तहसील मानेसर लंबरदार एसोसिएशन द्वारा उनकी जायज मांगों के लिए सौंपा ज्ञापन

तहसील मानेसर लंबरदार एसोसिएशन द्वारा उनकी जायज मांगों के लिए सौंपा ज्ञापन

bombay Jewellers

मानेसर, (मनप्रीत कौर ) : लंबरदार एसोसिएशन तहसील मानेसर के अध्यक्ष लंबरदार सूरत सिंह के नेतृत्व में आज एसोसिएशन की मीटिंग तहसील मानेसर परिसर में संपन्न हुई। कोरोना की वजह से यह मीटिंग लंबे अंतराल के बाद हुई है। बाद में तहसील मानेसर के नायब तहसीलदार जगदीश चन्द बिशनोई मीटिंग में उपस्थित हुये। अनेकों लंबरदारों ने नायब तहसीलदार जगदीश चंद बिश्नोई के सामने लंबरदारी कार्य में आने वाली रोजमर्रा की समस्याओं के बारे में अपने अपने विचार साझा किए। ।

नायब तहसीलदार ने लंबरदारों की सभी समस्याओं को सुना एवं मौके पर ही बहुत ही प्रसन्नचित्त एवं मिलनसार स्वभाव से समस्याओं का उचित समाधान एवं मार्गदर्शन किया। प्रशासन एवं जनता के बीच लंबरदार एक मजबूत कड़ी होते हैं। राजस्व विभाग के सरकारी कार्यो में लंबरदारों की अहम ड्यूटी होती है। इसलिए प्रधान लंबरदार सूरत सिंह द्वारा नायब तहसीलदार के सामने यह मांग उठाऐ जाने पर कि तहसील में लंबरदारों के कार्य करने एवं बैठने उठने के लिए अलग से एक कमरे की व्यवस्था होनी चाहिए। नायब तहसीलदार ने तुरंत मौके पर ही लंबरदारों को आश्वासन दिया कि वे यह मानते हैं कि लंबरदारों की यह मांग जायज है और उनके अधिकार क्षेत्र में आती है।

इसलिए वे एक सप्ताह के अन्दर एक रूम खाली कराकर लंबरदारों के कार्य करने व बैठने उठाने के लिए उसमें टेबल चेयर डलवा देंगे। मौके पर ही मांगों को पूरा होते देख सभी लंबरदारों ने प्रसन्न होकर नायब तहसीलदार जगदीश चंद बिश्नोई की खूब वाहवाही की और तालियां बजाकर धन्यवाद किया। अंत में लंबरदारों ने अपनी अन्य मांगों के लिए नायब तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन द्वारा उन्होंने मांग कि है की करीब 3 साल पहले हिसार में सभी लंबरदारों की एक जनसभा मुख्यमंत्री द्वारा बुलाई गई थी और उसमें मुख्यमंत्री ने यह घोषणा की थी कि प्रत्येक लंबरदार को एक एक स्मार्टफोन दिया जाएगा व प्रधानमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना से जोड़ा जाएगा। परंतु ये मांगे अभी तक पूरी नहीं हुई है।

14 महीनों से तहसील मानेसर के लंबरदारों को भत्ता भी नहीं मिल रहा है जिसे हर महीने रेगुलर समय पर जारी किया जाए। अध्यक्ष लंबरदार सूरत सिंह ने कहा की लंबरदारों की मृत्यु के कारण रिक्त हुए पदों पर लंबरदार नियुक्त करने की प्रक्रिया अति शीघ्र चलाई जाए। इन सभी कारणों से लंबरदारों में सरकार के प्रति रोष है परंतु उन्हें विश्वास है कि लंबरदारों की अहमियत सरकार भी समझती है और जल्द ही लंबरदारों की जायज मांगों को सरकार पूरा करेगी।

Leave your comment
Comment
Name
Email