इस बजट ने विपक्ष और फर्जी किसान नेताओं की कमर तोड़ दी : रमन मलिक

इस बजट ने विपक्ष और फर्जी किसान नेताओं की कमर तोड़ दी : रमन मलिक

गुरुग्राम,(प्रवीन कुमार ) : केंद्रीय सरकार द्वारा पेश किए गए बजट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा प्रवक्ता रमन मलिक ने कहा कि 2013 में लगभग 34000 करोड की कनक खरीदी गई थी जो बढ़कर 75000 करोड़ की 2021 में खरीदी गई ऐसे ही धान 2013 14 में 63900 करोड़ की खरीदी गई जो कि 2000 2021 में 172700 करोड से ऊपर की खरीदी गई।

क्या देश में कृषि के उत्पाद योग्य जमीन बढ़ गई? नहीं बल्कि रोड फैक्ट्री कॉलोनी या बनने में कृषि योग्य जमीन घटती गई फिर भी एमएसबी पर खरीदे जाने वाली फसलों की कुल कीमत बढ़ती गई यह तभी संभव हुआ जब एमएसपी की दरें लगातार बढ़ती गई।

एपीएमसी को बंद करने की अफवाह फैलाई जा रही थी वहीं केंद्र सरकार ने एपीएमसी को पैसा अनुदान करने के लिए एक विभिन्न मार्ग केंद्रीय बजट में दिखाया है जो यही प्रशस्त करता है कि मंडी तो चलती ही रहेगी। टपक खेती और खेती के ऊपर विभिन्न सहायता उसी प्रकार से चलती रहेगी 22 फसलों को अब निर्यात करा जा सकता है एक लाख 14 हजार करोड़ का व्यापारी नाम पर हुआ है और 1000 अन्य मंडी अभी इसमें जोड़ी जाएंगी।

मैं यह मानता हूं कि जिस प्रकार से देश का अन्नदाता अनु गाने में लगता है उसी प्रकार देश के व्यापारी और उद्योग अपनी भूमिका निभाते हैं। इस बजट के अंदर छोटे और मझोले कारोबारियों नए स्टार्टअप और एमएसएमई का खास ध्यान रखा गया है। वही मैं सरकार को बधाई देता हूं कि उन्होंने यातायात के सभी क्षेत्रों को प्राथमिकता देते हुए बजट में विशेष स्थान दिया है जिससे उद्योग और कृषि दोनों के उत्पाद देशभर में और विदेशों में जाने के मार्ग प्रशस्त हुए हैं।

सरकार ने जिस प्रकार से शहरों के अंदर विकास के लिए बसों का एक बड़ा जाल बिछाने की बात करी है वह भी सराहनीय योग्य है। 75 वर्ष से अधिक करदाताओं को अब इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भर नहीं होगी वही इनकम टैक्स स्क्रूटनी के मामले में समय सीमा घटाई जाना भी आम जनता को राहत है।

अंत में मैं इतना ही कहूंगा कि जिस प्रकार से यह करो ना काल में पूरी अर्थव्यवस्था एक स्थगित रूप में आ गई थी, वहां से जिस प्रकार की तेजी सामने नजर आती है वह यही दर्शाता है कि भारत अपनी आर्थिक मजबूती के कारण इस नए वैश्विक रचना में अग्रिम स्थान पर रहेगा।

Leave your comment
Comment
Name
Email