Politics

Naveen Goyal बने जीओ गीता युवा चेतना के राष्ट्रीय मंत्री

Naveen Goyal

 

Viral Sach – गुरुग्राम : समाजसेवा में अग्रणी भाजपा युवा नेता एवं कैनविन फाउंडेशन के सह-संस्थापक Naveen Goyal को गलोबल इंस्पायरेशन एंड एंलाइटेनमेंट ऑर्गेनाइजेशन ऑफ भागवत गीता (जीओ) युवा चेतना का राष्ट्रीय मंत्री मनोनीत किया गया है। नवीन गोयल ने इसे बड़ा सम्मान बताते हुए इस पद की सदा गरिमा बनाए रखने के साथ गीता के प्रचार-प्रसार करने की बात कही।

 

Naveen Goyal

जीओ के अध्यक्ष गीता मनीषी श्री ज्ञानानंद जी महाराज ने हरेरा गुरुग्राम के चेयरमैन केके खंडेलवाल, गुरुग्राम विश्वविद्यालय के उप-कुलपति डा. मार्कण्डेय आहुजा, हरेरा गुरुग्राम के सदस्य समीर कुमार, अडानी रियलिटी मड़प्पा पालचांदा की उपस्थिति में नवीन गोयल को राष्ट्रीय मंत्री का पत्र सौंपा।

ज्ञानानंद महाराज ने नवीन गोयल को इस पद पर मनोनीत करते हुए कहा कि गीता जीवन का सार है। इसे जन-जन तक पहुंचाने को जनजागरण की जरूरत है। उन्हें उम्मीद है कि इस पद पर रहते हुए वे गीता के संदेश को बखूबी प्रचारित, प्रसारित करेंगे।

 

Naveen Goyal

 

Naveen Goyal

नवीन गोयल ने गीता मनीषी श्री ज्ञानानंद महाराज को विश्वास दिलाया कि जो जिम्मेदारी उन्हें सौंपी गई है, उस पर वे सदा खरे उतरेंगे। गीता की सेवा का यह एक स्वर्णिम अवसर उन्हें मिला है। गीता के संदेश को हर व्यक्ति तक पहुंचाने में वे पूरी निष्ठा व जिम्मेदारी के साथ काम करेंगे।

उन्होंने कहा कि हमें अपने जीवन में गीता का अध्ययन जरूर करना चाहिए। गीता अपने आप में जीवन की सभी उलझनों का जवाब है। गीता सब समस्याओं का समाधान है। गीता हमें जीवन की नई दिशा देती है। उन्होंने गीता मनीषी के गीता ज्ञान से शिक्षा लेने की भी बात कही।

 

Naveen Goyal

 

उन्होंने यह भी कहा कि गीता ग्रँथ हर घर की जरूरत है। आज के समय में गीता से अपने हर सवाल का जवाब लिया जा सकता है। यह कह सकते हैं कि गीता का ज्ञान आज बहुत जरूरी है।

नवीन गोयल ने कहा कि जिस तरह से समाज में विकृतियां पैदा हो रही हैं। इन विकृतियों से गीता ही निकाल सकती है। बहुत सी समस्याएं हमारी खुद की पैदा की हुई हैं। इसलिए हमें आत्ममूल्यांकन भी करना चाहिए। यही गीता में भी लिखा है कि हमें आत्ममूल्यांकन करके अच्छे-बुरे का ज्ञान लेना चाहिए।

Translated by Google 

Viral News – Gurugram: Leading BJP youth leader in social service and co-founder of Canwin Foundation, Naveen Goyal has been nominated as National Minister of Global Inspiration and Enlightenment Organization of Bhagwat Geeta (GO) Yuva Chetna. Describing it as a great honor, Naveen Goyal talked about propagating the Gita while always maintaining the dignity of this post.

GO President Geeta Manishi Shri Gyananand Ji Maharaj handed over the letter of National Minister to Naveen Goyal in the presence of HARERA Gurugram Chairman KK Khandelwal, Gurugram University Vice Chancellor Dr. Markandeya Ahuja, HARERA Gurugram Member Sameer Kumar, Adani Reality Madappa Palchanda .

Nominating Naveen Goyal to this post, Gyananand Maharaj said that Gita is the essence of life. Public awareness is needed to make it accessible to the masses. He hopes that while on this post, he will propagate and spread the message of Geeta very well.

Naveen Goyal assured Geeta Manishi Shri Gyananand Maharaj that he would always come true to the responsibility entrusted to him. He has got this golden opportunity to serve the Gita. They will work with full devotion and responsibility in taking the message of Geeta to every person.

He said that we must study Gita in our life. Gita itself is the answer to all the confusions of life. Gita is the solution to all problems. Geeta gives us a new direction of life. He also talked about taking lessons from Gita sage’s Gita knowledge.

He also said that Gita Granth is needed in every home. In today’s time, answer to every question can be taken from Gita. It can be said that the knowledge of Gita is very important today.

Naveen Goyal said that the way distortions are being created in the society. Only the Gita can remove you from these distortions. Many problems are of our own creation. That’s why we should also do self-evaluation. It is also written in the Gita that we should take the knowledge of good and bad by self-evaluation.

Follow us on Facebook 

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *