Gurugram

Seth Bhamashah – दानवीर का पर्याय है सेठ भामाशाह : डॉ मनदीप किशोर गोयल

Seth Bhamashah

 

Viral Sach : Seth Bhamashah – अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन ज़िला गुरुग्राम ने मातृभूमि के लिए अगाध प्रेम एवं दानवीर अगरविभूति सेठ भामाशाह की जयंती निर्माणाधीन महालक्ष्मी मन्दिर, सेक्टर ५ गुरुग्राम में डॉ मनदीप किशोर गोयल, जिला अध्यक्ष, अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन की अध्यक्षता में मनाई गई।

जिसमें अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के प्रदेश उपाध्यक्ष महेन्द्र लाहोरिया जी, ज़िलाध्यक्ष डॉ मनदीप ने दानवीर सेठ भामाशाह के चित्र पर पुष्प अर्पित किए और दीप प्रज्वलित किया। मंच का संचालन जिला महासचिव देविंदर गुप्ता ने किया ।

अध्यक्ष डॉ मनदीप किशोर गोयल ने दानवीर सेठ भामाशाह की जीवनी पर प्रकाश डाला और उनके द्वारा महाराणा प्रताप के लिए दिए गए सहयोग एवं दान पर विस्तार से चर्चा की।

लाहोरिया जी ने कहा कि अगर समाज के दानदाताओं एवं समाजसेवियों को इतिहास में उचित स्थान नहीं दिया गया जिसके कारण हमारी आने वाली पीढ़ी अगर वंशज के विषय में, अधिक नहीं जानती।

जिला अध्यक्ष गोयल ने कहा कि आदरणीय महाराणा प्रताप का अस्तित्व दानवीर अगर विभूति भामाशाह के दिए हुए सहयोग एवं दान के द्वारा ही संभव हुआ। महाराणा प्रताप युद्ध में अकबर से पराजित होने के बाद अज्ञातवास में चले गए थे।

तब दानवीर सेठ भामाशाह अपने छोटे भाई के साथ महाराणा प्रताप और उनके पत्नी एवं बच्चों से मिलने के लिए अज्ञात स्थान पर गए थे। उन्होंने महाराणा प्रताप से द्वारा दोबारा युद्ध की तैयारी करने के लिए स्वर्ण मुद्रिका दान में भेंट की और कहा कि आपकी पूरी सेना का खर्चा, युद्ध में हथियारों का खर्चा एवं भोजन की व्यवस्था मैं करूंगा। आप बहादुरी एवं रणकौशल के साथ अकबर से युद्ध करें और धन की चिंता ना करें।

तब युद्ध में महाराणा प्रताप जी की विजय हुई। जिससे आने वाली पीढ़ी को ज्ञात हो की युद्ध में महाराणा प्रताप की आर्थिक एवं सामाजिक सहायता दानवीर सेठ भामाशाह ने की थी। हरियाणा प्रदेश वैश्य महासम्मेलन की जिला इकाई गुरुग्राम ने प्रस्ताव पारित किया की क्षतिग्रस्त महाराजा अगरसेन चौक को तुरंत रिपेयर कराया जाए।

भारत सरकार से मांग की जाती है कि राष्ट्रीय पाठ्यक्रम में दानवीर सेठ भामाशाह की जीवनी को उचित स्थान दिया जाए और दानवीर सेठ भामाशाह की जयंती को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाए।

जिला अध्यक्ष डॉ गोयल ने बताया कि दानवीर सेठ भामाशाह की जयंती को मनाने के लिए राष्ट्रीय महामंत्री उमेश अग्रवाल पूर्व विधायक एवं प्रदेश अध्यक्ष राजीव जैन जी ने प्रेरित एवं मार्गदर्शन दिया था। जिला इकाई प्रेरणा एवं मार्गदर्शन के लिए उमेश जी एवं राजीव जैन जी का आभार प्रकट करती है।

इस अवसर पर दिनेश अग्रवाल, अध्यक्ष महालक्ष्मी मंदिर, संजीव अग्रवाल, देवेंद्र गुप्ता, विवेक गुप्ता युवा ज़िलाअध्यक्ष ने भी अपने विचार प्रस्तुत किए। इस जयंती कार्यक्रम में अमित अग्रवाल, श्रीमती अणु, राम , सुभाष गुप्ता, राम कुमार गुप्ता इत्यादि उपस्थित थे। कार्यक्रम के अंत में सभी को जलपान सूक्ष्म आहार की व्यवस्था की गई एवं प्रसाद वितरित किया गया।

Translated by Google 

Viral Sach: All India Vaishya Mahasammelan district Gurugram celebrated the birth anniversary of great love for the motherland and donor Agarvibhuti Seth Bhamashah under the chairmanship of Dr. Mandeep Kishore Goyal, District President, All India Vaishya Mahasammelan at the under-construction Mahalaxmi Temple, Sector 5 Gurugram.

In which State Vice President of All India Vaish Mahasammelan Mahendra Lahoria ji, District President Dr. Mandeep offered flowers on the picture of Danveer Seth Bhamashah and lit the lamp. The stage was conducted by the District General Secretary Devinder Gupta.

Chairman Dr. Mandeep Kishore Goyal threw light on the biography of Danveer Seth Bhamashah and discussed in detail the cooperation and donation given by him for Maharana Pratap.

Lahoria ji said that if the donors and social workers of the society are not given proper place in the history, due to which our future generations do not know much about their descendants.

District President Goyal said that the existence of respected Maharana Pratap was possible only because of the cooperation and donation given by Danveer Agar Vibhuti Bhamashah. Maharana Pratap went into exile after being defeated by Akbar in the war.

Then Danveer Seth Bhamashah along with his younger brother went to an unknown place to meet Maharana Pratap and his wife and children. He gifted a golden seal to Maharana Pratap to prepare for war again and said that I will arrange for the expenses of your entire army, the expenses of weapons and food in the war. You fight with Akbar with bravery and battle skills and don’t worry about money.

Then Maharana Pratap ji won the war. So that the coming generation may know that Danveer Seth Bhamashah had given financial and social help to Maharana Pratap in the war. The district unit of Haryana Pradesh Vaishya Mahasammelan, Gurugram passed a resolution that the damaged Maharaja Agarsen Chowk should be repaired immediately.

The Government of India is demanded that the biography of Danveer Seth Bhamashah should be given a proper place in the national curriculum and the birth anniversary of Danveer Seth Bhamashah should be declared a national holiday.

District President Dr. Goyal told that to celebrate the birth anniversary of Danveer Seth Bhamashah, National General Secretary Umesh Aggarwal, former MLA and State President Rajiv Jain had given inspiration and guidance. District unit expresses gratitude to Umesh ji and Rajeev Jain ji for inspiration and guidance.

Dinesh Agarwal, President Mahalaxmi Temple, Sanjeev Agarwal, Devendra Gupta, Vivek Gupta, Youth District President also presented their views on this occasion. Amit Agarwal, Mrs. Anu, Ram, Subhash Gupta, Ram Kumar Gupta etc were present in this anniversary program. At the end of the program refreshments were arranged for all and Prasad was distributed.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *