Gurugram

Hermitage Society के निवासियों ने सत्या डेवेलपर के कार्यालय पर किया प्रदर्शन

Hermitage Society

 

गुरुग्राम। Hermitage Society – हर्मिटेज कॉन्डोमिनियम एसोसिएशन के सदस्यों ने बुधवार को मेसर्स सत्या डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड के सेक्टर-44 कार्यालय पर अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। कई दौरान कई विषयों पर लोगों ने अपनी मांगों के लिए नारेबाजी की।

प्रदर्शन कर रहे लोगों ने बिजली संबंधी समस्या पर कहा कि आंशिक लोड कनेक्शन जारी करना/लोड को 11 केवी से 33 केवी पर स्थानांतरित करना मेसर्स सत्या डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड ने सब स्टेशन दौलताबाद से सोसायटी तक 11 केवीए एचटी लाइन बिछाई थी। यह 33 केवी की स्थापना तक एक अस्थायी उपाय है। डीएचबीवीएन द्वारा सब स्टेशन और अब इसे स्थापित किया गया है। मौजूदा 11 केवी लाइन सोसायटी का भार वहन करने के लिए अपर्याप्त है।

दौलताबाद क्षेत्र में ट्रंक सीवर लाइन बिछाने के कारण बहुत बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई है। उनके द्वारा 11 केवी लाइन बिना किसी निश्चित पथ के अव्यवस्थित तरीके से बिछाई गई है, जिससे सीवर लाइन जैसे खुदाई कार्य के दौरान इसके क्षतिग्रस्त होने की आशंका है। बार-बार केबल क्षतिग्रस्त होने से क्षेत्रवासियों को बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है। कंपनी को 11 केवी से 33 केवी पर स्विच करना है।

डीएचबीवीएन ने कार्रवाई करने के लिए 12 नवंबर 2020 के माध्यम से कंपनी को नोटिस जारी किया है, लेकिन हमारे रिकॉर्ड के अनुसार अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। पांच अप्रैल 2022 से एचसीए और सरकारी अधिकारियों की ओर से बिल्डरों के साथ कई बार बातचीत की गई, लेकिन सब व्यर्थ रहा।

दूसरी समस्या की जानकारी देते हुए लोगों ने जानकारी दी कि भूमि मालिक द्वारा प्रवेश मार्ग को अवरुद्ध करके लोगों के लिए परेशानी खड़ी की गई। इस समय द हरमिटेज परियोजना में कोई उचित प्रवेश और निकास मार्ग नहीं है। इस परियोजना के तहत फ्लैट बेचते समय कंपनी ने आवासीय परियोजना में प्रवेश और निकास के लिए 30 मीटर की चौड़ी सडक़ दिखाई थी।

आज तक ऐसी कोई सडक़ ही नहीं देखी गई। यहां के निवासी प्रवेश और निकास के लिए 2 करम राजस्व सडक़ का उपयोग कर रहे हैं। कंपनी ने प्रमाण पत्र शर्तों का उल्लंघन करके प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए चंदर भान नामक एक किसान से इस राजस्व सडक़ के समानांतर पांच फीट चौड़ी भूमि पट्टे/किराए पर ली है। कंपनी ने खरीददारों को यह सडक़ दिखाई थी और तथ्य छुपाये थे।

इस प्रकार कंपनी ने खरीदारों के साथ धोखाधड़ी की है। जमीन के मालिक चंद्रभान ने पूर्व में कई बार सडक़ अवरुद्ध की थी, जब कंपनी उन्हें किराया देने में विफल रही थी। पीडि़तों ने बताया कि अब तक उन्होंने जनवरी 2024 से उन्हें किराया नहीं दिया है। उन्होंने 24 अप्रैल 2024 से सडक़ के अपने हिस्से को अवरुद्ध कर दिया है।

टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग (डीटीपी 6) ने 29 सितंबर 2021 के आदेश के जरिए कंपनी को राजस्व सडक़ की यथास्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया था।

रेरा एक्सपर्ट एडवोकेट अभय जैन के मुताबिक वर्ष 2020 में फर्म और सोसायटी के जिला रजिस्ट्रार ने कंपनी को प्रति बिना बिके फ्लैट के लिए 1000 रुपये का भुगतान करने का आदेश पारित किया था। 9 मार्च 2020 में सोसायटी में कोई आरडब्ल्यूए नहीं थी और निर्वाचित आरडब्ल्यूए ने फरवरी 2022 में कार्यभार संभाला। इसके बाद कंपनी से राशि का भुगतान करने के लिए कहा है।

कंपनी 2 जून 2022 को मेल के माध्यम से राशि का भुगतान करने के लिए सहमत हुई। 70,30,300 रुपये की समान राशि 3 जून को उन्हें भेज दी गई। उसके बाद बहुत सारे पत्राचार किए गए। एक अप्रैल 2024 को उनके कार्यालय में एक बैठक आयोजित की गई और 61,91,000 रुपये के बकाया भुगतान की सूची उन्हें भुगतान के लिए सौंपी।

बैठक में आश्वासन दिया गया कि पंद्रह दिनों के भीतर प्रगति से अवगत कराया जाएगा। मगर अभी तक कोई पुष्टि प्राप्त नहीं हुई है। इससे पता चलता है कि मेसर्स सत्या डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड ने खरीदारों के साथ किए गए सभी नियमों और वादों का उल्लंघन किया है। इसलिए लोगों को प्रदर्शन करने जैसा कदम उठाना पड़ा।

 

Hermitage Society

 

Translated by Google

Gurugram. Hermitage Society – Members of Hermitage Condominium Association on Wednesday demonstrated at the Sector-44 office of M/s Satya Developers Private Limited with their demands. During this, people raised slogans for their demands on many topics.

On the electricity related problem, the protesters said that issuing partial load connection / shifting the load from 11 kV to 33 kV M/s Satya Developers Private Limited had laid 11 kVA HT line from sub station Daulatabad to the society. This is a temporary measure till the installation of 33 kV. Sub station by DHBVN and now it has been installed. The existing 11 kV line is insufficient to bear the load of the society.

It has been damaged very badly due to laying of trunk sewer line in Daulatabad area. The 11 KV line has been laid by them in a haphazard manner without any fixed path, due to which it is likely to be damaged during digging work like sewer line. Due to frequent cable damage, the residents of the area are facing power cuts. The company has to switch from 11 KV to 33 KV.

DHBVN has issued a notice to the company through 12 November 2020 to take action, but as per our records no action has been taken so far. Several talks were held with the builders by HCA and government officials from April 5, 2022, but all was in vain.

Giving information about the second problem, people informed that the land owner created trouble for the people by blocking the entry road. At present there is no proper entry and exit route in The Hermitage project. While selling flats under this project, the company had shown a 30 meter wide road for entry and exit in the residential project.

No such road has been seen till date. The residents here are using 2 Karam revenue road for entry and exit. The company has leased/rented five feet wide land parallel to this revenue road from a farmer named Chander Bhan to obtain the certificate in violation of the certificate conditions. The company had shown this road to the buyers and concealed the facts.

Thus the company has cheated the buyers. The land owner Chandra Bhan had blocked the road several times in the past when the company failed to pay him the rent. The victims informed that till now he has not paid them the rent since January 2024. He has blocked his portion of the road since April 24, 2024.

The Department of Town and Country Planning (DTP 6) vide order dated September 29, 2021 had directed the company to maintain the status quo of the revenue road.

According to RERA expert advocate Abhay Jain, in the year 2020, the District Registrar of Firms and Societies had passed an order to the company to pay Rs 1000 per unsold flat. There was no RWA in the society on 9 March 2020 and the elected RWA took over in February 2022. After this, the company has been asked to pay the amount.

The company agreed to pay the amount through mail on 2 June 2022. The same amount of Rs 70,30,300 was sent to them on 3 June. A lot of correspondence was done after that. A meeting was held in their office on April 1, 2024 and a list of outstanding payments of Rs 61,91,000 was handed over to them for payment.

It was assured in the meeting that the progress would be informed within fifteen days. But no confirmation has been received yet. This shows that M/s Satya Developers Pvt Ltd has violated all the rules and promises made to the buyers. That’s why people had to take the step of protesting.

Follow us on Facebook

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *