Gurugram

Vaisakhi – आईरिस ब्राडवे में धूमधाम से मनाया गया बैसाखी का त्योहार

Vaisakhi

 

Viral Sach : Vaisakhi – न्यू गुरुग्राम में धीरे धीरे माल की संख्या बढ़ रही है जहां लोग एक ही जगह से सुगमता पूर्वक ख़रीदारी कर सके। कोविड के बाद धीरे धीरे ही सही, लोग अब बाहर निकलने लगे हैं।

लोग इवैंट में भी हिस्सा लेने लगे है। इसी कड़ी में गुरुग्राम सेक्टर-85 स्थित आईरिस ब्राडवे में बैसाखी का त्योहार धूमधाम के साथ मनाया गया, साथ ही लोगों के लिए फ्ली मार्केट का भी आयोजन किया गया ।

इसमें विभिन्न तरह के स्टॉल लगाए थे, जहाँ लोगों ने जमकर खरीदारी की एवं त्योहार का आनन्द लिया। राजस्थानी ब्लॉक प्रिंट्स में कपड़े, घर की सजवाट का सामान, ज्वेलरी, हेयर अक्सेसरीज़, लेडीज वेस्टर्न वियर, कुछ ऐसे स्टाल्स हैं जिन्होंने लोगों का मन खूब लुभाया।

कोविड के दौरान लोग सुरक्षा हेतु घर से बाहर किसी त्योहार का लुफ्त नहीं उठा पाए और जब धीरे धीरे कोविड का असर कम हुआ तो अब सभी त्योहारों की रौनक देखते बनती है।

इस अवसर पर बात करते हुये अमन त्रेहान, एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर, त्रेहान आइरिस ने कहा, “बैसाखी का त्योहार एक बड़ा त्योहार है और हम आईरिस ब्रॉडवे में हर त्यौहार के जश्न को साथ मिल कर दोगुना करने का प्रयास करते हैं।

यहाँ पर लोगों ने बड़े ही उत्साह के साथ इस त्यौहार को मनाया और इसी के साथ हम आने वाले त्योहारों में भी लोगों को इस तरह के अवसर देने हेतु कार्यक्रम आयोजित करते रहेंगे। ”

त्योहार में शामिल एक प्रतिभागी ने कहा, “कोविड के बाद मैं इस तरह के त्योहार में पहली बार शामिल हुये, जहाँ बैसाखी के त्योहार का परिवार के साथ बखूबी आनंद लिया।”

समाज के हर वर्ग के लोग इसमें शामिल हुए और भारतीय संस्कृति की झलक देखने को मिली। हमारा देश विभिन्नताओं का देश है। यहाँ विभिन्नताओं में एकता पायी जाती है। भारत में प्रत्येक ऋतु का अपना एक महत्व होता है क्योंकि यहाँ अलग-अलग ऋतुओं में अलग-अलग फसलें उगती हैं।

बैसाखी के त्योहार को पंजाब और हरियाणा राज्य में बड़े हर्ष के साथ मनाया जाता है। यह दिन एक नए साल की शुरुआत का प्रतीक भी है। भारत एक कृषि प्रधान देश है जहाँ फसलों के पककर तैयार होने पर त्योहार मनाने की प्रथा है। बैसाखी का त्योहार भी रवि की फसल तैयार होने पर होता है।

Vaisakhi

Translated by Google

Viral Sach : Vaisakhi – The number of goods is gradually increasing in New Gurugram where people can easily shop from one place. After Covid, slowly but surely, people are now moving out.

People have also started participating in the event. In this series, the festival of Baisakhi was celebrated with pomp and gaiety at Iris Broadway, Gurugram Sector-85, along with a flea market was also organized for the people.

Different types of stalls were set up in it, where people shopped fiercely and enjoyed the festival. Clothing in Rajasthani block prints, home decor items, jewelry, hair accessories, ladies western wear, are some of the stalls that attracted a lot of attention.

During Kovid, people could not enjoy any festival outside the house for safety and when the effect of Kovid gradually reduced, now all the festivals are celebrated.

Speaking on the occasion, Aman Trehan, Executive Director, Trehan Iris said, “The festival of Baisakhi is a big festival and we at Iris Broadway try to double the celebration of every festival together.

Here people celebrated this festival with great enthusiasm and with this we will continue to organize programs to give such opportunities to the people in the coming festivals as well. ,

A participant in the festival said, “It was the first time I attended such a festival after Covid, where I enjoyed the festival of Baisakhi with my family.”

People from every section of the society participated in it and got to see the glimpse of Indian culture. Our country is a country of diversities. Here there is unity in diversity. Each season has its own importance in India because different crops grow here in different seasons.

The festival of Baisakhi is celebrated with great enthusiasm in the states of Punjab and Haryana. This day also marks the beginning of a new year. India is an agricultural country where it is customary to celebrate festivals when the crops are ready to be harvested. The festival of Baisakhi also happens when the Ravi crop is ready.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *