeep, Meenu Bhardwaj, women team of Haryana State Council for Child Welfare Meenaksha Yadav, Geeta Batra, Team Navkalp, ADC Office Team and Team Canwin, Rama Taten House etc. were honored by the guests.

After this, Deputy Mayor Sunita Yadav said that women should not leave home and family behind after getting any success in their life. It should not be forgotten that in our successes, men also help us to move forward. This thing should also be removed from your mind.

Male and female complement each other. The vehicle of life moves along with both. We are nothing without man. Sunita Yadav said that that high position is of no use, where a woman leaves her home and goes there. The honor and respect of a woman is in this that she should take care of her family even after going to a high position.

Guest Lalita Tayal also spoke inspirational words to the women here. Along with this, he also mentioned the Canwin Foundation. He said that his brother is running the Canwinn Foundation in the field of medicine. This inspiration was given to him by his mother from her illness. Following which thousands of people of Gurugram are being benefited today.

Every mother should explain to her daughter the importance of being a woman: Kavita

Kavita Sarkar, Warden of Working Women’s Housing, said that women should become self-reliant and also inspire their daughters to choose the right path. One woman, one daughter maintains two houses. Every mother should give such values to her daughter, which would make her understand the importance of being a woman.

He told all the guests present there that this was the first social program in the 38 years that the residence was built and thanked everyone for making it successful.

The burden of honor of two houses on every woman: Kalyani

Kalyani Sachan, founder of Ek Udaan Sanstha, said that all of us women have a greater hand in keeping the family a family. We should spread our goodness in life. Create such a personality that people follow you. Learn something from you Today women are not less in any field. We women are strong from earth to sky. This strength is not of us but of our entire family.

On this occasion, Kusum, Meenakshi, Aarti, Usha, Ritu Phogat, Kirti, Sarita, Subhadra, Uma etc. participated from the residence.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News 

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *