1947 के विभाजन का दर्द – बुजुर्गों की जुबानी

1947 के विभाजन का दर्द – बुजुर्गों की जुबानी

bombay Jewellers

गुरुग्राम, (प्रवीन कुमार) : मैं, बीएन चावला पुत्र स्वर्गीय श्री जामनी दास चावला पुत्र स्वर्गीय श्री सोहरा राम चावला पुत्र स्वर्गीय श्री दुखभंजन लाल चावला पुत्र स्वर्गीय श्री नानू मल चावला, ब्लॉक-डी, डेरा गाजी खान (अब पश्चिमी पाकिस्तान में) विस्थापित होकर 1947 के बाद भारत आया था। मेरा जन्म 01.10.1938 को हुआ और मैं लगभग 9 वर्ष का था जब 5वीं कक्षा में पढ़ रहा था। मेरे पूर्वज लगभग 200 बीघा भूमि के मालिक और लकड़ी के व्यवसाय के व्यापारी थे।

जब यह निश्चित हो गया कि हमें भारत जाना है, तो लोगों ने अपना माल उस मूल्य में बेचना शुरू कर दिया, जो माल के न्यूनतम मूल्य से भी कम था । इस बुरे समय पर, मुसलमानों ने उन सामानों की खरीद से परहेज किया, जिसकी उन्हें मुफ्त मिलने की संभावना थी। तदनुसार, हमने आग से उन वस्तुओं को जला कर नष्ट करना शुरू कर दिया।
मेरे पिताजी एक प्रमुख व्यवसायी होने के नाते अपने मुस्लिम व्यापारियों से कर्ज चुकाने के लिए कह रहे थे, जिसे उन्होंने चुकाया था। ऐसे ही एक व्यक्ति ने अदालत में दावा किया कि मेरे पिता को पैसे देने के लिए मजबूर किया गया और इस पर उन्होंने डेरा गाजी खान छोड़ दिया । उसी रात ट्रेन जैसे मैं समझा बहावलपुर में पहुंची थी। उन्होंने हमें संबंधियों और जान-पहचान वाले लोगों के साथ चलने का निर्देश दिया, वो इसलिए कि उन्हें दुश्मनों का डर था।

भारत के लिए ट्रेन में सवार होने के लिए बहावलपुर पहुंचने के बाद उन्होंने वहां हमारा इंतजार किया। जैसे ही हम वहाँ पहुँचे हम एक ट्रेन में सवार हो गए, जिसे असुरक्षित घोषित कर दिया गया था, किसी ने मेरे पिता को गोपीनाथ जी के मंदिर को ले जा रही सुरक्षित ट्रेन में चढ़ने के लिए कहा जो कि सैन्य कमांडरों द्वारा सुरक्षित थी। जैसे ही हमने शिफ्ट किया था ट्रेन चलने लगी। मेरे पिता को दूसरी ट्रेन में सामान के साथ जाना पड़ा क्योंकि इसे स्थानांतरित नहीं किया जा सका था। यह हमारे लिए बहुत कठिन समय था क्योंकि हमारे पास खाने-पीने के लिए कुछ नहीं था।

कुछ स्टेशनों पर मेरे बड़े भाई कुछ प्राप्त करने के लिए बाहर जाना चाहते थे, जिसे सह-यात्रियों ने मना कर दिया। एक स्टेशन पर मेरे भाई ने जबरन ट्रेन छोड़ दी और खाने का सामान लेकर आने पर एक गेट खोलने की प्रार्थना की। उसने स्टेशन मास्टर से पूछा कि मेरे भाई भूखे हैं, कृपया मुझे खाने के लिए कुछ दे दो। उसके पास दूध की बाल्टी के अलावा कुछ नहीं था जो उसने हमें दे दी।
इस तरह हम करनाल पहुंच गए। हमारे पिता को पता चला कि हम करनाल में हैं और वो हमसे वहाँ मिल गए। यह उल्लेख करना अनुचित नहीं होगा कि वह उस ट्रेन में अकेले ही जीवित बचे थे।

Annu Advt

Leave your comment
Comment
Name
Email