Gurugram

Rohit Madan – आखिर किसके फोन से रुक जाता है नगर निगम का पीला पंजा

Rohit Madan

Viral Sach – गुरुग्राम : मानवाधिकार संस्था के अध्यक्ष Rohit Madan ने नगर निगम में भ्र्ष्टाचार को लेकर आवाज बुलंद करते हुए कहा कि गुरुग्राम में अवैध निर्माण की चर्चा जोर शोर से होती रहती है और नगर निगम गुरुग्राम की इंफोर्समेंट टीम हमेशा सवालों के घेरे में खड़ी नजर आती है।

ऐसा ही वाकया नगर निगम गुरुग्राम वार्ड नंबर 11 महालक्ष्मी गार्डन पार्ट 1 गुरुग्राम में भी नजर आया । मुख्यमंत्री के समक्ष लगाई गई एक जनहित शिकायत पर रैंप की तोड़फोड़ की कार्रवाई में नगर निगम इंफोर्समेंट टीम के ऊपर भेदभाव पूर्ण तरीके से कार्रवाई करने आरोप लग रहे हैं ।

 

Rohit Madan

सामाजिक कार्यकर्ता रोहित मदान के अनुसार गरीबों के आशियाने के आगे बने रैम्प को तोड़ने के बाद नगर निगम की जेसीबी पार्षद के कहने पर रुक जाती है और लगभग 1 फुट से अधिक काउंटर और 5 फुट का टिन सेड नगर निगम की टीम को नजर नही आता ।

दा पावर ऑफ ह्यूमन राइट्स फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोहित मदान ने भेदभाव पूर्ण तरीके की करवाई पर संयुक्त आयुक्त व मेयर नगर निगम गुरुग्राम को लिखित रूप से शिकायत दी है, परंतु क्षेत्र के नेता जी के करीबी होने के कारण उस पर कोई करवाई संज्ञान में नहीं लाई गई ।

 

Rohit Madan

जब दिनांक 21 जनवरी 2021 को रोहित मदान ने सीएम विंडो पर शिकायत दर्ज कराई उसके बाद इंफोर्समेंट की टीम निद्रा से जागी। लेकिन उसके बाद भी राजनीतिक दबाव के कारण उस अतिक्रमण को बिना हटाए ही कई बार वापस लौट गई।

रोहित मदान ने 4 फरवरी 2021 को जब नगर निगम एसडीओ व जेई से निजी तौर पर जाकर मुलाकात की उसके पश्चात निगम के दोनों अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि शीघ्र ही इस पर कार्रवाई करेंगे और एक हफ्ते का समय मांगा परंतु अभी तक अतिक्रमण पर कोई कार्रवाई नहीं हुई जिसके कारण गरीब जनता का न्याय पर से विश्वास उठता नजर आ रहा है। कानूनी नियम गरीब व माध्यम वर्गीय लोगो के लिये ही बनाये जाते है।

फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोहित मदान ने बताया कि इसके पीछे राजनीतिक दबाव के साथ-साथ यह भी स्पष्ट होता है कि नगर निगम गुरुग्राम इंफोर्समेंट की टीम भारतीय संविधान अनुच्छेद 14 का उल्लंघन कर रही है। उसके साथ साथ यह स्पष्ट कर रही है कि गरीबों के रैम्प को तो अवैध कहकर तोड़ दिया गया परंतु जब नेताजी के करीबी का घर आया तो जेसीबी का पंजा क्यों रुका।

उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि शोषण किसी भी स्तर पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और कार्रवाई के लिए यदि नगर निगम गुरुग्राम की इंफोर्समेंट टीम और अधिकारी एसडीओ व जेई निंद्रा से नहीं जागे तो उन्हें न्यायालय के समक्ष भी चुनौती दी जाएगी और कार्रवाई हर हाल पर करनी होगी क्योंकि भारतीय संविधान में सभी के लिये कानून एक सम्मान है।

Translated by Google 

Viral Sach – Gurugram: Rohit Madan, president of the Human Rights Association, while raising his voice about corruption in the Municipal Corporation, said that the discussion of illegal construction in Gurugram keeps on happening loudly and the enforcement team of Municipal Corporation Gurugram is always standing in the circle of questions. comes

A similar incident was also seen in Municipal Corporation Gurugram Ward No. 11 Mahalaxmi Garden Part 1 Gurugram. On a public interest complaint lodged before the Chief Minister, the Municipal Corporation Enforcement Team is being accused of taking discriminatory action in the demolition of the ramp.

According to social worker Rohit Madan, after breaking the ramp built in front of the poor’s house, JCB stops at the behest of the councilor and the municipal team does not see more than 1 feet counter and 5 feet tin shed.

Rohit Madan, National President of The Power of Human Rights Foundation, has given a written complaint to the Joint Commissioner and Mayor Municipal Corporation Gurugram on the discriminatory action taken, but due to being close to the leader of the area, no action was taken against him. Was brought

When Rohit Madan lodged a complaint on the CM window on 21 January 2021, the enforcement team woke up from sleep. But even after that, due to political pressure, it returned many times without removing that encroachment.

When Rohit Madan personally met Municipal Corporation SDO and JE on February 4, 2021, after that both the officials of the corporation assured that they will act on it soon and asked for a week’s time but so far no action has been taken on the encroachment. Because of which the poor people seem to have lost faith in justice. Legal rules are made only for the poor and middle class people.

Foundation’s National President Rohit Madan said that along with political pressure behind this, it is also clear that the team of Municipal Corporation Gurugram Enforcement is violating Article 14 of the Constitution of India. Along with that, it is making it clear that the ramp of the poor was broken saying it was illegal, but when Netaji’s close friend’s house came, why did the JCB’s claw stop.

He said in clear words that exploitation will not be tolerated at any level and for action, if the enforcement team and officers of Municipal Corporation Gurugram, SDO and JE do not wake up from sleep, then they will be challenged before the court and action will be taken at any cost. Because the law is a respect for all in the Indian constitution.

Follow us on Facebook 

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *