Politics

Pankaj Davar – 5 किलो गेहूं, 5 किलो चावल से नहीं बचेगी लोगों की जान

Pankaj Davar

गुरूग्राम : Pankaj Davar – कांग्रेस व्यापार सेल के चेयरमैन पंकज डावर ने हरियाणा सरकार से मांग की है कि लगातार निजी अस्पतालों में कोविड-19 पर मरीजों को लूटने का काम किया जा रहा है।

हमारी मांग है कि सरकार कोविड-19 से पीड़ित लोगों को बचाने के लिए इस बीमारी का इलाज मुफ्त में करवाएं। कोई भी प्राइवेट अस्पताल हो या सरकारी अस्पताल। हर जगह इस बीमारी का इलाज मुफ्त में होना चाहिए। निजी अस्पतालों में जो भी खर्चा इलाज पर आए उस खर्चे को सरकार दे।

पंकज डावर ने कहा कि यह मांग और भी कई प्रदेश के लोग कर रहे हैं। हरियाणा में भी बहुत से ऐसे लोग रहते हैं जो इतना भी समर्थ नहीं है कि वह मौत होने के बाद संस्कार तक अपने खर्चे पर कर सकें। प्रशासन के पास ऐसे लोगों की लिस्ट भी है जिनके संस्कार का खर्चा अलग-अलग शहरों की निगम उठा रही है।

सरकार सिर्फ 5 किलो चावल और 5 किलो गेहूं पर लोगों का पेट भरना चाहती है, लेकिन इससे आम जनता को कोई भी संतुष्टि नहीं है। इस महामारी से लोगों को बचाने के लिए सरकार सख्त कदम नहीं उठा पा रही है।

अब अगर सरकार जनता का थोड़ा भी भला करना चाहती है तो सभी वर्ग के लोगों का इलाज मुक्त करें। इससे निजी अस्पतालों में मरीजों के साथ हो रही लूट रुकेगी साथ ही ऐसे लोगों को भी इलाज मिल पाएगा जो लोग निजी अस्पतालों में अपने मरीजों को ले जाने मैं असमर्थ हैं।

पंकज डावर ने कहा कि कोविड-19 से बचाव के नाम पर पूरे देश में लाखों करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। लेकिन जनता के इलाज के नाम पर कोई खर्च नहीं हो रहा है, एक-एक शहर में तो सैकड़ों करोड़ रुपए सिर्फ सैनिटाइजेशन पर खर्च हो रहे हैं। हरियाणा सरकार के पास तो बजट भी है फिर लोगों का इलाज मुक्त क्यों नहीं किया जा रहा है।

ऐसा लगता है जैसे कि सरकार ने यहां निजी अस्पतालों को लूटने का ठेका दे रखा हो नहीं तो सरकार अब तक ऐसा कदम जरूर उठाई होती। उन्होंने सरकार में बैठे सभी मंत्रियों से भी निवेदन किया कि सभी लोग एकजुट होकर इस विषय पर विचार करें जिससे की आम इंसान की जान बचाई जा सके और उन्हें मुफ्त में इलाज मिल सके।

Translated by Google 

Gurugram: Pankaj Davar – Chairman of Congress Business Cell, Pankaj Davar has demanded from the Haryana government that the work of looting patients on Kovid-19 is being done continuously in private hospitals.

Our demand is that the government should get the treatment of this disease done free of cost to save the people suffering from Kovid-19. Be it any private hospital or government hospital. The treatment of this disease should be free everywhere. The government should pay whatever expenses are incurred on treatment in private hospitals.

Pankaj Davar said that people of many other states are making this demand. There are many people living in Haryana who are not even capable enough to perform the last rites after death at their own expense. The administration also has a list of such people whose funeral expenses are being borne by the corporations of different cities.

The government wants to feed the people only on 5 kg of rice and 5 kg of wheat, but there is no satisfaction to the general public. The government is not able to take strict steps to save the people from this epidemic.

Now, if the government wants to do even a little good to the public, then it should make treatment free for all classes of people. This will stop the looting of patients in private hospitals as well as such people will also be able to get treatment who are unable to take their patients to private hospitals.

Pankaj Davar said that lakhs of crores of rupees are being spent in the whole country in the name of rescue from Kovid-19. But no expenditure is being made in the name of treatment of the public, hundreds of crores of rupees are being spent in each and every city only on sanitization. The Haryana government also has a budget, then why the treatment of the people is not being made free.

It seems as if the government has given contract to loot private hospitals here, otherwise the government would have taken such a step by now. He also requested all the ministers sitting in the government to think unitedly on this subject so that the life of the common man can be saved and he can get free treatment.

Follow us on Facebook 

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *