हाशिए पर रहने वाली महिलाओं की उपलब्धियों का सम्मान करते हुए एम3एम फाउंडेशन ने मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

हाशिए पर रहने वाली महिलाओं की उपलब्धियों का सम्मान करते हुए एम3एम फाउंडेशन ने मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

गुरुग्राम,(प्रवीन कुमार): एम3एम ग्रुप की परोपकारी शाखा एम3एम फाउंडेशन ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का जश्न 65वें एवेन्यू आईएमपावर (iMpower) क्लब गुरुग्राम में निर्माण श्रमिकों की पत्नियों, उनकी बेटियों सहित हाशिए पर रहने वाली महिलाओं की उपलब्धियों का सम्मान करते हुए मनाया।

एम3एम फाउंडेशन ने उन्हें उनके पारिवारिक योगदान के लिए सम्मानित किया। यह अभियान एम3एम फाउंडेशन व एड-एट-एक्शन की साझा पोग्राम आईएमपावर (iMpower) का एक हिस्सा है। इस अवसर पर मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता (आशा) और सहायक नर्स मिडवाइफरी (एएनएम) को उनकी निस्वार्थ सेवा के लिए सम्मानित किया गया।

Women Day

एम3एम फाउंडेशन की ट्रस्टी ऐश्वर्या बंसल और ऐड एट एक्शन के लाइवलीहुड एजुकेशन-साउथ एशिया के डायरेक्टर डॉ. ऐश्वर्य महाजन द्वारा सरकारी योजनाओं की एक बुकलेट का भी अनावरण किया गया। जिसका उद्देश्य हाशिए पर रहने वाली महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना है।

इस अवसर पर एम3एम फाउंडेशन की ट्रस्टी डॉ. पायल कनोडिया ने कहा, “यह पहल अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर एम3एम में महिला कर्मचारियों की उपलब्धियों को सेलिब्रेट करने के हमारे प्रयासों का एक हिस्सा मात्र है। एक जिम्मेदार संगठन के रूप में, एम3एम फाउंडेशन स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा और पर्यावरण के क्षेत्रों में विभिन्न पहलों के माध्यम से महिलाओं की सुरक्षा और समग्र सशक्तिकरण सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।“

महिला दिवस समारोह सांस्कृतिक नृत्य प्रदर्शन, सामूहिक नृत्य, नुक्कड़ नाटक, विभिन्न खेल और पुरस्कार वितरण समारोह जैसी गतिविधियों का भी गवाह बना। एम3एम के कर्मचारियों, ठेकेदारों और निर्माण श्रमिकों व उनके परिवारों ने भी महिला सशक्तिकरण पर अपने विचार साझा किए।

समारोह में सम्मानित हुईं महिलाओं में से एक राजकुमारी ने कहा, “चाहे स्वास्थ्य सेवा की बात हो, रक्षा या यहां तक कि अंतरिक्ष, महिलाओं को विभिन्न क्षेत्रों में योगदान देते देखना सुखद है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस समाज में उनके योगदान को पहचानने का एक उपयुक्त अवसर है। हमारी उपलब्धियों का जश्न मनाने के लिए हम एम3एम फाउंडेशन को धन्यवाद देना चाहते हैं। हमने समारोह का आनंद लिया।“

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (IWD) महिलाओं की सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक उपलब्धियों का जश्न मनाने वाला एक वैश्विक दिवस है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस एक सदी से भी अधिक समय से मनाया जाता रहा है। वर्ष 1911 में पहली अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस सभा को 10 लाख से भी अधिक लोगों ने अपना समर्थन दिया था। आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का जश्न दुनिया भर में मनाया जाता है।

‘आईएमपावर’ का उद्देश्य हरियाणा के गुरुग्राम जिले में चिन्हित वर्कसाइट पर कम्युनिटी-लेड वर्कसाइट अपलिफ्टमेंट प्रोग्राम का निर्माण करना है। इस पहल के तहत शिक्षा, स्वास्थ्य, वित्तीय व सामाजिक सुरक्षा, कानूनी सहायता और राज्य और केंद्रीय कल्याण योजनाओं तक श्रमिकों की पहुंच सुनिश्चित करने और उनकी बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए प्रयास किए जाते हैं। निर्माण श्रमिकों के बच्चों को खेलने के लिए सुरक्षित और स्वच्छ स्थान प्रदान किया जा रहा है, जहां वे एक-दूसरे के साथ सीख सकते हैं और बातचीत कर सकते हैं और एक स्वस्थ वातावरण में संरक्षित और पोषित होंगे। उचित पोषण के पौष्टिक खाने के अलावा, बच्चों के लिए टीकाकरण और नियमित स्वास्थ्य जांच की भी सुविधा उपलब्ध कारवाई जाती है।

यह परियोजना एम3एम के वर्कसाइट और उसके आसपास मौजूद महिलाओं के जीवन में काफी बदलाव ला रहा है। साथ ही, मल्टी-फंक्श्नल रिसोर्स सेंटर के माध्यम से 35 वर्ष की उम्र तक के लोगों को भी जोड़ रही है। यह रिसोर्स सेंटर न केवल बच्चों के लिए शिक्षा प्राप्त करने का एक प्लेटफॉर्म है, बल्कि सरकारी अधिकारों / योजनाओं के साथ समुदाय को भी जोड़ता है। रिसोर्स सेंटर द्वारा डिजिटल साक्षरता, स्वास्थ्य, स्वच्छता और पोषण को बढ़ावा देने के साथ युवाओं को कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने का भी काम किया जाता है।

एम3एम ग्रुप की परोपकारी शाखा एम3एम फाउंडेशन, एक उज्जवल भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने और समान विकास लाने की दिशा में काम कर रही है। शिक्षा, पर्यावरण, स्वास्थ्य, आपदा प्रबंधन और सामाजिक-आर्थिक विकास इसके प्रमुख क्षेत्र हैं। फाउंडेशन सेल्फ-सटेंड प्रोग्राम विकसित करके सामाजिक समस्याओं को सुलझाने के लिए एक अभिनव दृष्टिकोण अपनाने में विश्वास करता है।

Leave your comment
Comment
Name
Email