Gurugram

Nirjala Ekadashi के पावन पर्व पर पंजाबी बिरादरी महासंगठन द्वारा छबील एवं प्रसाद वितरण

Nirjala Ekadashi

Viral Sach : Nirjala Ekadashi – पंजाबी बिरादरी महा संगठन द्वारा निर्जला एकादशी के पावन पर्व पर बोधराज सीकरी, प्रधान, ओम प्रकाश कथूरिया, वरिष्ठ उप-प्रधान और रामलाल ग्रोवर, महासचिव एवं संगठन के अन्य सभी वरिष्ठ और कनिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा गुरुग्राम शहर के निम्नलिखित विभिन्न स्थानो पर छबील और भण्डारे का आयोजन किया गया।

(1) कृष्ण मंदिर, 4/8, मरला (2) कृष्ण मंदिर, अर्जुन नगर (3) गीता भवन, न्यू कॉलोनी (4) श्याम मंदिर, न्यू कॉलोनी (5) सुशांत लोक, सी-ब्लाक, मेन गेट (6) पंचमुखी मंदिर, सेक्टर-7, एक्सटेंशन (7) चिंतपूर्णी मंदिर, ओल्ड रेलवे रोड (8) हनुमान मंदिर, मदनपुरी (9) राम मंदिर, प्रताप नगर (10) उदयभान देवी मंदिर, भीम नगर (11) ज्योति पार्क रोड (श्री राजकुमार कथूरिया जी का ऑफिस) (12) गंगा गिरी कुटिया, बसई रोड (13) सेक्टर-38 (आयोजक – श्री लोकेश आहूजा) (14) सेक्टर-23 (आयोजक-श्री यशवंत चुघ) (15) मंदिर श्री बाला जी (हनुमानजी) महाराज, शिवाजी नगर और 16) वाटिका सोसाययटी सेक्टर 49 में संगठन द्वारा शर्बत एवं भै-आलू प्रसाद का वितरण किया गया |

इस अवसर पर प्रधान बोध राज सीकरी ने कहा कि ऐसा माना जाता है कि जब गर्मी अपने पूरे यौवन पर होती है तो यह निर्जला एकादशी पर्व आता है, जिसके चलते लोग जगह-जगह पानी की छबील लगाते हैं और इस पर्व के बाद गर्मी का प्रकोप धीरे धीरे कम हो जाता है और गर्मी से लोगों को काफी राहत मिलती है |

संगठन के प्रधान बोध राज सीकरी जानकारी देते हुए बताया कि इस पर्व को भीमसेन एकादसी भी कहा जाता है l ऋषि व्यास जी ने साल की चौबीस एकादसी के मुक़ाबले यदि मात्र एक निर्जला एकादसी रखी जाए तो व्यक्ति को चौबीस एकादसी का पुण्य प्राप्त होता है।

इस पुण्य के कार्य में संगठन के सभी कार्यकत्ताओं ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया और सभी मंदिर में कोई न कोई पदाधिकारी पहुँचा हुआ था ताकि व्यवस्था को सूचारु रूप से चलाया जा सके।

Nirjala Ekadashi

Translated by Google 

Viral Sach : Nirjala Ekadashi – On the auspicious occasion of Nirjala Ekadashi by Punjabi Biradari Maha Sangathan, Bodhraj Sikri, Pradhan, Om Prakash Kathuria, Senior Vice-Pradhan and Ramlal Grover, General Secretary and all other senior and junior office bearers of the organization organized the following various activities of Gurugram city Chhabil and Bhandara were organized at various places.

(1) Krishna Mandir, 4/8, Marla (2) Krishna Mandir, Arjun Nagar (3) Geeta Bhawan, New Colony (4) Shyam Mandir, New Colony (5) Sushant Lok, C-Block, Main Gate (6) Panchmukhi Mandir, Sector-7, Extension (7) Chintpurni Mandir, Old Railway Road (8) Hanuman Mandir, Madanpuri (9) Ram Mandir, Pratap Nagar (10) Udaybhan Devi Mandir, Bhim Nagar (11) Jyoti Park Road (Shri Rajkumar Office of Kathuria Ji) (12) Ganga Giri Cottage, Basai Road (13) Sector-38 (Organizer – Mr. Lokesh Ahuja) (14) Sector-23 (Organizer – Mr. Yashwant Chugh) (15) Mandir Shri Bala Ji (Hanumanji) Maharaj, Shivaji Nagar and 16) Vatika Society Sector 49, Sharbat and Bhai-Aloo Prasad were distributed by the organization.

On this occasion, Pradhan Bodh Raj Sikri said that it is believed that when the summer is at its full height, then this Nirjala Ekadashi festival comes, due to which people apply water everywhere and after this festival, the outbreak of heat Gradually it reduces and people get a lot of relief from the heat.

Giving information, the head of the organization, Bodh Raj Sikri said that this festival is also called Bhimsen Ekadasi. Rishi Vyas ji said that if only one Nirjala Ekadasi is kept in comparison to 24 Ekadasi of a year, then a person gets the virtue of 24 Ekadasi.

All the workers of the organization actively participated in this pious work and one or the other officer had reached every temple so that the system could be run smoothly.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *