आरडब्ल्यूए ने अपने अधिकार वापसी की मांग पर विधायक को सौंपा ज्ञापन

bombay Jewellers

गुरुग्राम, (मनप्रीत कौर ) : शहर के पार्कों व कम्युनिटी सेंटर्स का रखरखाव को लेकर आरडब्ल्यूए ने शुक्रवार को गुडग़ांव के विधायक सुधीर सिंगला से मुलाकात करके ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में कहा है कि वार्ड कमेटी के पास से पार्क व कम्युनिटी लेकर उनको वापस दिया जाए, ताकि आरडब्ल्यूए इस काम को बेहतरी से कर सकें।

विधायक को ज्ञापन देने पहुंचे सेक्टर-10ए आरडब्ल्यूए के अध्यक्ष कमांडर उदय वीर सिंह, सेक्टर-9 के अध्यक्ष प्रशांत चौहान, आरडी सिटी के अध्यक्ष प्रवीण यादव, योगिता कटारिया व भाजपा अनुसूचित मोर्चा जिला उपाध्यक्ष टिंकू कुमार वर्मा ने कहा कि शहर में पार्कों और कम्युनिटी सेंटर का आरडब्ल्यूए रखरखाव करती थी। बाद में इन्हें वार्ड कमेटी बनाकर उन्हें सौंप दिया गया। इसमें सीधे पार्षदों की भूमिका है। आरडब्ल्यूए नाम मात्र के रह गये हैं। उनकी शक्तियों को खत्म कर दिया गया है। आरडब्ल्यूए की कहीं भी सुनवाई नहीं हो रही।

सामाजिक कार्यों में प्रशासन भी आरडब्ल्यूए को आगे रखता है तो फिर उनसे पार्क व कम्युनिटी सेंटर के रखरखाव का अधिकार क्यों छीना गया। वार्ड कमेटी की ओर से किसी भी काम में आरडब्ल्यूए को नहीं पूछा जाता। वार्ड कमेटी में सदस्य आरडब्ल्यूए के खिलाफ रहते हैं। आरडब्ल्यूए को जनता चुनकर भेजती है, इसलिए उन्हें धरातल का अधिक ज्ञान रहता है। वे क्षेत्र की समस्याओं को बारीकी से जानते हैं, जबकि वार्ड कमेटी के सदस्य मनोनीत किये गये हैं। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि वार्ड कमेटी के अधीन पार्कों और कम्युनिटी सेंटर की हालत सही नहीं है। इसलिए पार्क और कम्युनिटी के रखरखाव का काम वापस आरडब्ल्यूए को दिया जाए, ताकि वे अपने काम को सही तरीके से कर सकें।

विधायक सुधीर सिंगला ने आरडब्ल्यूए प्रतिनिधियों से ज्ञापन लेकर उन्हें भरोसा दिलाया कि वे इस विषय पर बात करेंगे। इसका समाधान निकाला जाएगा। उन्होंने कहा कि जनता को हर जगह सुविधाएं मिलनी चाहिए। चाहे पार्क हो या कम्युनिटी सेंटर, सभी का अच्छे से रखरखाव होना चाहिए, ताकि लोगों को परेशानी ना हो। विधायक ने यह भी कहा कि वे जल्द ही पार्षदों, वार्ड कमेटी, आरडब्ल्यूए प्रतिनिधियों और अधिकारियों की बैठक बुलाने पर विचार करेंगे। बैठक में सभी पक्षों को सुना जाएगा। जिसके लिए जो बेहतर होगा, वह काम किया जाएगा।

Read Previous

बोध राज गंभीर की कलम से ….

Read Next

1947 के विभाजन का दर्द – बुजुर्गों की जुबानी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Most Popular