Gurugram

Vaishya Mahasammelan की कलश यात्रा में ढाई हजार महिलाओं की भीड़ देख शहरवासी हैरान

Vaishya Mahasammelan

Viral Sach – अखिल भारतीय Vaishya Mahasammelan की जिला शाखा के तत्वावधान में आयोजित कलश एवं शोभा यात्रा में शामिल कलशधारी महिलाओं की भीड़ देख शहरवासी भी हैरान रह गए। एक ही रंग की साड़ी में सिर पर कलश धारण कर सड़क पर उतरी इतनी भारी संख्या में महिलाओं की वजह से यात्रा संचालन में भी थोड़ा विलंब हुआ।

शोभा यात्रा में शामिल झांकियों की ही चर्चा शहर भर में हर जगह सुनाई दी। अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद डॉ. गिरीश कुमार संघी के आहवान पर शनिवार को नव संवत्सर एवं वैश्य दिवस के अवसर पर महासम्मेलन की जिला इकाई एवं महासम्मेलन की महिला शाखा के तत्वावधान में कलश एवं शोभा यात्रा का आयोजन किया गया था।

वैश्य महासम्मेलन के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व विधायक उमेश अग्रवाल के मार्गदर्शन में इस आयोजन की करीब एक महीने से व्यापक तैयारियां की जा रही थीं। महासम्मेलन के जिलाध्यक्ष डॉ. मंदीप किशोर गोयल, जिला महासचिव अरूण अग्रवाल एवं गजेन्द्र गुप्ता, कोषाध्यक्ष धीरज गुप्ता तथा युवा जिलाध्यक्ष विवेक गुप्ता सहित सभी पदाधिकारी अपनी पूरी टीम के साथ इस आयोजन को सफल बनाने में जुटी थी।

 

Vaishya Mahasammelan

 

इन्हीं के साथ महासम्मेलन की महिला उपाध्यक्ष अनीता अग्रवाल, महिला जिलाध्यक्ष मिनाक्षी गुप्ता, जिला कार्यकारी अध्यक्षा सुरुचि गोयल, जिला महासचिव मीना गर्ग एवं ज्योति गुप्ता, कोषाध्यक्ष डिंपल गुप्ता, जिला उपाध्यक्ष मीना एमडीएच, अमन गोपाल जिंदल, मधु, मंजू गोयल, क्षमा गर्ग, स्वाति गुप्ता, ऊषा गुप्ता, डोली गुप्ता तथा मीनू गर्ग सहित अनेक प्रमुख महिला पदाधिकारी एवं कार्यकारिणी सदस्यों ने अपनी टीम को साथ ले कलश यात्रा के लिए महिलाओं को संगठित एवं उत्साहित कर रही थीं।

उनका लक्ष्य कलश यात्रा में ग्यारह सौ महिलाओं को शामिल कराने का था। लेकिन कलश यात्रा के लिए महिलाओं में ऐसा उत्साह जागा कि भूतेश्वर मंदिर से यात्रा आरंभ होने के समय तक ढाई हजार महिलाओं का हुजूम उमड़ पड़ा।

महिलाओं का हुजूम और उत्साह देख एक बार तो आयोजकों को भी समय पर कलश यात्रा शुरु कराने में दिक्कत उठानी पड़ी लेकिन जल्द ही व्यवस्थित रूप से कलश यात्रा शुरु कर ली गई। कलश यात्रा का नेतृत्व कर रही वैश्य महासम्मेलन की महिला शाखा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक उमेश अग्रवाल की धर्मपत्नी श्रीमती अनीता अग्रवाल का कहना है कि कलश यात्रा में महिलाओं का उत्साह देख कहा जा सकता है कि महिलाएं अपनी संस्कृति से जुड़ी हुई हैं।

 

Vaishya Mahasammelan

ऐसी शोभा यात्रा पहली बार देखने को मिली – रोशन लाल मंगला (पिंटू)

गुरुग्राम शहर में ऐसी भव्य एवं ऐतिहासिक शोभा यात्रा पहली बार देखने को मिली। शहर के व्यापारी नेता रोशन लाल मंगला उर्फ पिंटू ने बताया कि ऐसे भव्य शोभा एवं कलश यात्रा पहली बार देखने को मिली। झांकियों की शोभा देखते ही बनती बनती थी।

मथुरा, मेरठ, बड़ौत और गुरुग्राम से शामिल झांकियां सतरंगी छटा बिखेर रही थीं। पहली बार किसी भी शोभा यात्रा में 25 से अधिक झांकियांे को शामिल किया गया। बंचारी के नगाड़े की थाप पर बाजार के व्यापारी झूम-झूम कर नाचने लगे। महाराजा अग्रसेन की झांकी और महालक्ष्मी जी की झांकी के स्वरूप अद्वितीय वैश्य समाज की शान लाला लाजपतराय की झांकी और देशभक्ति से ओत-प्रोत कारगिल की झांकी विशेष रूप से दर्शनीय थी।

शिव तांडव की थपकी पर कलाकारों द्वारा भवूत लगाकर चलना और हरिद्वार के अखाड़े के द्वारा सजीव प्रदर्शन करना लोगों को विशेष रूप से आकर्षित कर रहा था। खाटू श्याम बाबात की झांकी गुरुग्राम के श्याम रंगीला परिवार द्वारा सजाई गई झांकी से समापन और प्रसाद वितरण पर लंबी कतार लगी रही।

महासम्मेलन के जिलाध्यक्ष डॉ. मंदीप किशोर गोयल का कहना था कि रेलवे रोड़ पर पंकज गुप्ता, ओल्ड रेलवे रोड़ पर देवेन्द्र गुप्ता हरीश बेकरी द्वारा यात्रा में शामिल सभी का ठंडाई और मिठाई से स्वागत किया। सदर बाजार में अलंकार ज्वैलर्स, श्रीराम ज्वैलर्स, कान्हा ज्वैलर्स, अमरनाथ रोशनलाल, अमीचंद मक्खन लाल, गुप्ता मैडिकल एजेसीज़ इत्यादि अनेक व्यापारियों द्वारा जगह-जगह पर जलपान की अद्भूत व्यवस्था की गई थी जिससे झांकी में शामिल कलाकर और प्रतिष्ठित सामाजिक लोगों ने इन व्यवस्थाओं की खुलकर प्रशंसा की।

पूर्व विधायक एवं अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के महासचिव उमेश अग्रवाल का कहना है कि ऐसे आयोजन से हमें अपनी सनातन संस्कृति से जुड़े रहने की सीख तो मिलती है। नई पीढ़ी को भी हमें अपने सांस्कृतिक सरोकार से परीचित होने का मौका मिलता है। उन्होंने कहा कि बड़ौत, मथुरा व मेरठ से मंगवाई गई झांकियों और ढोल नगाड़ों ने शोभा यात्रा की भव्यता को और बढ़ा दिया।

महासम्मेलन के जिलाध्यक्ष मंदीप किशोर गोयल का कहना है कि सेक्टर पांच से शुरु होकर रेलवे रोड़ के चिंतपूर्णी मंदिर, न्यू कॉलोनी मोड़, मदनपुरी रोड़ और पटौदी चौक होते हुए भूतेश्वर मंदिर पहुंची जहां से शोभा यात्रा की अगुवानी कलश धारण किये ढाई हजार महिलाओं के भारी भरकम दल ने की।

उन्होंने इस बात पर खुशी ज़ाहिर की कि इतना विशाल कार्यक्रम पूरी शांति और व्यवस्थित ढंग से संपन्न हो गया। उन्होंने व्यवस्था में हाथ बंटाने और कलश एवं शोभा यात्रा का जगह-जगह स्वागत करने और जलपान की व्यवस्था करने वाले व्यापारियों का भी आभार व्यक्त किया है।

Translated by Google 

Viral Sach – The townspeople were also surprised to see the crowd of Kalashdhari women participating in the Kalash and Shobha Yatra organized under the aegis of the district branch of All India Vaishya Mahasammelan. There was a slight delay in the operation of the yatra due to such a large number of women who came on the road in a single colored saree carrying a kalash on their heads.

The discussion of the floats involved in the Shobha Yatra was heard everywhere in the city. On the call of National President of All India Vaish Mahasammelan and former MP Dr. Girish Kumar Sanghi, Kalash and Shobha Yatra was organized on Saturday under the aegis of district unit of Mahasammelan and women’s branch of Mahasammelan on the occasion of New Samvatsar and Vaishya Day.

Under the guidance of National General Secretary of Vaish Mahasammelan and former MLA Umesh Aggarwal, extensive preparations were being made for this event for about a month. District President of Mahasammelan Dr. Mandeep Kishore Goyal, District General Secretaries Arun Agarwal and Gajendra Gupta, Treasurer Dheeraj Gupta and Youth District President Vivek Gupta along with all the office bearers were involved in making this event successful with their entire team.

Along with these, Women’s Vice President of Mahasammelan Anita Agarwal, Women District President Meenakshi Gupta, District Executive President Suruchi Goyal, District General Secretaries Meena Garg and Jyoti Gupta, Treasurer Dimple Gupta, District Vice President Meena MDH, Aman Gopal Jindal, Madhu, Manju Goyal, Kshama Garg, Many prominent women office bearers and executive members including Swati Gupta, Usha Gupta, Doli Gupta and Meenu Garg were organizing and encouraging women for the Kalash Yatra along with their team.

His aim was to involve eleven hundred women in the Kalash Yatra. But there was such enthusiasm among the women for the Kalash Yatra that by the time the yatra started from the Bhuteshwar temple, a crowd of two and a half thousand women gathered.

Seeing the crowd and enthusiasm of the women, even once the organizers had to face difficulty in starting the Kalash Yatra on time, but soon the Kalash Yatra was started systematically. Leading the Kalash Yatra, National Vice President of Women’s Branch of Vaish Mahasammelan and wife of former MLA Umesh Agarwal, Mrs. Anita Agarwal says that seeing the enthusiasm of women in the Kalash Yatra, it can be said that women are attached to their culture.

Such a procession was seen for the first time – Roshan Lal Mangla (Pintu)

Such a grand and historical procession was seen for the first time in the city of Gurugram. City’s business leader Roshan Lal Mangala alias Pintu told that such a grand procession and Kalash Yatra were seen for the first time. Seeing the beauty of the tableaux, it used to be made.

Tableaus from Mathura, Meerut, Baraut and Gurugram were spreading colorful hues. For the first time, more than 25 tableaux were included in any Shobha Yatra. The traders of the market started dancing to the beats of the drums of the banchari. The tableaux of Maharaja Agrasen and Mahalakshmi ji, the unique form of Vaishya community’s tableaux, Lala Lajpat Rai’s tableaux and Kargil’s tableaux filled with patriotism were especially visible.

Walking on the beat of Shiv Tandav by the artists wearing bhavut and live performance by Haridwar’s Akhara was particularly attracting the people. The tableau of Khatu Shyam Babat, which was decorated by the Shyam Rangeela family of Gurugram, saw long queues for the closing ceremony and distribution of prasad.

District President of Mahasammelan Dr. Mandeep Kishore Goyal said that Pankaj Gupta on Railway Road, Devendra Gupta Harish Bakery on Old Railway Road welcomed everyone involved in the yatra with thandai and sweets. In Sadar Bazar, many traders like Alankar Jewellers, Shriram Jewellers, Kanha Jewellers, Amarnath Roshanlal, Amichand Makkhan Lal, Gupta Medical Agencies, etc. had made arrangements for refreshments at various places, due to which the artistes and eminent social people involved in the tableau made these arrangements. Appreciated openly.

Former MLA and General Secretary of All India Vaish Mahasammelan Umesh Aggarwal says that such events teach us to stay connected to our Sanatan culture. The new generation also gets an opportunity to get acquainted with our cultural concerns. He said that tableaux and drums brought from Barot, Mathura and Meerut added to the grandeur of the Shobha Yatra.

District President of Mahasammelan Mandeep Kishore Goyal says that starting from sector five, going through Chintpurni Temple, New Colony Mod, Madanpuri Road and Pataudi Chowk of Railway Road, it reached Bhuteshwar Temple, from where two and a half thousand women carrying urns leading the Shobha Yatra reached Bhuteshwar Temple. The team did

He expressed happiness that such a huge program was completed peacefully and in an orderly manner. He has also expressed his gratitude to the traders who helped in the arrangements and welcomed the Kalash and Shobha Yatra at various places and arranged for refreshments.

Follow us on Facebook 

Follow us on Youtube

Read More News

Shares:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *