Politics

Navkalp Foundation ने पक्षियों के लिए दाना-पानी अभियान की शुरुआत की

Navkalp Foundation

 

Viral Sach – गुरुग्राम। Navkalp Foundation – हर अवसर पर पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने वाले पर्यावरण संरक्षण विभाग भाजपा हरियाणा प्रमुख नवीन गोयल ने अब क्लास रूप में टीचर बनकर बच्चों को पर्यावरण संरक्षण का पाठ पढ़ाया। अवसर था रेयान इंटरनेशनल स्कूल में नवकल्प फाउंडेशन की ओर से गर्मी के मौसम में पक्षियों के लिए दाना-पानी अभियान की शुरुआत की। नवीन गोयल ने नवकल्प फाउंडेशन द्वारा पक्षियों को दाना-पानी देने के प्रति मुहिम चलाकर लोगों को जागरूक करने की पहल की सराहना की।

नवीन गोयल ने पर्यावरण और प्रकृति को सहेजने का संदेश देते हुए कहा कि एक समय था जब घर के आंगन चिडिय़ों की चहचहाटों से गूंजा करते थे। हर तरफ हरे भरे पेड़ और सुंदर फूल होते थे। हमारी आबो-हवा स्वच्छ होती थी। हम प्रकृति के बहुत नजदीक नहीं, बल्कि प्रकृति के बीच में रहते थे।

समय के साथ बहुत कुछ बदल गया है। जैसे-जैसे आबादी बढ़ी, शहरीकरण हुआ तो वनों का कटाव धड़ल्ले से होने लगा। जिन पेड़ों को पालने में वर्षों लगते, उन पेड़ों को चंद मिनटों में धराशायी कर दिया जाता है। तकनीक तो पेड़ों को एक जगह से दूसरे जगह पर लगाने की भी है, लेकिन व्यवसायिकता के दौर में ऐसा करने की बजाय हम पेड़ों की कटाई करके अपने पैरों पर कुल्हाड़ी चलाते गए।

 

Navkalp Foundation

 

इसी के साथ हमारा प्राकृतिक संतुलन बिगड़ गया। नवीन गोयल ने अपील है कि पर्यावरण संरक्षण के लिए जल का सीमित मात्रा में उपयोग करें। पॉलीथिन की जगह कपड़े के थैले का प्रयोग करें। अपने घरों के आस-पास स्वच्छता बनाए रखें और पेड़-पौधे लगाकर उनका परिवार के सदस्य की तरह पालन-पोषण करें।

हर बच्चा एक-एक पेड़ लगाकर भी उसका पालन करे तो लाखों पेड़ लगाए जा सकते हैं। उन्होंने शिक्षकों से भी आह्वान किया कि वे कम से कम स्कूल कैंपस में बच्चों के नाम से पेड़ लगवाएं। उनके संरक्षण की जिम्मेदारी उन्हें दे। बच्चों में इस तरह की भावना होनी बहुत जरूरी है।

इस कार्यक्रम में नवीन गोयल ने क्लास रूम में बच्चों से संवाद किया। उन्हें पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरुक किया। बच्चों से कहा कि आने वाला समय उनका है। ऐसे में वे भी अपने पर्यावरण को बेहतर बनाने में अपनी भूमिका निभाएं। स्कूल, कालेज, घर, पार्क, खाली जमीन पर पेड़ लगाकर उनका पालन करें। उनके साथ-साथ जब पेड़ भी बड़े होते जाएंगे तो जीवन में सुकून मिलेगा।

स्वच्छता को लेकर उन्होंने कहा कि अपने गुरुग्राम को स्वच्छता के मामले में देश के टॉप10 शहरों में लेकर आएं। इस अवसर पर बच्चों ने भी सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किया। ये सांस्कृतिक कार्यक्रम मनोरंजन से अधिक प्रेरणादायी रहे। प्रकृति को बचाने का इन कार्यक्रमों के माध्यम से संदेश दिया गया। इस दौरान स्कूल की प्रिंसिपल अंजू डुडेजा, नवकल्प फाउंडेशन से अनिल आर्य, अदिति, स्कूल स्टाफ, अभिभावक व बच्चे उपस्थित रहे।

Translated by Google 

Viral News – Gurugram. Environment Protection Department BJP Haryana Chief Naveen Goyal, who gave the message of environmental protection on every occasion, now became a class teacher and taught the children the lesson of environmental protection. The occasion was the launch of a summer feed-water campaign for birds on behalf of Navkalp Foundation at Ryan International School. Naveen Goyal appreciated the initiative taken by Navkalp Foundation to make people aware by running a campaign to provide food and water to birds.

Giving a message to save the environment and nature, Naveen Goyal said that there was a time when the courtyards of the house used to resound with the chirping of birds. There were green trees and beautiful flowers everywhere. Our climate was clean. We lived not very close to nature, but in the midst of nature.

A lot has changed with time. As the population increased, urbanization took place, deforestation started happening indiscriminately. The trees which used to take years to grow, those trees are razed in a few minutes. The technique is also to plant trees from one place to another, but instead of doing so in the era of commercialism, we felled the trees and used to run the ax on our feet.

With this our natural balance got disturbed. Naveen Goyal has appealed to use limited amount of water for environmental protection. Use cloth bags instead of polythene. Maintain cleanliness around your homes and plant trees and nurture them like family members.

If every child follows it even after planting one tree, lakhs of trees can be planted. He also called upon the teachers to at least plant a tree in the school campus in the name of the children. Give them the responsibility of their protection. It is very important to have this kind of feeling in children.

In this program, Naveen Goyal interacted with the children in the class room. Made them aware about environmental protection. Told the children that the time to come is theirs. In such a situation, they should also play their part in improving their environment. Follow them by planting trees on school, college, home, park, vacant land. Along with them, when the trees also keep growing, then there will be peace in life.

Regarding cleanliness, he said that in terms of cleanliness, bring your Gurugram among the top 10 cities of the country. The children also presented a cultural program on the occasion. These cultural programs were more inspirational than entertainment. The message of saving nature was given through these programmes. During this, Principal of the school Anju Dudeja, Anil Arya from Navkalp Foundation, Aditi, school staff, parents and children were present.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *