1947 के विभाजन का दर्द – बुजुर्गों की जुबानी

गुरुग्राम, (प्रवीन कुमार ) : सन् 1947 के बाद गदर की कहानी मेरे पिताजी की जुबानी, जो उन्होंने अपने दास्ताँ मुझे बताई | मेरे लाला जी श्री जगदीश चन्द्र पुत्र श्री केवल राम के तीन