Rao Inderjit : दौलताबाद सहित आधा दर्जन गांवों के लोग मुआवजे को लेकर केंद्रीय मंत्री से मिले

Rao Inderjit

 

Viral Sach : केंद्रीय मंत्री Rao Inderjit सिंह से दौलताबाद, धनकोट, चंदू, बुडेढा, माकडोला, धर्मपुर, खेड़की माजरा के सैकड़ों ग्रामीणों ने मुलाकात कर वर्षों से करीब 3 हजार एकड़ में भरे गंदे पानी की समस्या हल करवाने की गुहार लगाई है।

ग्रामीणों ने केंद्रीय मंत्री से मांग करते हुए कहा कि जब तक गंदे पानी निकासी से संबंधित कोई समाधान नहीं किया जाता तब तक सरकार प्रति एकड़ मुआवजा देने का कार्य करें।

केंद्रीय मंत्री ने ग्रामीणों की समस्या सुनने के बाद कहा कि इस संबंध में वे मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बात करेंगे और किसानों की समस्या को हल करवाएंगे। केंद्रीय मंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर कहा कि वे जल्दी मौका मुआयना करने भी आएंगे और ग्रामीणों की समस्याओं को मौके पर देखेंगे।

केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत के दिल्ली स्थित निवास पर दौलताबाद सहित आधा दर्जन गांव के ग्रामीण अपनी समस्या को लेकर पहुंचे। पीड़ित किसानों ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि 3 हजार एकड़ पर पिछले 15 वर्षों से एचएसआईआईडीसी के सीवर का गंदा पानी खड़ा हुआ है, जिसके कारण किसानों की जमीन बंजर में तब्दील होती जा रही है।

किसानों ने बताया कि पिछले 15 वर्षों से अपनी जमीन पर खेती नहीं कर पा रहे हैं। किसानों का कहना था कि गंदे पानी के लगातार जमीन में भरे होने के कारण स्थिति यह बन गई है कि आसपास के क्षेत्र में पानी का स्तर काफी बढ़ गया है और भूमिगत जल लगातार खराब हो रहा है।

किसानों ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि पिछले कुछ वर्षों से सरकार की ओर से गिरदावरी तो कराई जा रही है लेकिन मुआवजे का समाधान आज तक सरकार नहीं निकाल पाई है।

किसानों ने केंद्रीय मंत्री से मांग करते हुए कहा कि जब तक सरकार जमीन का कोई समाधान नहीं निकाल पाती तब तक उन्हें प्रति एकड़ मुआवजा सरकार की ओर से दिया जाए।

केंद्रीय मंत्री ने किसानों की समस्याओं को सुनते हुए उन्हें आश्वासन दिया कि इस बारे में मुख्यमंत्री मनोहर लाल अधिकारियों से बातचीत करेंगे और किसानों की समस्या का समाधान निकाला जाएगा।

किसानों ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि दिल्ली के कुछ गांव भी इसी समस्या से पीड़ित है जिसको लेकर दिल्ली सरकार किसानों को प्रति एकड़ प्रतिवर्ष मुआवजा दे रही है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जीएमडीए की ओर से जल्द ही एक जल शोधन यंत्र भी बनाया जा रहा है ताकि सीवर का पानी शोधित हो सके और आसपास के जिलों के किसानों को सिंचाई के लिए यह पानी वितरित किया जा सके।

इस शोधित पानी को नूंह मेवात के किसानों व झज्जर के किसानों में वितरण की योजना प्रदेश सरकार बना रही है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि किसानों को प्रति एकड़ मुआवजा की पैरवी वे राज्य सरकार के समक्ष करेंगे, जब तक इस समस्या का स्थाई समाधान नहीं निकाला जाता।

Translated by Google 

Viral Sach: Hundreds of villagers of Daulatabad, Dhankot, Chandu, Budedha, Makdola, Dharampur, Kherki Majra met Union Minister Rao Inderjit Singh and requested him to solve the problem of dirty water filled in about 3 thousand acres for years.

The villagers demanded from the Union Minister that the government should do the work of giving compensation per acre until there is no solution related to the drainage of dirty water.

After listening to the problems of the villagers, the Union Minister said that he would talk to Chief Minister Manohar Lal in this regard and get the farmers’ problems resolved. On the demand of the villagers, the Union Minister said that he will also come soon to inspect the spot and see the problems of the villagers on the spot.

Villagers from half a dozen villages including Daulatabad reached Union Minister Rao Inderjit’s residence in Delhi with their problems. The aggrieved farmers told the Union Minister that for the last 15 years, dirty water from the sewer of HSIIDC has been standing on 3 thousand acres, due to which the land of the farmers is turning into barren land.

Farmers told that for the last 15 years they are not able to cultivate their land. Farmers said that due to the continuous filling of dirty water in the ground, the situation has become such that the water level in the surrounding area has increased a lot and the underground water is continuously deteriorating.

The farmers told the Union Minister that for the last few years, Girdawari is being done by the government, but till date the government has not been able to find a solution for the compensation.

The farmers demanded from the Union Minister that till the time the government could not find a solution for the land, they should be given compensation per acre by the government.

While listening to the problems of the farmers, the Union Minister assured them that Chief Minister Manohar Lal would talk to the officials in this regard and a solution would be found to the problems of the farmers.

The farmers told the Union Minister that some villages of Delhi are also suffering from the same problem, for which the Delhi government is giving compensation per acre every year to the farmers.

The Union Minister said that a water purifier is also going to be built soon by the GMDA so that the sewer water can be purified and this water can be distributed to the farmers of the surrounding districts for irrigation.

The state government is planning to distribute this purified water to the farmers of Nuh Mewat and Jhajjar. The Union Minister said that he will advocate per acre compensation to the farmers before the state government, until a permanent solution to this problem is found.

Follow us on Facebook 

Read More News

Read Previous

Bodhraj Sikri : रक्तदान जीवनदान के समान है

Read Next

मंत्री मूलचंद शर्मा से Naveen Goyal ने गुरुग्राम विवि के जल्द निर्माण का किया अनुरोध

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular