श्री गुरु तेग बहादुर जी त्याग, तपस्या और बलिदान के प्रतीक: बोधराज सीकरी

श्री गुरु तेग बहादुर जी त्याग, तपस्या और बलिदान के प्रतीक: बोधराज सीकरी

Viral Sach : हिंद की चादर, सिख धर्म के नौवें गुरू श्री गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व पर पंजाबी बिरादरी महासंगठन ने पानीपत में रुमाला साहिब सेवा कार्यक्रम का भव्य आयोजन किया। आयोजन को सफल बनाने के लिए पंजाबी बिरादरी महा संगठन बिरादरी के उपप्रधान श्री राजकुमार कथूरिया की अगुवाई में दो बसें भरकर गुरुग्राम से पानीपत पहुंची। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की उपस्थिति इस भव्य कार्यक्रम में रही। उन्होंने इस महा पर्व की सभी को लख-लख बधाईयां दी।

इस विशाल आयोजन में महा संगठन के प्रधान बोधराज सीकरी के नेतृत्व में पंजाबी बिरादरी महासंगठन ने पूरी जिम्मेदारी के साथ रुमाला साहिब की सेवा की। बोधराज सीकरी ने अपने संबोधन में कहा कि हम गुरु तेग बहादुर जी और उनके पुत्र गुरु गोबिंद सिंह जी की कुर्बानी कैसे भूल सकते हैं, जिन्होंने हिंदू धर्म की रक्षा के लिए अपने आप को राष्ट्र के किए कुर्बान कर दिया। ऐसे शास्त्र और शस्त्र के ज्ञाता को पंजाबी कौम की ओर से कोटि-कोटि नमन किया गया। हरियाणा में श्री गुरु तेग बहादुर जी का विशेष योगदान रहा है। गुरु साहिब जी ने जींद, करनाल, कुरुक्षेत्र, कैथल, यमुनानगर, रोहतक आदि स्थानों पर भ्रमण करके समाज कल्याण के लिए तालाब, कुएं, धर्मशाला आदि बनवाए। धर्म का व्यापक प्रचार-प्रसार कर लोगों को मानवता की असल परिभाषा सिखाई है। श्री सीकरी ने श्री गुरु तेग बहादुर जी के प्रकाश पर्व के उपलक्ष्य में सभी से रात को अपने-अपने घर पर एक दीपक जलाने की अपील की। गुरुग्राम से पहुंची संगत ने भी गुरु साहिब जी के शब्द कीर्तन का श्रवण किया, जहां अनगिनत संत उपस्थित थे। आनंदमूर्ति गुरु मां और स्वामी ज्ञानानंद जी की उपस्थिति और वक्तव्य अद्भुत रहा।

बोधराज सीकरी ने कहा कि कार्यक्रम में लाखों की संख्या में भक्तजन उपस्थित रहे। इतनी संख्या के बावजूद भी लोगों का अनुशासन सराहनीय था। गुरु साहिब का लंगर निरंतर चलाया गया। इस कार्यक्रम की सफलता का श्रेय श्री सीकरी ने करनाल के सांसद संजय भाटिया को दिया, जिन्होंने लगातार इस पर काम किया। साथ ही उन्होंने राजकुमार कथूरिया और उनकी टीम को रुमाला साहिब सेवा का उत्तरदायित्व लेने के लिए आभार जताया।

Leave your comment
Comment
Name
Email